Skip to main content

टायर दीवार Earthship Construction Tyre Wall



जैसा की हम जानते है टेक्नोलॉजी दिन-प्रति दिन आगे की और ही चलते जा रही है मोबाइल फ़ोन से ले के उड़ने वाली कार तक ऐसे में अपना सिविल इंजीनियरिंग कैसे पीछे रह सकता है।
आज में जिस टेक्नोलॉजी के बारे में शेयर करूँगा वो थोड़ा अजीब ज़रूर लगेगा लेकिन हां इस टेक्नोलॉजी का इस्तेमाल दूसरे देशों में दिन प्रति दिन बढ़ता ही जा रहा है।





Earthship Construction Tyre Wall in Hindi

Earthship construction

दोस्तों जिस टेक्नोलॉजी के बारे में बताऊंगा वो “Earthship construction’ इसका ही पार्ट है जिसमे हम ‘Tyre’ का इस्तेमाल दिवार (Wall) बनाने के लिए करते है ये काफी अच्छी तकनीक है क्युकी हम टायर को फेकते नहीं बल्कि इसका इस्तेमाल अपने काम के लिए करते है।
दरअसल ‘Earthship Construction” ये एक बिल्डिंग तकनीक है जिसकी खोज एक अमेरिकन आर्किटेक्ट “Mike Reynolds” ने की थी वैसे तो वो बोहोत ही प्रसिद्ध थे क्युकी वो रोज रोज नए नए तकनीक ढूंढते फिरते थे वो सोचा करते थे की कैसे हम ख़राब बस्तुए को अपने इस्तेमाल में लाये।

फिर उन्होंने एक दिन सोचा की क्यों न हम ‘Tiers’ का इस्तेमाल अपने कंस्ट्रक्शन में करे क्युकी न तो ये ख़राब होती है और न ही जल्दी गलती है और ये आसानी से मिल जाते है और ये ‘Tyres’ वैसे भी इस्तेमाल के बाद फेक ही दिए जाते है
अभी तक तो हम लोगो ने जाना की टायर का दिवार भी बन सकता है पर है ये बनता कैसे है ये जानने की इच्छा तो जरूर होगी ही।
तो चलिए जानते है की How to Build an ‘Earthship Wall’

How To Build Tyre Wall (टायर की दिवार कैसे बनती है)

Check your soil

अगर हमे ‘Tires Wall’ बनाना है सबसे पहले एक ऐसी मिटटी का पता लगाना होगा जो की रेतीली मिटटी(Sandy Soil) गीले और चिपचिपा मिट्टी न हो क्युकी हम मृदा(Soil) को इस टायर में भरना होगा।
टायर में मिटटी भरना उतना आसान तो नहीं पर मुश्किल भी नहीं होगा हम कोशिश करेंगे की मिटटी को दबा के भरा जाये टायर में।

Earthship Construction Tyre Wall

Plug, Pat and Pound

सबसे पहले उस स्थान को साफ करना होगा जहा पे हमको ‘Earthship Wall’ बनाने की जरूरत है उस स्थान को खाली करने के साथ साथ हमको कुछ Leveling करने की भी जरूरत है ताकि हमारा सतह एक दम बराबर हो जाये और सारे Tiers सही से सेट हो जाये।
जैसे ही Leveling हो जाती है इसके बाद हमे कोई भी Extra Materials की जरूरत नहीं है जैसे की Gravels and Sandstone etc. अब हमको सिर्फ इसपर टायर्स को बिछाना है।

जैसे ही आप अपना पहला टायर बिछाना शुरू करते हैं, आपको छेद को प्लग करने का एक तरीका ढूंढना होगा ताकि ताकि पानी जमा न हो । हमारे पास Carpet Tiles का ढेर था जो पिछले मालिक ने हमारे घर के नीचे छोड़ा था, जो पूरी तरह फिट बैठता है, इसलिए हमने उनका इस्तेमाल किया। हमने इस क्षेत्र से अतिरिक्त पानी (Extra Water) को बहार बाहर निकालने क लिए हमने 20 MM एक का एक पाइप लगा के छोड़ दिया ताकि पानी का आवागमन हो सके।

Plug the Gaps

जब हमने एक-एक करके सारे टायर को लगा लिया तो अब कुछ गैप(Gap) बच गया था जिसको हमने भरना पड़ता है गैप(Gap) को भरने से पहले हमे कुछ Hard Wires यानि तार की मदद से हमने सारे टायर को एक दूसरे से कसके लपेट दिया और उसके बाद हमने बचे हुए Holes को कंक्रीट की मद्दद से भर दिया।

Earthship Construction Tyre Wall in Hindi

The Finishing Touches

सब कुछ होने के बाद हमारी दिवार तो बन ही चुकी थी पर ये देखने में अच्छी नहीं थी तब उसने सोचा क्यों न हम इसको एक अच्छा सा लुक देदे तो लुक दे दिया गया और ये कुछ ऐसी लग रही थी।

Earthship Construction Tyre Wall in Hindi

Comments

Popular posts from this blog

मकर संक्रांति 2021 तिथि, शुभ मुहूर्त | मकर संक्रांति क्यों मनाई जाती है?

मकर संक्रांति मकर संक्रांति  का भारतीय धार्मिक परम्परा में विशेष महत्व है, क्योंकि इस दिन सूर्य धनु राशि को छोड़ कर मकर राशि में प्रवेश कर उत्तरायण में आता है। शास्त्रों के अनुसार यह सकारात्मक ऊर्जा का प्रतीक है और इसीलिए इस दिन जप, तप, दान, स्नान का विशेष महत्व है।  मकर संक्रांति  परंपरागत रूप से 14 जनवरी या 15 जनवरी को मनाई जाती आ रही है।  मकर संक्रांति  में ‘मकर’ शब्द मकर राशि को इंगित करता है जबकि ‘संक्रांति’ का अर्थ संक्रमण अर्थात प्रवेश करना है।  मकर संक्रांति  के दिन सूर्य धनु राशि से मकर राशि में प्रवेश करता है। एक राशि को छोड़कर दूसरे में प्रवेश करने की इस विस्थापन क्रिया को संक्रांति कहते हैं। शास्त्रों के नियम के अनुसार रात में संक्रांति होने पर अगले दिन भी संक्रांति मनाई जाती है। मकर संक्रांति  के दिन सूर्य दक्षिणायन से अपनी दिशा बदलकर उत्तरायण हो जाता है अर्थात सूर्य उत्तर दिशा की ओर बढ़ने लगता है, जिससे दिन की लंबाई बढ़नी और रात की लंबाई छोटी होनी शुरू हो जाती है। भारत में इस दिन से बसंत ऋतु की शुरुआत मानी जाती है। अत:  मकर संक्रांति  को उत्तरायण के नाम से भी जाना जाता है। तम

रफत वारसी भाजपा अल्पसंख्यक मोर्चा प्रदेश अध्यक्ष बनाये गए

मध्य प्रदेश भाजपा अल्पसंख्यक मोर्चे की जवाबदारी प्रदेश के  युवा व वरिष्ठ नेता श्री रफत वारसी के हाथों में  मध्य प्रदेश भाजपा प्रदेश अध्यक्ष श्री विष्णु दत्त शर्मा ने मध्य प्रदेश के भाजपा संगठन का विस्तार किया है जिसमें मोर्चे के नए प्रदेश अध्यक्षों की भी नियुक्ति की गई है जिसमें मध्य प्रदेश के वरिष्ठ व युवा नेता श्री रफत वारसी को भाजपा अल्पसंख्यक मोर्चा का प्रदेश अध्यक्ष बनाकर भाजपा अल्पसंख्यक मोर्चा की जवाबदारी सौंपी गई है श्री रफत वारसी मध्यप्रदेश में एक उभरते हुए अल्पसंख्यक चेहरे है और भाजपा आलाकमान ने नए चेहरे के रूप में श्री वारसी साहब को यह नई जवाबदारी सौंपी है जिससे मध्य प्रदेश में भाजपा अल्पसंख्यक मोर्चा और मजबूत होने की संभावना बढ़ गई है वर्तमान में भाजपा अल्पसंख्यक मोर्चा में नई और युवा पीढ़ी के लोग अधिकतर काम कर रहे हैं और वारसी साहब के प्रदेश अध्यक्ष बनाए जाने से इसमें और अधिक वृद्धि होगी क्योंकि नए प्रदेश अध्यक्ष श्री वारसी साहब मध्यप्रदेश में अल्पसंख्यक समाज में अपनी गहरी पैठ रखते हैं उनके प्रदेश अध्यक्ष बनाए जाने से भारतीय जनता पार्टी अल्पसंख्यक मोर्चा बेहतर

शहीद हसमत वारसी जी के सुपुत्र रफत वारसी को मिला प्रदेश में महत्वपूर्ण पद

    शहीद हसमत वारसी जी  के सुपुत्र रफत वारसी को मिला प्रदेश में महत्वपूर्ण  पद          वी डी शर्मा जी ने गले लगा कर दी बधाई      मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान जी से आशीर्वाद लेते हुए       वी डी  शर्मा जी भाजपा प्रदेश अध्यक्ष  ने दिया आशीर्वाद          अपनी माँ परवीन वारसी जी से दुआयें  लेते हुए रफत वारसी ने किया पदभार ग्रहण 17 जनवरी 2021 को भाजपा अल्पसंख्यक मोर्चा के नव नियुक्त प्रदेश अध्यक्ष रफत वारसी ने किया पदभार ग्रहण रफत वारसी ने कहा मुस्लिम समाज में कई तरह के भ्रम हैँ जिन्हे दूर करने के लिए एक दल के साथ पुरे प्रदेश का भ्रमण करेंगे ! साथ ही उन्होंने पदभार ग्रहण में आये हुए  सभी  साथियों का तहे दिल से शुक्रिया  अदा किआ 

SHOP WITH US Apparel & Accessories