Skip to main content

India-China Face Off: भारत-चीन के बीच हुआ युद्ध, तो जानें किसकी मिसाइल है ज्यादा कारगर?


  • India-China Face Off: Ladakh सीमा पर दोनों देश बढ़ा रहे सैन्य पावर
  • चीनी मिसाइलों को जवाब देने के लिए भारत तैयार
  • दोनों देशों के पास एक से बढ़कर एक मिसाइलें, लेकिन चीन अभी आगे

नई दिल्ली। भारत-चीन ( India-China Face Off ) के बीच विवाद लगातार बढ़ता ही जा रहा है। लद्दाख ( Ladakh ) के गलवान घाटी ( Galwan Valley ) में हिंसक झड़प के बाद दोनों देशों के बीच माहौल काफी गर्म है। वहीं, वास्तविक नियंत्रण रेखा ( LAC ) पर दोनों देशों ने सैन्य शक्ति बढ़ानी शुरू कर दी है। आलम ये है कि LAC पर चीन एयरफोर्स ( Air Force ) भी काफी करीब है। वहीं, बॉर्डर से सटे इलाकों मेॆं चीनी सैनिकों की सख्या भी काफी बढ़ गई है।

चीन को माकूल जवाब देने के लिए भारत तैयार

रिपोर्ट के मुताबिक, चीन ने बॉर्डर ( India-China Border ) इलाके में कई बेस भी तैयार किए हैं, जहां से उसके लड़ाई विमान लगातार उड़ान भर रहे हैं। वहीं, चीन की इस एक्टिविटी को देखते हुए भारत ने भी अपने एयर डिफेंस सिस्टम को अलर्ट कर दिया है। LAC पर भारत ने भी सैन्य शक्ति बढ़ा दी है और अगर चीन की ओर से कोई हरकत किया जाता है तो भारत भी माकूल जवाब देने के लिए तैयार है। रिपोर्ट में कहा गया है कि भारत के पास ही दुनिया की बेस्ट एयर सिस्टम न हो, लेकिन अपनी ओर आने वाले हर मिसाइल को करारा जवाब दे सकता है। भारत का एडवांस्‍ड एयर डिफेंस (AAD) मिसाइल किसी भी एलियन ऑब्‍जेक्‍ट को उड़ाने में सक्षम है। इसी का हिस्‍सा है Akash मिसाइल। 720 किलो वजन वाला आकाश सुपरसोनिक स्पीड से चलती है और तीस किलोमीटर के दायरे में बैलिस्टिक मिसाइल्‍स को इंटरसेप्‍ट कर सकती है। इसके अलावा 18 किलोमीटर ऊंचाई तक मौजूद दुश्‍मन की मिसाइल को आकाश अपना निशाना बना सकता है।

चीन को जवाब देने के लिए भारत के पास कई मिसाइलें

वहीं, पृथ्वी एयर डिफेंस (PAD) सिस्‍टम 80 से 120 किलोमीटर तक की रेंज में किसी मिसाइल्‍स को संभाल सकता है। यह सुपरसोनिक मिसाइल आसानी से 300 किलोमीटर से 2000 किलोमीटर रेंज वाली बैलिस्टिक मिसाइल्‍स को हवा में ही ढेर कर सकती है। इस मिसाइल में लॉन्‍ग रेंज का ट्रैकिंग रडार लगा है, जो किसी भी टारगेट को लॉक करने में मदद करता है। जमीन के साथ-साथ आसमान में भी भारत के पास युद्ध करने की क्षमता है। पिछले साल ही भारत ने 17 मार्च को 'मिशन शक्ति' सफलतापूर्व पूरा किया था।

सैन्य शक्ति के मामले में China अभी भारत से आगे

बात अगर चीन की हो तो उसके पास HQ-9 भी टू-स्‍टेज मिसाइल है। इस मिसाइल का वजन करीब दो टन है और 7 मीटर लंबी है। HQ-9 चीन का मेन एयर डिफेंस सिस्‍टम है। इसके वारहेड की अधिकतम रेंज 200 किलोमीटर और स्‍पीड 4.2 मैच है। रूस की मदद से चीन ने इस मिसाइल को छोटा बना लिया है। हालांकि, इस मिसाइल में एक कमी है। मिसाइल का थ्रस्‍ट वेक्‍टर कंट्रोल एक साइड से नजर आता है। वहीं, HQ-18 मिसाइल सिस्‍टम की रेंज 100 किलोमीटर तक है। कुछ मिसाइलें 150 किलोमीटर तक भी मार कर सकती है। इसका रडार एक साथ 200 टारगेट्स को डिटेक्‍ट कर सकता है। इसके अलावा चीन के पास S-400 Triumf की एक खेप भी मौजूद है। वहीं, इस साल फरवरी में रूस ने दूसरी खेप चीन को भेजी थी। यानी दोनों देशों के पास मजबूत एयर‍ डिफेंस सिस्‍टम है। हालांकि लॉन्‍च रेंज में भारत अभी थोड़ा चीन से पीछे है। लेकिन, भारत के पास जल्द ही S-400 आने वाली है, जिससे उसकी स्थिति और मजबूत हो जाएगी। इसके अलावा भारत के पास स्पाइडल और स्वदेशी अश्विन भी है, जो बेहद की खतरनाक है। ऐसा माना जा रहा है कि भारत जल्द ही चीन को सैन्य शक्ति के मामले में टक्कर दे सकता है।

Comments

Popular posts from this blog

मकर संक्रांति 2021 तिथि, शुभ मुहूर्त | मकर संक्रांति क्यों मनाई जाती है?

मकर संक्रांति मकर संक्रांति  का भारतीय धार्मिक परम्परा में विशेष महत्व है, क्योंकि इस दिन सूर्य धनु राशि को छोड़ कर मकर राशि में प्रवेश कर उत्तरायण में आता है। शास्त्रों के अनुसार यह सकारात्मक ऊर्जा का प्रतीक है और इसीलिए इस दिन जप, तप, दान, स्नान का विशेष महत्व है।  मकर संक्रांति  परंपरागत रूप से 14 जनवरी या 15 जनवरी को मनाई जाती आ रही है।  मकर संक्रांति  में ‘मकर’ शब्द मकर राशि को इंगित करता है जबकि ‘संक्रांति’ का अर्थ संक्रमण अर्थात प्रवेश करना है।  मकर संक्रांति  के दिन सूर्य धनु राशि से मकर राशि में प्रवेश करता है। एक राशि को छोड़कर दूसरे में प्रवेश करने की इस विस्थापन क्रिया को संक्रांति कहते हैं। शास्त्रों के नियम के अनुसार रात में संक्रांति होने पर अगले दिन भी संक्रांति मनाई जाती है। मकर संक्रांति  के दिन सूर्य दक्षिणायन से अपनी दिशा बदलकर उत्तरायण हो जाता है अर्थात सूर्य उत्तर दिशा की ओर बढ़ने लगता है, जिससे दिन की लंबाई बढ़नी और रात की लंबाई छोटी होनी शुरू हो जाती है। भारत में इस दिन से बसंत ऋतु की शुरुआत मानी जाती है। अत:  मकर संक्रांति  को उत्तरायण के नाम से भी जाना जाता है। तम

रफत वारसी भाजपा अल्पसंख्यक मोर्चा प्रदेश अध्यक्ष बनाये गए

मध्य प्रदेश भाजपा अल्पसंख्यक मोर्चे की जवाबदारी प्रदेश के  युवा व वरिष्ठ नेता श्री रफत वारसी के हाथों में  मध्य प्रदेश भाजपा प्रदेश अध्यक्ष श्री विष्णु दत्त शर्मा ने मध्य प्रदेश के भाजपा संगठन का विस्तार किया है जिसमें मोर्चे के नए प्रदेश अध्यक्षों की भी नियुक्ति की गई है जिसमें मध्य प्रदेश के वरिष्ठ व युवा नेता श्री रफत वारसी को भाजपा अल्पसंख्यक मोर्चा का प्रदेश अध्यक्ष बनाकर भाजपा अल्पसंख्यक मोर्चा की जवाबदारी सौंपी गई है श्री रफत वारसी मध्यप्रदेश में एक उभरते हुए अल्पसंख्यक चेहरे है और भाजपा आलाकमान ने नए चेहरे के रूप में श्री वारसी साहब को यह नई जवाबदारी सौंपी है जिससे मध्य प्रदेश में भाजपा अल्पसंख्यक मोर्चा और मजबूत होने की संभावना बढ़ गई है वर्तमान में भाजपा अल्पसंख्यक मोर्चा में नई और युवा पीढ़ी के लोग अधिकतर काम कर रहे हैं और वारसी साहब के प्रदेश अध्यक्ष बनाए जाने से इसमें और अधिक वृद्धि होगी क्योंकि नए प्रदेश अध्यक्ष श्री वारसी साहब मध्यप्रदेश में अल्पसंख्यक समाज में अपनी गहरी पैठ रखते हैं उनके प्रदेश अध्यक्ष बनाए जाने से भारतीय जनता पार्टी अल्पसंख्यक मोर्चा बेहतर

शहीद हसमत वारसी जी के सुपुत्र रफत वारसी को मिला प्रदेश में महत्वपूर्ण पद

    शहीद हसमत वारसी जी  के सुपुत्र रफत वारसी को मिला प्रदेश में महत्वपूर्ण  पद          वी डी शर्मा जी ने गले लगा कर दी बधाई      मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान जी से आशीर्वाद लेते हुए       वी डी  शर्मा जी भाजपा प्रदेश अध्यक्ष  ने दिया आशीर्वाद          अपनी माँ परवीन वारसी जी से दुआयें  लेते हुए रफत वारसी ने किया पदभार ग्रहण 17 जनवरी 2021 को भाजपा अल्पसंख्यक मोर्चा के नव नियुक्त प्रदेश अध्यक्ष रफत वारसी ने किया पदभार ग्रहण रफत वारसी ने कहा मुस्लिम समाज में कई तरह के भ्रम हैँ जिन्हे दूर करने के लिए एक दल के साथ पुरे प्रदेश का भ्रमण करेंगे ! साथ ही उन्होंने पदभार ग्रहण में आये हुए  सभी  साथियों का तहे दिल से शुक्रिया  अदा किआ 

SHOP WITH US Apparel & Accessories