West Bengal: कैलाश विजयवर्गीय को Z सिक्योरिटी के साथ मिली बुलेट प्रूफ कार, BJP नेताओं पर हमले का असर

 West Bengal में BJP नेताओं पर हो रहे हमले का दिखा असर

  • बीजेपी ने प्रदेश चुनाव प्रभारी और महसचिव कैलाश विजयवर्गीय की सुरक्षा में किया इजाफा\
  • कैलाश विजयवर्गीय को जेड सुरक्षा के साथ मिलेगी बुलेप्रुफ कार


नई दिल्ली। पश्चिम बंगाल ( West Bengal ) में अगले वर्ष होने वाले विधानसभा चुनाव को लेकर बीजेपी ( BJP ) किसी भी तरह की कोई कसर नहीं छोड़ना चाहती। यही वजह है कि पार्टी नेताओं को लेकर शीर्ष नेतृत्व पूरी तरह गंभीर है। हाल में बीजेपी नेताओं पर हो रहे हमलों को देखते हुए बीजेपी ने राष्ट्रीय महासचिव और बंगाल चुनाव के प्रभारी कैलाश विजयवर्गीय ( Kailash Vijayvargiya ) की सुरक्षा में इजाफा किया है।

ममता सरकार से आर-पार की राजनीतिक लड़ाई लड़ रही बीजेपी ने कैलाश विजयवर्गीय को Z प्लस सुरक्षा देने के साथ ही अब बुलेटप्रूफ कार भी दी है। दरअसल पिछले दिनों बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा के काफीले पर हमला हुआ था।

वहीं कैलाश विजयवर्गीय की कार पर पत्थरों से हमला किया गया था, जिसमें वे बाल-बाल बचे थे। बीजेपी ने इस हमले का आरोप टीएमसी नेताओं पर लगाया था। जबकि टीएमसी नेताओं ने इन आरोपों को बेबुनियाद बताया था।


पश्चिम बंगाल में बीजेपी नेताओं पर हो रहे हमले का असर अब दिखाई देने लगा है। बीजेपी ने पार्टी के चुनाव प्रभारी और महासचिव कैलाश विजयवर्गीय की सुरक्षा बढ़ाकर Z श्रेणी की कर दी है। साथ ही उन्हें अब बुलेट प्रूफ गाड़ी भी मिलेगी।

दरअसल बीजेपी अध्यक्ष दो दिन के बंगाल दौरे पर थे। दूसरे दिन उनके काफीले पर हमला हुआ। इस हमले में जेपी नड्डा की गाड़ी पर भी पत्थर फेंके गए थे। खास बात यह है कि इसी दिन विजयवर्गीय के काफिले पर भी हमला हुआ था, जिसमें उनके हाथ में चोट आई थी।

राज्यपाल ने भेजी घटना की रिपोर्ट
इस मामले में केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह, रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह समेत कई बड़े मंत्रियों ने ममता सरकार की आलोचना की। राज्यपाल जगदीप धनखड़ ने भी इस घटना पर गृह मंत्रालय को रिपोर्ट भेजी थी, जिसके बाद गृह मंत्रालय ने राज्य के डीजीपी को दिल्ली तलब किया था।

ममता का पलटवार
मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने जोरदार पलटवार किया और स्थानीय पुलिस की चूक और टीएमसी पर लगे आरोप को बेबुनियाद बताया। यही नहीं उन्होंने गृह मंत्रालय की ओर से दिल्ली तलब किए गए डीजीपी को भेजने से ही मना कर दिया।


आपको बता दें कि पश्चिम बंगाल में अगले वर्ष अप्रैल-मई में विधानसभा चुनाव होना है। ऐसे में बीजेपी इस चुनाव को जीतने के लिए अपनी जमीन मजबूत करने में जुटी है।

Comments

Popular posts from this blog

India-China Face Off: भारत-चीन के बीच हुआ युद्ध, तो जानें किसकी मिसाइल है ज्यादा कारगर?

मकर संक्रांति 2021 तिथि, शुभ मुहूर्त | मकर संक्रांति क्यों मनाई जाती है?

बड़ी ख़बर। महाराजपुरा पुलिस को मिली बड़ी सफलता