Skip to main content

ये है LIC की खास पॉलिसी, हर दिन 200 रुपये बचाकर पाएं 22 लाख, इतने साल तक नहीं देना होगा प्रीमियम


16 साल पर राजेश को कोई प्रीमिमय देने की जरूरत नहीं होगी, लेकिन उन्हें पैसे मिलने शुरू हो जाएंगे. उन्हें सम एस्योर्ड अर्थात 10 लाख का 45 परसेंट यानी कि 4.50 लाख रुपये मिलेंगे. जब पॉलिसी के 18 वर्ष पूरे हो जाएंगे तो दूसरे मनीबैक के रूप में राजेश को फिर 4.5 लाख रुपये मिलेंगे

ये है LIC की खास पॉलिसी, हर दिन 200 रुपये बचाकर पाएं 22 लाख, इतने साल तक नहीं देना होगा प्रीमियम
भारतीय जीवन बीमा निगम (सांकेतिक तस्वीर)

आज हम बात करेंगे एलआईसी के प्लान बीमा श्री के बारे में. यह एक नॉन लिंक्ड प्लान है, अर्थात इसका शेयर मार्केट से कोई ताल्लुक नहीं है. इस प्लान की सबसे खास बात है कि इसमें जितने रुपये का बीमा होता है, उस पर गारंटी के साथ बोनस मिलता है. पहले पांच साल में हर हजार रुपये पर 50 रुपये का बोनस मिलता है. आपका बेसिक सम एस्योर्ड जितने का रहेगा उसका 5 परसेंट बोनस के रूप में जुड़ता जाएगा. इसके बाद 6 साल से लेकर जब तक पॉलिसी का पीरियड है, तब तक 55 रुपये प्रति हजार के हिसाब से बोनस मिलेगा.

यह एक मनी बैक पॉलिसी है जिसमें कुछ पैसे पॉलिसी पीरियड के बीच में ही मिलते हैं. यह एक प्रोफिट प्लान है जिसमें एलआईसी को मुनाफा होता है तो उसका कुछ हिस्सा लॉयल्टी ए़डिशन के रूप में बीमाधारक को देती है. एक एक लिमिटेड प्रीमियम पेमेंट प्लान है जिसके अंतर्गत जितने साल की पॉलिसी होती है, उससे कम वर्ष के लिए प्रीमियम चुकाना होता है. यह पॉलिसी चार ऑप्शन में उपलब्ध है जिसमें 14 साल से लेकर 20 साल तक के लिए प्लान ले सकते हैं. यह पॉलिसी को कम से कम 8 वर्ष और अधिकतम 55 वर्ष के लोग ले सकते हैं. कम से कम 10 लाख रुपये की पॉलिसी लेने का नियम है. अधिकतम जितने रुपये का चाहें यह पॉलिसी खरीद सकते हैं

4 साल कम दें प्रीमियम

इस पॉलिसी में 4 साल कम प्रीमियम का भुगतान करना होता है. अगर 14 साल के लिए पॉलिसी लेते हैं तो 10 साल प्रीमियम चुकाना होगा, 20 साल के लिए पॉलिसी लेते हैं तो 16 साल प्रीमियम चुकाना होगा. पॉलिसी के अंतर्गत डेथ बेनिफिट भी मिलता है जिसके दो ऑप्शन हैं. अगर पॉलिसी लेने के 5 साल के अंतर्गत बीमा धारक की मौत हो जाती है तो जितने रुपये का बीमा है उसका 125 परसेंट और बोनस भी मिलता है. अगर 5 साल बाद निधन होता है तो नॉमिनी को सम एस्योर्ड का 125 परसेंट, लॉयल्टी एडीशन और गारंटीड एडीशन भी मिलता है.

इस उदाहरण से समझें

इसे एक साधारण उदाहरण से समझते हैं. 30 साल के राजेश ने 10 लाख की पॉलिसी खरीदी है. राजेश ने यह पॉलिसी 20 साल के लिए खरीदी है, इसलिए नियम के मुताबिक राजेश को 16 साल ही प्रीमियम चुकाना होगा. अगर राजेश को हर महीने प्रीमियम चुकाना है तो उन्हें 6,109 रुपये चुकाना होगा. हर दिन के बचत के लिहाज से यह 200 रुपये के आसपास होगा. अगर राजेश सालाना प्रीमियम चुकाना चाहते हैं तो उन्हें 71,847 रुपये चुकाने होंगे. इस तरह राजेश को पूरे पॉलिसी के दौरान 11,51,133 रुपये चुकाने होंगे.

22 लाख 45 हजार का रिटर्न

16 साल पर राजेश को कोई प्रीमिमय देने की जरूरत नहीं होगी, लेकिन उन्हें पैसे मिलने शुरू हो जाएंगे. उन्हें सम एस्योर्ड अर्थात 10 लाख का 45 परसेंट यानी कि 4.50 लाख रुपये मिलेंगे. जब पॉलिसी के 18 वर्ष पूरे हो जाएंगे तो दूसरे मनीबैक के रूप में राजेश को फिर 4.5 लाख रुपये मिलेंगे. पॉलिसी के 20 साल होने पर यह मैच्योर हो जाएगी और राजेश को एकमुश्त बड़ी राशि मिलेगी. सबसे पहले सम एस्योर्ड का बचा हुआ 10 परसेंट यानी कि 1 लाख रुपये, इसके बाद गारंटीड एडीशन 8.55 लाख, उसके बाद लॉयल्टी एडीशन के रूप में 3.90 लाख रुपये मिलेंगे. इस तरह राजेश को कुल 13 लाख 45 हजार रुपये मिलेंगे. कुल रिटर्न जोड़ दें तो यह 22 लाख 45 हजार रुपये होगा

Comments

Popular posts from this blog

मकर संक्रांति 2021 तिथि, शुभ मुहूर्त | मकर संक्रांति क्यों मनाई जाती है?

मकर संक्रांति मकर संक्रांति  का भारतीय धार्मिक परम्परा में विशेष महत्व है, क्योंकि इस दिन सूर्य धनु राशि को छोड़ कर मकर राशि में प्रवेश कर उत्तरायण में आता है। शास्त्रों के अनुसार यह सकारात्मक ऊर्जा का प्रतीक है और इसीलिए इस दिन जप, तप, दान, स्नान का विशेष महत्व है।  मकर संक्रांति  परंपरागत रूप से 14 जनवरी या 15 जनवरी को मनाई जाती आ रही है।  मकर संक्रांति  में ‘मकर’ शब्द मकर राशि को इंगित करता है जबकि ‘संक्रांति’ का अर्थ संक्रमण अर्थात प्रवेश करना है।  मकर संक्रांति  के दिन सूर्य धनु राशि से मकर राशि में प्रवेश करता है। एक राशि को छोड़कर दूसरे में प्रवेश करने की इस विस्थापन क्रिया को संक्रांति कहते हैं। शास्त्रों के नियम के अनुसार रात में संक्रांति होने पर अगले दिन भी संक्रांति मनाई जाती है। मकर संक्रांति  के दिन सूर्य दक्षिणायन से अपनी दिशा बदलकर उत्तरायण हो जाता है अर्थात सूर्य उत्तर दिशा की ओर बढ़ने लगता है, जिससे दिन की लंबाई बढ़नी और रात की लंबाई छोटी होनी शुरू हो जाती है। भारत में इस दिन से बसंत ऋतु की शुरुआत मानी जाती है। अत:  मकर संक्रांति  को उत्तरायण के नाम से भी जाना जाता है। तम

बड़ी ख़बर। महाराजपुरा पुलिस को मिली बड़ी सफलता

ग्वालियर - बड़ी ख़बर। महाराजपुरा पुलिस को मिली बड़ी सफलता शातिर चोर पकडे 10 लाख का माल बरामद। महाराजपुरा पुलिस ने दबिश देकर पकड़ा चोरों का ग्रुप महाराजपुरा थाना प्रभारी मिर्ज़ा आसिफ बेग और उनकी टीम के द्वारा कार्यवाही की गई। महराजपुरा टीम को बड़ी सफलता हासिल हुई।  10 लाख का माल भी बरामद किया गया।  महाराजपुर टीआई मिर्जा बेग ने बताया चोरों से 6 एलसीडी 8 लैपटॉप दो होम थिएटर 6 मोबाइल फोन एक स्कूटी टेबल फैन सिलेंडर बरामद हुआ है उनसे करीब 4 चोरियों का खुलासा हुआ है करीब 10 चोरियां कि गिरोह ने हामी भरी है 

Lockdown: पूरे राज्य में फिर लॉकडाउन, सील होंगी पूरी सीमाएं

कोरोना की स्थिति गंभीर होने पर कई राज्यों में फिर लॉकडाउन की स्थिति, सभी सीमाएं भी की जा रही हैं सील...। भोपाल। मध्यप्रदेश समेत पांच राज्य एक बार फिर लॉकडाउन की तरफ बढ़ रहे हैं। मध्यप्रदेश में लगातार बढ़ते मामलों के बाद रविवार को पूरे प्रदेश में लॉकडाउन (Complete Lockdown) लगाया जा रहा है। प्रदेश में कोरोना संक्रमण (Covid 19) की समीक्षा करते हुए मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान और गृह एवं स्वास्थ्य मंत्री नरोत्तम मिश्र ने तय किया है कि अब सप्ताह में एक दिन रविवार को पूरा प्रदेश बंद रहेगा। उधर, मध्यप्रदेश के अलावा बिहार, उत्तरप्रदेश में भी लाकडाउन के आदेश जारी कर दिए गए हैं।   मध्यप्रदेश में पिछले तीन दिनों में 11 सौ से अधिक संक्रमित मरीज मिलने और जबकि 409 एक ही दिन में संक्रमित मिलने के बाद यह फैसला लिया जा रहा है इस दौरान प्रदेश की सीमाएं भी सील की जा सकती है। सिर्फ इमरजेंसी सेवाएं ही चलती रहेंगी। गृह विभाग के बाद भोपाल समेत सभी जिलों के कलेक्टर अपने-अपने जिले के लिए एडवायजरी (Advisery'guideline) जारी कर रहे हैं।   गृहमंत्री नरोत्तम मिश्र के मुताबिक इस सप्ताह में एक दिन का लाकडाउन ही