Skip to main content

नंबर1 स्मार्ट सिटी से इंदौर दो कदम दूर:स्मार्ट सिटी के 221 में से 171 प्रोजेक्ट पूरे, 641 करोड़ फंड, खर्चे 700 करोड़

 इंदौर

स्मार्ट सिटी का रिवर फ्रंट प्रोजेक्ट। इसके फिलहाल दो फेज ही पूरे हुए हैं।

() स्मार्ट सिटी की दौड़ में शामिल देश के 100 शहरों में इंदौर एक बार फिर नं. 3 पर पहुंच गया है। इसका बड़ा कारण यह है कि इंदौर के 221 प्रोजेक्ट में से 171 पूरे हो चुके हैं। इन पर स्मार्ट सिटी 700 करोड़ खर्च कर चुकी है, जबकि फंड 641 करोड़ का ही मिला था। इंदौर स्मार्ट सिटी द्वारा 5432 करोड़ के 221 प्रोजेक्ट लिए गए हैं। इसमें 276 वर्ग किमी के पेन सिटी एरिया के साथ तीन वर्ग किमी के एबीडी एरिया को लिया गया है।

स्मार्ट सिटी के लिए 500 करोड़ का फंड केंद्र सरकार और 500 करोड़ का फंड राज्य सरकार द्वारा दिया जाना है। इनमें इंदौर स्मार्ट सिटी को अब तक 641 करोड़ रुपए मिल चुके हैं। बाकी राशि स्मार्ट सिटी कंपनी को इन्हीं प्रोजेक्ट्स से प्रॉफिट निकालकर जुटानी है। सरकार से लंबे समय से पैसों की मांग की जा रही है। लैंड मॉनिटाइजेशन का प्रोजेक्ट एमओजी लाइंस का है। इसी से स्मार्ट सिटी को आमदनी होगी।

समय पर फंड मिलता रहे तो स्मार्ट सिटी में भी नंबर 1 होंगे

  • तीसरे नंबर से ऊपर क्यों नहीं जा पा रहे?
  • दूसरे शहरों की तरह हमें भी समय पर फंड मिलता रहता तो हम भी नंबर 1 होते।
  • आईटीएमएस सहित कई प्रोजेक्ट शुरू नहीं हो सके
  • पहले लॉकडाउन फिर आचार संहिता के कारण काम धीमे हुए।

- अदिति गर्ग, सीईओ, स्मार्ट सिटी

बड़े प्रोजेक्ट्स की मैदानी हकीकत
प्रोजेक्ट मौजूदा स्थिति

700 करोड़ में एमओजी लाइंस के रीडेवलपमेंट पहला चरण शुरू के साथ बाजारों को करना था शिफ्ट
83 करोड़ की लागत से ओल्ड मराठी स्कूल का कायाकल्प 70 प्रतिशत काम पूरा
70 करोड़ में इंटीग्रेटेड ट्रैफिक मैनेजमेंट सिस्टम टेंडर नहीं दिया
61.7 करोड़ में रिवर फ्रंट का 8 सेक्शन में विकास 2 फेज ही पूरे हुए
14.03 करोड़ में गोपाल मंदिर कॉम्प्लेक्स का निर्माण 80 प्रतिशत काम पूरा
10.12 करोड़ की लागत से कबीटखेड़ी में स्लज मार्च तक होगा पूरा
हाईजिनेशन प्लांट तैयार करना
10.08 करोड़ में गोपाल मंदिर में एम्फीथिएटर 35 प्रतिशत काम पूरा
9.12 करोड़ में जिंसी हाट बाजार का कायाकल्प। 100 प्रतिशत काम पूरा
510 दुकानों को तैयार करना।
7.96 करोड़ में नेहरू पार्क का रीडेवलपमेंट 20 प्रतिशत काम पूरा
6.73 करोड़ में गोपाल मंदिर शॉपिंग कॉम्प्लेक्स 85 प्रतिशत काम पूरा
6.62 करोड़ में गांधी हॉल का जीर्णोद्धार अंदर का काम पूरा
5.17 करोड़ में छप्पन दुकान का कायाकल्प 100 प्रतिशत काम पूरा
4.42 करोड़ में हरिहरराव होलकर छत्री का जीर्णोद्धार 100 प्रतिशत काम पूरा
4.23 करोड़ में मल्हारराव होलकर छत्री का जीर्णोद्धार 80 प्रतिशत काम पूरा
3.81 करोड़ में बोलिया सरकार की छत्री का जीर्णोद्धार 95 प्रतिशत काम पूरा
2.34 करोड़ में खजराना मंदिर का ब्यूटीफिकेशन 50 प्रतिशत काम पूरा
1.80 करोड़ में इंटीग्रेटेड कंट्रोल एंड कमांड सेंटर 100 प्रतिशत काम पूरा
राजबाड़ा का जीर्णोद्धार 60 प्रतिशत ही काम
हरसिद्धि से सीपी शेखर नगर तक गार्डन बनाने 100 प्रतिशत काम पूरा का प्रोजेक्ट
सात फेज में एबीडी एरिया की प्रमुख सड़कों का 3 प्रमुख सड़कें अधूरी
चौड़ीकरण और विकास
एबीडी एरिया में छह मल्टीलेवल पार्किंग तैयार करना 2 ही बन सकी

Comments

Popular posts from this blog

मकर संक्रांति 2021 तिथि, शुभ मुहूर्त | मकर संक्रांति क्यों मनाई जाती है?

मकर संक्रांति मकर संक्रांति  का भारतीय धार्मिक परम्परा में विशेष महत्व है, क्योंकि इस दिन सूर्य धनु राशि को छोड़ कर मकर राशि में प्रवेश कर उत्तरायण में आता है। शास्त्रों के अनुसार यह सकारात्मक ऊर्जा का प्रतीक है और इसीलिए इस दिन जप, तप, दान, स्नान का विशेष महत्व है।  मकर संक्रांति  परंपरागत रूप से 14 जनवरी या 15 जनवरी को मनाई जाती आ रही है।  मकर संक्रांति  में ‘मकर’ शब्द मकर राशि को इंगित करता है जबकि ‘संक्रांति’ का अर्थ संक्रमण अर्थात प्रवेश करना है।  मकर संक्रांति  के दिन सूर्य धनु राशि से मकर राशि में प्रवेश करता है। एक राशि को छोड़कर दूसरे में प्रवेश करने की इस विस्थापन क्रिया को संक्रांति कहते हैं। शास्त्रों के नियम के अनुसार रात में संक्रांति होने पर अगले दिन भी संक्रांति मनाई जाती है। मकर संक्रांति  के दिन सूर्य दक्षिणायन से अपनी दिशा बदलकर उत्तरायण हो जाता है अर्थात सूर्य उत्तर दिशा की ओर बढ़ने लगता है, जिससे दिन की लंबाई बढ़नी और रात की लंबाई छोटी होनी शुरू हो जाती है। भारत में इस दिन से बसंत ऋतु की शुरुआत मानी जाती है। अत:  मकर संक्रांति  को उत्तरायण के नाम से भी जाना जाता है। तम

बड़ी ख़बर। महाराजपुरा पुलिस को मिली बड़ी सफलता

ग्वालियर - बड़ी ख़बर। महाराजपुरा पुलिस को मिली बड़ी सफलता शातिर चोर पकडे 10 लाख का माल बरामद। महाराजपुरा पुलिस ने दबिश देकर पकड़ा चोरों का ग्रुप महाराजपुरा थाना प्रभारी मिर्ज़ा आसिफ बेग और उनकी टीम के द्वारा कार्यवाही की गई। महराजपुरा टीम को बड़ी सफलता हासिल हुई।  10 लाख का माल भी बरामद किया गया।  महाराजपुर टीआई मिर्जा बेग ने बताया चोरों से 6 एलसीडी 8 लैपटॉप दो होम थिएटर 6 मोबाइल फोन एक स्कूटी टेबल फैन सिलेंडर बरामद हुआ है उनसे करीब 4 चोरियों का खुलासा हुआ है करीब 10 चोरियां कि गिरोह ने हामी भरी है 

Lockdown: पूरे राज्य में फिर लॉकडाउन, सील होंगी पूरी सीमाएं

कोरोना की स्थिति गंभीर होने पर कई राज्यों में फिर लॉकडाउन की स्थिति, सभी सीमाएं भी की जा रही हैं सील...। भोपाल। मध्यप्रदेश समेत पांच राज्य एक बार फिर लॉकडाउन की तरफ बढ़ रहे हैं। मध्यप्रदेश में लगातार बढ़ते मामलों के बाद रविवार को पूरे प्रदेश में लॉकडाउन (Complete Lockdown) लगाया जा रहा है। प्रदेश में कोरोना संक्रमण (Covid 19) की समीक्षा करते हुए मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान और गृह एवं स्वास्थ्य मंत्री नरोत्तम मिश्र ने तय किया है कि अब सप्ताह में एक दिन रविवार को पूरा प्रदेश बंद रहेगा। उधर, मध्यप्रदेश के अलावा बिहार, उत्तरप्रदेश में भी लाकडाउन के आदेश जारी कर दिए गए हैं।   मध्यप्रदेश में पिछले तीन दिनों में 11 सौ से अधिक संक्रमित मरीज मिलने और जबकि 409 एक ही दिन में संक्रमित मिलने के बाद यह फैसला लिया जा रहा है इस दौरान प्रदेश की सीमाएं भी सील की जा सकती है। सिर्फ इमरजेंसी सेवाएं ही चलती रहेंगी। गृह विभाग के बाद भोपाल समेत सभी जिलों के कलेक्टर अपने-अपने जिले के लिए एडवायजरी (Advisery'guideline) जारी कर रहे हैं।   गृहमंत्री नरोत्तम मिश्र के मुताबिक इस सप्ताह में एक दिन का लाकडाउन ही