Skip to main content

4 हजार करोड़ की कीमत का है ज्योतिरादित्य सिंधिया का जय विलास पैलेस, दिवारों पर लगा है सोना चांदी, जहां चोरों ने लगाई सेंध


रात को दो-तीन बजे के बीच चोर इस महल में छत के रास्ते घुसे थे, फोरेंसिक टीम ने महल के उस हिस्से से जरूरी सबूत जब्त कर लिए हैं

4 हजार करोड़ की कीमत का है ज्योतिरादित्य सिंधिया का जय विलास पैलेस, दिवारों पर लगा है सोना चांदी, जहां चोरों ने लगाई सेंध
Jai Vilas Palace

ग्वालियर (Gwalior) के महाराज के महल में चोरों ने सेंधमारी कर दी है. खरब है कि बीजेपी के राज्यसभा सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया (Jyotiraditya Scindia) के मशहूर जय विलास पैलेस (jai vilas palace) के रानी महल में चोरों ने सेंधमारी की है. सिंधिया जब ग्वालियर में होते हैं तो अपने परिवार के साथ इसी महल में रहते हैं, जहां हमेशा कड़ी सुरक्षा होती है. सिंधिया राज परिवार के इस महल में हुई सेंधमारी की खबर से पुलिस महकमे में हड़कंप मच गया है. जिले के सीनियर पुलिस अधिकारियों समेत पुलिस की टीम मौके पर हैं, और इस मामले की जांच चल रही है. सेंधमारी करने वाले चोरों को पकड़ने के लिए डॉग स्क्वॉड और फोरेंसिक विशेषज्ञों की मदद भी ली जा रही है.

जानकारी के मुताबिक रात को दो-तीन बजे के बीच चोर इस महल में छत के रास्ते घुसे थे, फोरेंसिक टीम ने महल के उस हिस्से से जरूरी सबूत जब्त कर लिए हैं. पुलिस को प्राथमिक जांच में अंदेशा है कि चोर किसी डॉक्यूमेंट की तलाश में रानी महल में घुसे थे. इसलिए रिकॉर्ड रूम के अंदर सारे डॉक्यूमेंट इधर-उधर बिखरे हुए मिले थे. जो पंखा और कम्प्यूटर का CPU चोर लेकर गए थे. वो पुलिस को महल की छत पर ही पड़ा मिला है.

12 लाख वर्ग फीट से भी बड़ा है पैलेस

सिंधिया खानदान का ये पुश्तैनी महल 12 लाख वर्ग फीट से भी ज्यादा बड़ा है. इस खूबसूरत महल की कीमत अब तकरीबन 4000 करोड़ रुपए  आंकि जाती है. जय विलास पैलेस को देखने के लिए देश विदेश के पर्यटक आते हैं. तो अब इस आलिशान महल की खासियत भी जान लीजिये-

महल की छत पर रखे गए थे दस हाथी

साल 1874 में श्रीमंत जयासी राव सिंधिया ने जय विलास पैलेस का निर्माण करवाया था. उस वक्त इसकी कीमत एक करोड़ रुपए आंकी गई थी. ग्वालियर का ये राजमहल तकरीबन 40 एकड़ जमीन पर फैला हुआ है. इसके निर्माण में सैकड़ों विदेशी कारीगरों ने भी काम किया था. ये महल भारत में यूरोपियन आर्किटेक्ट और डिजाइनिंग का बेहतरीन नमूना है. इसके निर्माण का काम नाइटहुड की उपाधि से सम्मानित ‘सर माइकल फिलोसे’ ने किया था. कहते हैं कि इसकी छत की मजबूती का अंदाजा लगाने के लिए महल की छत पर 10 हाथियों को 7 दिन तक रखा गया था.

पैलेस में 400 से ज्यादा कमरे

इस महल में 400 से ज्यादा कमरे हैं. और इसका दरबार हॉल काफी मशहूर है. साल 1964 में इस पैलेस के एक हिस्से में जीवाजीराव सिंधिया म्यूजियम खोला गया, पैलेस के 400 में 40 कमरे इस म्यूजियम के लिए रखे गए हैं. महल के अंदर की गैलरी, उस समय के चलन के हथियार, 19वीं सदी में इस्तेमाल होने वाली डोली-बग्घी और कई दिलचस्प चीज़ें यहां रखी गई हैं. महल की दीवारों में सोने चांदी से नक्काशी की गई है, यहां दो बड़े और शानदार झूमर लगे हैं जिनका वजन 3500 किलो है, जो पर्यटकों को काफी आकर्षित करते हैं. महल में सिंधिया शासन काल के कई अहम दस्तावेज और कलाकृतियां मौजूद है, औरंगजेब और शाहजहां की तलवार भी यहां रखी गई हैं. इसके अलावा इटली और फ्रांस की कलाकृतियां और जहाज भी यहां रखे गए हैं. इस महल की ट्रस्टी ज्योतिरादित्य सिंधिया की पत्नी प्रियदर्शनी राजे सिंधिया हैं.

Comments

Popular posts from this blog

मकर संक्रांति 2021 तिथि, शुभ मुहूर्त | मकर संक्रांति क्यों मनाई जाती है?

मकर संक्रांति मकर संक्रांति  का भारतीय धार्मिक परम्परा में विशेष महत्व है, क्योंकि इस दिन सूर्य धनु राशि को छोड़ कर मकर राशि में प्रवेश कर उत्तरायण में आता है। शास्त्रों के अनुसार यह सकारात्मक ऊर्जा का प्रतीक है और इसीलिए इस दिन जप, तप, दान, स्नान का विशेष महत्व है।  मकर संक्रांति  परंपरागत रूप से 14 जनवरी या 15 जनवरी को मनाई जाती आ रही है।  मकर संक्रांति  में ‘मकर’ शब्द मकर राशि को इंगित करता है जबकि ‘संक्रांति’ का अर्थ संक्रमण अर्थात प्रवेश करना है।  मकर संक्रांति  के दिन सूर्य धनु राशि से मकर राशि में प्रवेश करता है। एक राशि को छोड़कर दूसरे में प्रवेश करने की इस विस्थापन क्रिया को संक्रांति कहते हैं। शास्त्रों के नियम के अनुसार रात में संक्रांति होने पर अगले दिन भी संक्रांति मनाई जाती है। मकर संक्रांति  के दिन सूर्य दक्षिणायन से अपनी दिशा बदलकर उत्तरायण हो जाता है अर्थात सूर्य उत्तर दिशा की ओर बढ़ने लगता है, जिससे दिन की लंबाई बढ़नी और रात की लंबाई छोटी होनी शुरू हो जाती है। भारत में इस दिन से बसंत ऋतु की शुरुआत मानी जाती है। अत:  मकर संक्रांति  को उत्तरायण के नाम से भी जाना जाता है। तम

रफत वारसी भाजपा अल्पसंख्यक मोर्चा प्रदेश अध्यक्ष बनाये गए

मध्य प्रदेश भाजपा अल्पसंख्यक मोर्चे की जवाबदारी प्रदेश के  युवा व वरिष्ठ नेता श्री रफत वारसी के हाथों में  मध्य प्रदेश भाजपा प्रदेश अध्यक्ष श्री विष्णु दत्त शर्मा ने मध्य प्रदेश के भाजपा संगठन का विस्तार किया है जिसमें मोर्चे के नए प्रदेश अध्यक्षों की भी नियुक्ति की गई है जिसमें मध्य प्रदेश के वरिष्ठ व युवा नेता श्री रफत वारसी को भाजपा अल्पसंख्यक मोर्चा का प्रदेश अध्यक्ष बनाकर भाजपा अल्पसंख्यक मोर्चा की जवाबदारी सौंपी गई है श्री रफत वारसी मध्यप्रदेश में एक उभरते हुए अल्पसंख्यक चेहरे है और भाजपा आलाकमान ने नए चेहरे के रूप में श्री वारसी साहब को यह नई जवाबदारी सौंपी है जिससे मध्य प्रदेश में भाजपा अल्पसंख्यक मोर्चा और मजबूत होने की संभावना बढ़ गई है वर्तमान में भाजपा अल्पसंख्यक मोर्चा में नई और युवा पीढ़ी के लोग अधिकतर काम कर रहे हैं और वारसी साहब के प्रदेश अध्यक्ष बनाए जाने से इसमें और अधिक वृद्धि होगी क्योंकि नए प्रदेश अध्यक्ष श्री वारसी साहब मध्यप्रदेश में अल्पसंख्यक समाज में अपनी गहरी पैठ रखते हैं उनके प्रदेश अध्यक्ष बनाए जाने से भारतीय जनता पार्टी अल्पसंख्यक मोर्चा बेहतर

शहीद हसमत वारसी जी के सुपुत्र रफत वारसी को मिला प्रदेश में महत्वपूर्ण पद

    शहीद हसमत वारसी जी  के सुपुत्र रफत वारसी को मिला प्रदेश में महत्वपूर्ण  पद          वी डी शर्मा जी ने गले लगा कर दी बधाई      मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान जी से आशीर्वाद लेते हुए       वी डी  शर्मा जी भाजपा प्रदेश अध्यक्ष  ने दिया आशीर्वाद          अपनी माँ परवीन वारसी जी से दुआयें  लेते हुए रफत वारसी ने किया पदभार ग्रहण 17 जनवरी 2021 को भाजपा अल्पसंख्यक मोर्चा के नव नियुक्त प्रदेश अध्यक्ष रफत वारसी ने किया पदभार ग्रहण रफत वारसी ने कहा मुस्लिम समाज में कई तरह के भ्रम हैँ जिन्हे दूर करने के लिए एक दल के साथ पुरे प्रदेश का भ्रमण करेंगे ! साथ ही उन्होंने पदभार ग्रहण में आये हुए  सभी  साथियों का तहे दिल से शुक्रिया  अदा किआ 

SHOP WITH US Apparel & Accessories