Skip to main content

सुशांत सिंह राजपूत सुसाइड केस / फिल्ममेकर शेखर कपूर ने अपना बयान पुलिस को ईमेल से भेजा, कहा- वह टूट गया था और उसके साथ सौतेला बर्ताव हो रहा था


  • सुशांत सिंह राजपूत को लेकर फिल्म निर्देशक शेखर कपूर मेगा बजट मूवी 'पानी' बनाने वाले थे, लेकिन यशराज फिल्म्स के साथ सहमति नहीं बन पाने पर ये फिल्म बंद हो गई। इसी वजह से सुशांत डिप्रेशन में चले गए थे।सुशांत सिंह राजपूत को लेकर फिल्म निर्देशक शेखर कपूर मेगा बजट मूवी 'पानी' बनाने वाले थे, लेकिन यशराज फिल्म्स के साथ सहमति नहीं बन पाने पर ये फिल्म बंद हो गई। इसी वजह से सुशांत डिप्रेशन में चले गए थे।

  • मुम्बई पुलिस के सूत्रों की मानें तो शेखर कपूर ने इन सबके अलावा कई और अहम जानकारियां भी अपने ईमेल में शेयर की हैं
  • हालांकि, पुलिस चाहती है कि शेखर कपूर मुंबई आए और पूछताछ में सहयोग कर अपना बयान दर्ज करवाए

मुंबई. सुशांत सिंह राजपूत मौत मामले में मुंबई पुलिस ने फिल्मेमकर शेखर कपूर को भी समन जारी करते हुए अपना बयान रिकॉर्ड कराने के लिए कहा था। हालांकि, उन्होंने खुद ना पेश होकर अपना जवाब ईमेल के जरिए विभाग को भेज दिया। सूत्रों के मुताबिक, अपने बयान में कपूर ने बताया कि फिल्म 'पानी' के बंद हो जाने की वजह से सुशांत को काफी सदमा लगा था और वो टूटकर डिप्रेशन में चले गए थे।

शेखर के मुताबिक, इसे लेकर सुशांत काफी रोते थे, क्योंकि इस फिल्म के लिए उन्होंने अपने कई साल दे दिए थे और कई बड़े ऑफर भी ठुकरा दिए थे। साथ ही इसके बाद जब उन्होंने यशराज फिल्म्स से अपना कॉन्ट्रैक्ट तोड़ दिया तो इंडस्ट्री में उनके साथ सौतेला व्यवहार होने लगा था। हालांकि, पुलिस अब भी चाहती है कि वे मुंबई आएं और पूछताछ में सहयोग कर अपना बयान दर्ज करवाए।

10 साल से अधूरा है पानी का प्रोजेक्ट

सूत्रों के मुताबिक, शेखर ने अपने बयान में बताया, 'पानी मेरा ड्रीम प्रोजेक्ट था जो पिछले 10 सालों से अबतक अधूरा है और सुशांत के जाने के बाद शायद ही कोई उनकी जगह ले पाए। साल 2012-13 के दौर में 150 करोड़ की इस मेगा बजट फिल्म को बनाने के लिए यशराज फिल्म्स में आदित्य चोपड़ा और मेरी मुलाकात हुई थी और तय हुआ कि यशराज के बैनर तले साल 2014 से ये फिल्म बनेगी। इस फिल्म से हमें काफी उम्मीदें थीं।'

यशराज स्टूडियो में हुई थी पहली मुलाकात

शेखर ने अपने जवाब में लिखा, 'फिल्म की कास्ट को लेकर सुशांत से मेरी पहली मुलाकात यशराज के स्टूडियो में हुई थी। फिल्म को लेकर यशराज फिल्म्स ने प्री-प्रोडक्शन का काम शुरू किया और लगभग तय था की 150 करोड़ की ये मेगा बजट फिल्म 3 से 4 साल में पूरी हो जाएगी। प्री-प्रोडक्शन में यशराज ने तकरीबन 5 से 7 करोड़ रुपए खर्च भी किए थे और सुशांत की डेट्स भी हमने ब्लॉक कर ली थीं।'

फिल्म को लेकर पूरी तरह जुट गए थे सुशांत

कपूर ने बताया कि पानी में सुशांत गोरा का किरदार निभाने वाले थे। उन्होंने लिखा, 'फिल्म में 'गोरा' के किरदार को लेकर सुशांत इतनी लगन से जुटा हुआ था कि वो उस रोल का एडिक्ट बन गया था। वर्कशॉप के दौरान भी उसकी एक्टिंग स्किल्स में उसका जुनून और पागलपन दिख जाता था। फिल्म प्रोडक्शन से जुड़ी मीटिंग्स में भी वो मेरे और यशराज की टीम के साथ लगा रहता और बारीक से बारीक जानकारी को समझता था।'

'पानी के लिए उसने कई फिल्में भी छोड़ दी थीं'

शेखर ने कहा, 'फिल्म को लेकर हुई मुलाकातों के दौरान धीरे-धीरे हम काफी करीबी दोस्त बन गए और निजी जीवन की बातों के साथ-साथ क्वांटम फिजिक्स से लेकर हर तरह की बातें करने लगे। अपने रोल को लेकर वो हर छोटी-छोटी बातें पूछता था। उसने इस प्रोजेक्ट के लिए कई फिल्में भी छोड़ दी थीं।'

फिल्म के कंटेंट को लेकर मेरी और आदित्य की सोच अलग थी

'इन सब बातों के बीच फिल्म के कंटेंट को लेकर मेरी और निर्माता आदित्य चोपड़ा की सोच बिल्कुल अलग-अलग थी। आपस में हम एक-दूसरे से सहमत भी नहीं थे। 'पानी' शायद इसी वजह से नहीं बन पाई कि शायद मैं इस कहानी के किसी रूप या पक्ष में किसी तरह का बदलाव नहीं चाहता था।'

आखिरकार फिल्म बनाने का प्लान कैंसिल हो गया

'दो क्रिएटिव जब साथ बैठते हैं तो उनकी सोच अलग-अलग हो सकती है। मेरी और आदित्य चोपड़ा की सोच भी अलग-अलग थी। जिसके बाद मैं इस फिल्म को बनाने को लेकर यशराज प्रोडक्शन से अलग हो गया और तय हुआ कि फिल्म नहीं बनेगी।'

जब सुशांत को ये बात पता चली तो वो टूट गया

'फिल्म नहीं बनने की जानकारी जब सुशांत को पता चली तो वो टूट गया। इसकी वजह ये थी कि वो शायद मुझसे भी ज्यादा फिल्म में डूब चुका था। उस शाम को वो मेरे पास आया और मुझे पकड़कर मेरे कंधे पर सिर रखकर फूट-फूट कर रोने लगा।'

'उसे रोता देख मैं भी टूट जाता था और मैं भी रोने लगता था। फिल्म के बंद होने का सदमा उसे इतना ज्यादा लगा था कि वो डिप्रेशन में जाने लगा। मैंने उसे संभालने की कोशिश भी की और उसे समझाया कि ये किरदार वो पर्दे पर जिएगा और इसमें निराश होने की जरूरत नहीं है, बस सही वक्त का इंतजार करे।'

पानी के लिए मैं अन्य निर्माताओं के पास भी गया

'यशराज फिल्म्स के हटने के बाद इस मेगा बजट फिल्म को बनाने के लिए मैंने कई अन्य प्रोडक्शन हाउस और लोगों से भी संपर्क किया था लेकिन कोई भी निर्माता सुशांत के साथ इस फिल्म को बनाने के लिए तैयार नहीं हुआ।'

सुशांत के साथ कोई फिल्म बनाने को तैयार नहीं था

'दिक्कत ये थी कि या तो फिल्म का बजट परेशानी में डाल रहा था या फिर सुशांत को लेकर कोई इतना बड़ा चांस या रिस्क नहीं लेना चाहता था। वे लोग किसी बड़े स्टार के साथ इसे बनाने के लिए तैयार थे। और ये सारी बातें सुशांत को डिप्रेशन में डाल रही थीं। मैंने सोचा कि उसके साथ कोई दूसरी फिल्म बना लूं, लेकिन वो भी नहीं हो पाया।'

'वो खुद को उबार नहीं पा रहा था'

'पानी के नहीं बनने उसे डिप्रेशन हुआ जो उसकी प्रोफेशनल जिंदगी में भी परेशानी की वजह बन गया। क्योंकि वो एक एक्टर था जो इंडस्ट्री के बिजनेस को नहीं समझ पा रहा था। कुछ समय बाद मैंने भी भारत छोड़ दिया और लंदन चला गया लेकिन वो लगातार मेरे टच में रहा। हालांकि, मैं उससे 'पानी' को लेकर बातें नहीं करता था, क्योंकि वो इससे खुद को उबार नहीं पा रहा था।'

यशराज से अलग होते ही सौतेला बर्ताव शुरू हो गया

'कुछ समय बाद जब हम मिले तो तब तक सुशांत यशराज से अपना कॉन्ट्रेक्ट तोड़ चुका था। उसने मुझे बताया था कि किस तरह अब उसके साथ इंडस्ट्री में सौतेला बर्ताव हो रहा है और सुनियोजित तरीके से उसके हाथ अच्छी फिल्में नहीं लगने दी जा रही हैं। मैंने उसे आश्वस्त किया था कि वो बस काम करता रहे और अच्छी स्क्रिप्ट पर ध्यान दे। उसे उबरने का मौका जल्द मिलेगा।'

'मुझे पता था कि वो डिप्रेशन और उलझन में है'

कपूर ने बताया, 'पिछले 6-8 महीनों से मैं उसके संपर्क में नहीं था, लेकिन मुझे पता था कि वो डिप्रेशन और उलझन में है। हालांकि, मुझे उसके डीप डिप्रेशन में जाने की पूरी जानकारी नहीं थी और जब उसके आत्महत्या करने की जानकारी मिली तो मैं शॉक्ड रह गया।'

पुलिस कर रही शेखर के मुंबई आने का इंतजार

मुम्बई पुलिस के सूत्रों की मानें तो शेखर कपूर ने इन सबके अलावा कई और अहम जानकारियां भी अपने ईमेल में शेयर की हैं। हालांकि, उनके फैक्ट्स वेरिफाई किए जाने बाकी हैं, इसलिए उन्हें साझा नहीं किया जा सकता। यही वजह है कि पुलिस चाहती है कि शेखर कपूर मुंबई आए और पूछताछ में सहयोग कर अपना बयान दर्ज करवाएं।

Comments

Popular posts from this blog

मकर संक्रांति 2021 तिथि, शुभ मुहूर्त | मकर संक्रांति क्यों मनाई जाती है?

मकर संक्रांति मकर संक्रांति  का भारतीय धार्मिक परम्परा में विशेष महत्व है, क्योंकि इस दिन सूर्य धनु राशि को छोड़ कर मकर राशि में प्रवेश कर उत्तरायण में आता है। शास्त्रों के अनुसार यह सकारात्मक ऊर्जा का प्रतीक है और इसीलिए इस दिन जप, तप, दान, स्नान का विशेष महत्व है।  मकर संक्रांति  परंपरागत रूप से 14 जनवरी या 15 जनवरी को मनाई जाती आ रही है।  मकर संक्रांति  में ‘मकर’ शब्द मकर राशि को इंगित करता है जबकि ‘संक्रांति’ का अर्थ संक्रमण अर्थात प्रवेश करना है।  मकर संक्रांति  के दिन सूर्य धनु राशि से मकर राशि में प्रवेश करता है। एक राशि को छोड़कर दूसरे में प्रवेश करने की इस विस्थापन क्रिया को संक्रांति कहते हैं। शास्त्रों के नियम के अनुसार रात में संक्रांति होने पर अगले दिन भी संक्रांति मनाई जाती है। मकर संक्रांति  के दिन सूर्य दक्षिणायन से अपनी दिशा बदलकर उत्तरायण हो जाता है अर्थात सूर्य उत्तर दिशा की ओर बढ़ने लगता है, जिससे दिन की लंबाई बढ़नी और रात की लंबाई छोटी होनी शुरू हो जाती है। भारत में इस दिन से बसंत ऋतु की शुरुआत मानी जाती है। अत:  मकर संक्रांति  को उत्तरायण के नाम से भी जाना जाता है। तम

बड़ी ख़बर। महाराजपुरा पुलिस को मिली बड़ी सफलता

ग्वालियर - बड़ी ख़बर। महाराजपुरा पुलिस को मिली बड़ी सफलता शातिर चोर पकडे 10 लाख का माल बरामद। महाराजपुरा पुलिस ने दबिश देकर पकड़ा चोरों का ग्रुप महाराजपुरा थाना प्रभारी मिर्ज़ा आसिफ बेग और उनकी टीम के द्वारा कार्यवाही की गई। महराजपुरा टीम को बड़ी सफलता हासिल हुई।  10 लाख का माल भी बरामद किया गया।  महाराजपुर टीआई मिर्जा बेग ने बताया चोरों से 6 एलसीडी 8 लैपटॉप दो होम थिएटर 6 मोबाइल फोन एक स्कूटी टेबल फैन सिलेंडर बरामद हुआ है उनसे करीब 4 चोरियों का खुलासा हुआ है करीब 10 चोरियां कि गिरोह ने हामी भरी है 

Lockdown: पूरे राज्य में फिर लॉकडाउन, सील होंगी पूरी सीमाएं

कोरोना की स्थिति गंभीर होने पर कई राज्यों में फिर लॉकडाउन की स्थिति, सभी सीमाएं भी की जा रही हैं सील...। भोपाल। मध्यप्रदेश समेत पांच राज्य एक बार फिर लॉकडाउन की तरफ बढ़ रहे हैं। मध्यप्रदेश में लगातार बढ़ते मामलों के बाद रविवार को पूरे प्रदेश में लॉकडाउन (Complete Lockdown) लगाया जा रहा है। प्रदेश में कोरोना संक्रमण (Covid 19) की समीक्षा करते हुए मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान और गृह एवं स्वास्थ्य मंत्री नरोत्तम मिश्र ने तय किया है कि अब सप्ताह में एक दिन रविवार को पूरा प्रदेश बंद रहेगा। उधर, मध्यप्रदेश के अलावा बिहार, उत्तरप्रदेश में भी लाकडाउन के आदेश जारी कर दिए गए हैं।   मध्यप्रदेश में पिछले तीन दिनों में 11 सौ से अधिक संक्रमित मरीज मिलने और जबकि 409 एक ही दिन में संक्रमित मिलने के बाद यह फैसला लिया जा रहा है इस दौरान प्रदेश की सीमाएं भी सील की जा सकती है। सिर्फ इमरजेंसी सेवाएं ही चलती रहेंगी। गृह विभाग के बाद भोपाल समेत सभी जिलों के कलेक्टर अपने-अपने जिले के लिए एडवायजरी (Advisery'guideline) जारी कर रहे हैं।   गृहमंत्री नरोत्तम मिश्र के मुताबिक इस सप्ताह में एक दिन का लाकडाउन ही