Skip to main content

उत्तर प्रदेश के प्रमुख मेले और उत्सव


मेले का नामस्थान
रामनवमी मेलाअयोध्या में
शाकंभरी देवी का मेलासहारनपुर में
गोविंद सागर मेलाअंबेडकरनगर में
राम बारातआगरा
खिचड़ी मेलागोरखपुर
श्रावणी मेलाफर्रुखाबाद
सोरो मेलाकासगंज
रामनगरिया मेलाफर्रुखाबाद
रामायण मेलाचित्रकूट
कैलाश मेलाआगरा (प्रतिवर्ष श्रावण के तीसरे सोमवार को)
परिक्रमा मेलाअयोध्या
कबीर मेलामगहर ( संत कबीर नगर में)
देवी पाटन मेलाबलरामपुर
कालिंजर मेलाबांदा
बल सुंदरी देवी मेलाअनूपशहर
गोला गोकर्ण नाथ मेलालखीमपुर खीरी
ढाई घाट मेलाशाहजहांपुर
मकनपुर मेलाफर्रुखाबाद
देवा मेलाबाराबंकी
नौचंदी मेलामेरठ
गढ़मुक्तेश्वर मेलाहापुड़
कुंभ मेलाप्रयाग
बटेश्वर मेलाआगरा
नैमिषारण्य मेलानैमिषारण्य, सीतापुर
कम्पिल मेलाबांदा
सैयद सालार मेलाबहराइच
देवछठ मेलादाऊजी ( मथुरा)
नवरात्रि मेलाआगरा
गोविंद साहब मेलाअतरौलिया (आजमगढ़)

प्रमुख महोत्सव

  • आयुर्वेद महोत्सव –  झांसी
  • आगरा महोत्सव – आगरा
  • बिठूर गंगा महोत्सव –  कानपुर
  • वरुणा महोत्सव – वाराणसी
  • कजली महोत्सव –  महोबा
  • होली का महोत्सव –  मथुरा
  • त्रिवेणी महोत्सव –  इलाहाबाद
  • गंगा महोत्सव –  वाराणसी
  • वाराणसी पर्यटन उत्सव –  वाराणसी
  • लखनऊ महोत्सव –  लखनऊ

महत्वपूर्ण याद रखने योग्य बाते

  • उत्तर प्रदेश में प्रतिवर्ष लगभग 2250 मेले आयोजित किये जाते हैं ।
  • सर्वाधिक मेले मथुरा (86), कानपुर – हमीरपुर (79), झांसी (78), आगरा (72) तथा फतेहपुर (70) में होते हैं।
  • उत्तर प्रदेश पर्यटन विभाग द्वारा प्रतिवर्ष लखनऊ, आगरा तथा वाराणसी नगरों में महोत्सव का आयोजन किया जाता है।
  • हिन्दू – मुस्लिम एकता के प्रतीक “सुलहकुल उत्सव” का आयोजन आगरा में किया जाता है।
  • अयोध्या परिक्रमा का आयोजन रामजन्मभूमि (अयोध्या) में किया जाता है।
  • उत्तर प्रदेश में विश्व का सबसे बड़ा मेला कुम्भ मेला प्रयाग में लगता है।
  • उत्तर प्रदेश में सबसे काम मेले पीलीभीत जिले में लगते हैं।
  • दादरी के पशु मेले का आयोजन बलिया में किया जाता है।

Comments

Popular posts from this blog

मकर संक्रांति 2021 तिथि, शुभ मुहूर्त | मकर संक्रांति क्यों मनाई जाती है?

मकर संक्रांति मकर संक्रांति  का भारतीय धार्मिक परम्परा में विशेष महत्व है, क्योंकि इस दिन सूर्य धनु राशि को छोड़ कर मकर राशि में प्रवेश कर उत्तरायण में आता है। शास्त्रों के अनुसार यह सकारात्मक ऊर्जा का प्रतीक है और इसीलिए इस दिन जप, तप, दान, स्नान का विशेष महत्व है।  मकर संक्रांति  परंपरागत रूप से 14 जनवरी या 15 जनवरी को मनाई जाती आ रही है।  मकर संक्रांति  में ‘मकर’ शब्द मकर राशि को इंगित करता है जबकि ‘संक्रांति’ का अर्थ संक्रमण अर्थात प्रवेश करना है।  मकर संक्रांति  के दिन सूर्य धनु राशि से मकर राशि में प्रवेश करता है। एक राशि को छोड़कर दूसरे में प्रवेश करने की इस विस्थापन क्रिया को संक्रांति कहते हैं। शास्त्रों के नियम के अनुसार रात में संक्रांति होने पर अगले दिन भी संक्रांति मनाई जाती है। मकर संक्रांति  के दिन सूर्य दक्षिणायन से अपनी दिशा बदलकर उत्तरायण हो जाता है अर्थात सूर्य उत्तर दिशा की ओर बढ़ने लगता है, जिससे दिन की लंबाई बढ़नी और रात की लंबाई छोटी होनी शुरू हो जाती है। भारत में इस दिन से बसंत ऋतु की शुरुआत मानी जाती है। अत:  मकर संक्रांति  को उत्तरायण के नाम से भी जाना जाता है। तम

रफत वारसी भाजपा अल्पसंख्यक मोर्चा प्रदेश अध्यक्ष बनाये गए

मध्य प्रदेश भाजपा अल्पसंख्यक मोर्चे की जवाबदारी प्रदेश के  युवा व वरिष्ठ नेता श्री रफत वारसी के हाथों में  मध्य प्रदेश भाजपा प्रदेश अध्यक्ष श्री विष्णु दत्त शर्मा ने मध्य प्रदेश के भाजपा संगठन का विस्तार किया है जिसमें मोर्चे के नए प्रदेश अध्यक्षों की भी नियुक्ति की गई है जिसमें मध्य प्रदेश के वरिष्ठ व युवा नेता श्री रफत वारसी को भाजपा अल्पसंख्यक मोर्चा का प्रदेश अध्यक्ष बनाकर भाजपा अल्पसंख्यक मोर्चा की जवाबदारी सौंपी गई है श्री रफत वारसी मध्यप्रदेश में एक उभरते हुए अल्पसंख्यक चेहरे है और भाजपा आलाकमान ने नए चेहरे के रूप में श्री वारसी साहब को यह नई जवाबदारी सौंपी है जिससे मध्य प्रदेश में भाजपा अल्पसंख्यक मोर्चा और मजबूत होने की संभावना बढ़ गई है वर्तमान में भाजपा अल्पसंख्यक मोर्चा में नई और युवा पीढ़ी के लोग अधिकतर काम कर रहे हैं और वारसी साहब के प्रदेश अध्यक्ष बनाए जाने से इसमें और अधिक वृद्धि होगी क्योंकि नए प्रदेश अध्यक्ष श्री वारसी साहब मध्यप्रदेश में अल्पसंख्यक समाज में अपनी गहरी पैठ रखते हैं उनके प्रदेश अध्यक्ष बनाए जाने से भारतीय जनता पार्टी अल्पसंख्यक मोर्चा बेहतर

शहीद हसमत वारसी जी के सुपुत्र रफत वारसी को मिला प्रदेश में महत्वपूर्ण पद

    शहीद हसमत वारसी जी  के सुपुत्र रफत वारसी को मिला प्रदेश में महत्वपूर्ण  पद          वी डी शर्मा जी ने गले लगा कर दी बधाई      मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान जी से आशीर्वाद लेते हुए       वी डी  शर्मा जी भाजपा प्रदेश अध्यक्ष  ने दिया आशीर्वाद          अपनी माँ परवीन वारसी जी से दुआयें  लेते हुए रफत वारसी ने किया पदभार ग्रहण 17 जनवरी 2021 को भाजपा अल्पसंख्यक मोर्चा के नव नियुक्त प्रदेश अध्यक्ष रफत वारसी ने किया पदभार ग्रहण रफत वारसी ने कहा मुस्लिम समाज में कई तरह के भ्रम हैँ जिन्हे दूर करने के लिए एक दल के साथ पुरे प्रदेश का भ्रमण करेंगे ! साथ ही उन्होंने पदभार ग्रहण में आये हुए  सभी  साथियों का तहे दिल से शुक्रिया  अदा किआ 

SHOP WITH US Apparel & Accessories