Skip to main content

जंगली जानवरों ने पाला था इस असली मोगली को | Real Story of Mowgli in Hindi


मोगली ( Real Story of Mowgli in Hindi) का नाम सुनते ही आप सबकी बचपन की यादें ताजा हो गई होगी। एक ऐसा बच्चा जो जंगल में रहता है और जंगली जानवरों से बात कर सकता था। मोगली का कार्टून कॅरेक्टर हम सभी के दिल में एक खास स्थान रखता है। इस कहानी के मुख्य किरदार मोगली पर आधारित अभी तक बहुत से फिल्में, कहानियां और कार्टून्स बन चुके हैं। हालाँकि इस कार्टून कॅरेक्टर को लेखक रुडयार्ड किपलिंग ने पहलीबार 1894 में “The Jungle Book” नाम के एक रचना में प्रस्तुत किया था। लेकिन आप में से बहुत से लोग यह नहीं जानते होंगे कि मोगली का ये किरदार ऑथर रुडयार्ड किपलिंग ने एक असली इंसान पर आधारित होकर बनाया था। आज की हमारी यह कहानी उसी असली मोगली पर आधारित है।

 

Mowgli Real Story in Hindi

सन 1867 में उत्तर प्रदेश के बुलंद शहर में स्तिथ जंगलो में शिकारियों के एक ग्रुप को एक अजीब सा दृश्य देखने को मिला। उन्होंने देखा कि भेड़ियों के एक झुंड के बीच में एक लगभग 5-6 साल का बच्चा बैठा हुआ है। लेकिन वह भेड़िये बच्चे को हानि नहीं पहुंचा रहे थे।वह  बच्चा उन भेडियों के साथ ऐसे खेल रहा था मानो वह किसी इंसान के साथ खेल रहा हो। शिकारियों की इस ग्रुप ने बच्चे को भेडियों से अलग करने का फैसला किया और भेडियों के झुंड पर हमला बोल दिया। उन्होंने उस गुफा को भी आग लगा दी जिसमे कुछ भेड़िये जाकर छिप गए थे।


इस हमले में एक भेड़िये को मार गिराया गया और काफी मसक्कत करने के बाद उस बच्चे को भेड़िये से अलग  कर दिया गया। शिकारियों ने बाद में इस बच्चे को आग्रा के सिकेंद्र मिशन ओर्फनेज में दे दिया ताकि उस बच्चे की ठीक तरह से देखभाल की जा सके। लेकिन अनाथालय को इस तरह के बच्चे को कैसे हैंडल किया जाए इसका कोई ज्ञान नहीं था।

 

यहाँ इस बच्चे  को नाम दिया गया दीना सनीचर (Dina Sanichar) । दीना सनीचर यु तो अनाथालय के बाकि बच्चो के साथ ही रहता था लेकिन वह बाकी बच्चों से बिलकुल अलग था। वह बाकि बच्चों की तरह बोल नहीं पाता था सिर्फ जानवरों की तरह आवाज निकालकर अपनी बातों को समझाने की कोशिश करता। वह अपने दोनों हाथो और पैरों का इस्तिमाल करके बिलकुल किसी चार पैरों वाला जानवरों की तरह चला फिरा करता था और जमीन पर गिरे पानी को भी जीव से चाट-चाटकर पिया करता था।


Real Story of Mowgli in Hindi
Real Story of Mowgli in Hindi | Dina Sanichar

किसी गिलास या कप में पानी दिए जाने पर दीना यह समझ नहीं पाता था कि उसका क्या करना है। वह सिर्फ और सिर्फ कच्चा मांस और मछली ही खाया करता था। दीना ने शुरुवाती कई सालों तक पके हुए खाने को छुया तक नहीं था और खाना परोसे जाने पर किसी जानवर की ही तरह सीधा थाली में मुँह डालकर खाने को खाता था।

उसकी इन हरकतों से यह साफ पता चलता था कि दीना काफी दिनों से जंगल में रह रहा था ओर वहाँ उसे जानवरों नेही पाल पोषकर बढ़ा किया था। अनाथालय के लोगों ने दीना को फिरसे इंसानो जैसा बर्ताव सिखाने की बहुत कोशिशें की लेकिन उन्हें कोई खास कामियाबी नहीं मिल सकी।

कुछ सालों के परिशिक्षण के बाद दीना पका हुआ खाना खाना तो सिख गया लेकिन खाने को खाने से पहले किसी जानवर की तरह खाने को सूंघने की दीना की आदत को वह लोग कभी बदल नहीं पाए। इसके अलावा अनेको प्रयासों के बावजूद दीना कभी भी बोलना नहीं सिख पाया। वह हमेशा से ही जानवरों जैसी आवाजे निकाला करता था और इन्ही आवाजों के जरिए लोगों को अपनी बात समझाने की कोशिश करता।

दीना 12 साल की आयु तक आते-आते कपड़े पहनना और दो पैरो पर चलना तो सिख गया लेकिन वह तब भी सोते वक्त  भेड़ियों की जैसे ही पोजीशन में ही सोया करता था। अपनी छोटी सी उम्र में दीना इंसानो वाले बहुत कम ही गुण सिख पाया और हजारों कोशिशों के बावजूद वह अपनी जंगली प्रगति को पूरी तरह बदलने में कामियाब रहा। पर जीते जी उसने किसी को भी अपना दोस्त नहीं बनाया। उसने कभी किसी इंसान के प्रति किसी भी तरह का लगाव नहीं दिखाया। हालाँकि अनाथालय में रहने वाले एक कुत्ते से उसकी काफी अच्छी दोस्ती थी और वह दिन भर उसी कुत्ते के साथ खेलना और रहना पसंद करता था।

इसके विपरीत दीना ने इंसानो जैसी कुछ बुरी आदतों ने भी जन्म लिया, जैसे की धूम्रपान करने की आदत। वह धूम्रपान करने का इतना आदि हो चूका था कि आखिरकार इसी के कारण 35 साल की आयु में दीना की मौत हो गई। 

तो यह थी असली मोगली यानि दीना सनीचर की कहानी। हमें उम्मीद है आपको इस इस कहानी से बहुत कुछ जानकारी जरूर मिली होगी। अगर आपको यह कहानी “Real Story of Mowgli in Hindi” अच्छी लगी तो इसे शेयर जरूर करे और कमेंट करके अपना विचार भी हमें जरूर बताइए।

Comments

Popular posts from this blog

मकर संक्रांति 2021 तिथि, शुभ मुहूर्त | मकर संक्रांति क्यों मनाई जाती है?

मकर संक्रांति मकर संक्रांति  का भारतीय धार्मिक परम्परा में विशेष महत्व है, क्योंकि इस दिन सूर्य धनु राशि को छोड़ कर मकर राशि में प्रवेश कर उत्तरायण में आता है। शास्त्रों के अनुसार यह सकारात्मक ऊर्जा का प्रतीक है और इसीलिए इस दिन जप, तप, दान, स्नान का विशेष महत्व है।  मकर संक्रांति  परंपरागत रूप से 14 जनवरी या 15 जनवरी को मनाई जाती आ रही है।  मकर संक्रांति  में ‘मकर’ शब्द मकर राशि को इंगित करता है जबकि ‘संक्रांति’ का अर्थ संक्रमण अर्थात प्रवेश करना है।  मकर संक्रांति  के दिन सूर्य धनु राशि से मकर राशि में प्रवेश करता है। एक राशि को छोड़कर दूसरे में प्रवेश करने की इस विस्थापन क्रिया को संक्रांति कहते हैं। शास्त्रों के नियम के अनुसार रात में संक्रांति होने पर अगले दिन भी संक्रांति मनाई जाती है। मकर संक्रांति  के दिन सूर्य दक्षिणायन से अपनी दिशा बदलकर उत्तरायण हो जाता है अर्थात सूर्य उत्तर दिशा की ओर बढ़ने लगता है, जिससे दिन की लंबाई बढ़नी और रात की लंबाई छोटी होनी शुरू हो जाती है। भारत में इस दिन से बसंत ऋतु की शुरुआत मानी जाती है। अत:  मकर संक्रांति  को उत्तरायण के नाम से भी जाना जाता है। तम

बड़ी ख़बर। महाराजपुरा पुलिस को मिली बड़ी सफलता

ग्वालियर - बड़ी ख़बर। महाराजपुरा पुलिस को मिली बड़ी सफलता शातिर चोर पकडे 10 लाख का माल बरामद। महाराजपुरा पुलिस ने दबिश देकर पकड़ा चोरों का ग्रुप महाराजपुरा थाना प्रभारी मिर्ज़ा आसिफ बेग और उनकी टीम के द्वारा कार्यवाही की गई। महराजपुरा टीम को बड़ी सफलता हासिल हुई।  10 लाख का माल भी बरामद किया गया।  महाराजपुर टीआई मिर्जा बेग ने बताया चोरों से 6 एलसीडी 8 लैपटॉप दो होम थिएटर 6 मोबाइल फोन एक स्कूटी टेबल फैन सिलेंडर बरामद हुआ है उनसे करीब 4 चोरियों का खुलासा हुआ है करीब 10 चोरियां कि गिरोह ने हामी भरी है 

Lockdown: पूरे राज्य में फिर लॉकडाउन, सील होंगी पूरी सीमाएं

कोरोना की स्थिति गंभीर होने पर कई राज्यों में फिर लॉकडाउन की स्थिति, सभी सीमाएं भी की जा रही हैं सील...। भोपाल। मध्यप्रदेश समेत पांच राज्य एक बार फिर लॉकडाउन की तरफ बढ़ रहे हैं। मध्यप्रदेश में लगातार बढ़ते मामलों के बाद रविवार को पूरे प्रदेश में लॉकडाउन (Complete Lockdown) लगाया जा रहा है। प्रदेश में कोरोना संक्रमण (Covid 19) की समीक्षा करते हुए मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान और गृह एवं स्वास्थ्य मंत्री नरोत्तम मिश्र ने तय किया है कि अब सप्ताह में एक दिन रविवार को पूरा प्रदेश बंद रहेगा। उधर, मध्यप्रदेश के अलावा बिहार, उत्तरप्रदेश में भी लाकडाउन के आदेश जारी कर दिए गए हैं।   मध्यप्रदेश में पिछले तीन दिनों में 11 सौ से अधिक संक्रमित मरीज मिलने और जबकि 409 एक ही दिन में संक्रमित मिलने के बाद यह फैसला लिया जा रहा है इस दौरान प्रदेश की सीमाएं भी सील की जा सकती है। सिर्फ इमरजेंसी सेवाएं ही चलती रहेंगी। गृह विभाग के बाद भोपाल समेत सभी जिलों के कलेक्टर अपने-अपने जिले के लिए एडवायजरी (Advisery'guideline) जारी कर रहे हैं।   गृहमंत्री नरोत्तम मिश्र के मुताबिक इस सप्ताह में एक दिन का लाकडाउन ही