Skip to main content

Kejriwal Govt ने LG के पास भेजा प्रस्ताव, साप्ताहिक बाजार-होटल-जिम खोले जाएं


  • दिल्ली सरकार ने एक बार फिर से Lieutenant Governor Anil Baijal के पास भेजा है प्रस्ताव।
  • शुक्रवार को उपराज्यपाल अनिल बैजल ने दिल्ली सरकार के आदेश को किया था खारिज।
  • बीते गुरुवार को DELHI CM ARVIND KEJRIWAL ने की थी Delhi Hotel-Weekly Markets-Gyms खोलने की घोषणा।

नई दिल्ली। दिल्ली सरकार ने उपराज्यपाल अनिल बैजल ( Lieutenant Governor Anil Baijal ) को गुरुवार को प्रस्ताव भेजकर राष्ट्रीय राजधानी में होटल ( Delhi Hotel ), जिम ( Gyms ) और साप्ताहिक बाजार ( Weekly Markets ) खोलने की सिफारिश की है। दिल्ली सरकार के सूत्रों के मुताबिक राजधानी में COVID-19 मामलों की संख्या में गिरावट का हवाला देते हुए यह प्रस्ताव भेजा है। इससे पहले दिल्ली के उपराज्यपाल अनिल बैजल ने बीते शुक्रवार को बड़ी घोषणा करते हुए मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के आदेश को खारिज कर दिया था।

इससे पहले बीते गुरुवार को दिल्ली सरकार ने रात के कर्फ्यू को समाप्त करने का फैसला लिया था। पहले यह नाइट कर्फ्यू रात 10 बजे से सुबह 5 बजे तक के लिए था। इसके अलावा दिल्ली सरकार ने ट्रायल के आधार पर साप्ताहिक बाजारों को खोलने का भी फैसला लिया था। इसके अलावा दिल्ली के होटलों का अस्पतालों से जुड़ाव खत्म होने के चलते सरकार ने होटलों में समान्य कामकाज शुरू करने करने की अनुमति देने का भी फैसला किया था।

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ( DELHI CM ARVIND KEJRIWAL ) ने गुरुवार को केंद्र सरकार द्वारा जारी अनलॉक के तीसरे चरण की गाइडलाइंस के तहत राजधानी की अर्थव्यवस्था को खोलने के लिए तमाम महत्वपूर्ण फैसले लिए थे। इतना ही नहीं पिछले कुछ दिनों में मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने लगातार कई महत्वपूर्ण फैसले लिए हैं, इनका मकसद लॉकडाउन ( Lockdown In Delhi ) के दौरान बुरी तरह से प्रभावित हुई दिल्ली की अर्थव्यवस्था को वापस पटरी पर लाना बताया जा रहा है।


इस संबंध में गुरुवार को दिल्ली सरकार ने कहा था, "ट्रायल के आधार पर एक सप्ताह तक सुबह 10 से रात 8 बजे तक दिल्ली में स्ट्रीट हॉकर्स को काम करने की अनुमति दी गई थी। आज फैसला लिया गया है कि भविष्य में सड़क पर चलने वाले फेरीवालों को भविष्य में बिना किसी समय सीमा के अंदर अपना काम करने की मंजूरी दी जाएगी। दिल्ली सरकार ने अब फैसला लिया है कि एक सप्ताह के लिए ट्रॉयल के आधार पर साप्ताहिक बाजारों को सोशल डिस्टेंसिंग और सभी आवश्यक एहतियाती उपायों के साथ काम करने की स्वीकृति दी जाती है।"इससे पहले बीते सप्ताह मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने रोजगार की तलाश कर रहे लोगों और नौकरी प्रदाता कारोबारियों के बीच तालमेल सुनिश्चित करने के लिए 'रोजगार बाजार' जॉब्स पोर्टल भी पेश किया था। जबकि रेहड़ी वालों को ट्रायल के आधार पर एक हफ्ते तक अपना काम चालू करने की अनुमति भी दी गई थी। वहीं, कोरोना वायरस संबंधित अस्पतालों से जुड़े होटलों को अलग कर दिया था, जिससे वे सामान्य ढंगे से अपना काम-धंधा चालू कर सकें।

बता दें दिल्ली में बीते 24 घंटों के भीतर कोरोना वायरस के 1,299 नए मामलों और 15 मौतों के साथ अब तक राजधानी में कुल केस ( Coronavirus Cases In Delhi ) 1,41,531 हो गए हैं। इनमें 1,27,124 लोग रिकवर हो चुके हैं, जबकि 10,348 एक्टिव केस हैं और 4,059 लोगों की मौत ( Coronavirus Deaths ) हो चुकी है।

Comments

Popular posts from this blog

मकर संक्रांति 2021 तिथि, शुभ मुहूर्त | मकर संक्रांति क्यों मनाई जाती है?

मकर संक्रांति मकर संक्रांति  का भारतीय धार्मिक परम्परा में विशेष महत्व है, क्योंकि इस दिन सूर्य धनु राशि को छोड़ कर मकर राशि में प्रवेश कर उत्तरायण में आता है। शास्त्रों के अनुसार यह सकारात्मक ऊर्जा का प्रतीक है और इसीलिए इस दिन जप, तप, दान, स्नान का विशेष महत्व है।  मकर संक्रांति  परंपरागत रूप से 14 जनवरी या 15 जनवरी को मनाई जाती आ रही है।  मकर संक्रांति  में ‘मकर’ शब्द मकर राशि को इंगित करता है जबकि ‘संक्रांति’ का अर्थ संक्रमण अर्थात प्रवेश करना है।  मकर संक्रांति  के दिन सूर्य धनु राशि से मकर राशि में प्रवेश करता है। एक राशि को छोड़कर दूसरे में प्रवेश करने की इस विस्थापन क्रिया को संक्रांति कहते हैं। शास्त्रों के नियम के अनुसार रात में संक्रांति होने पर अगले दिन भी संक्रांति मनाई जाती है। मकर संक्रांति  के दिन सूर्य दक्षिणायन से अपनी दिशा बदलकर उत्तरायण हो जाता है अर्थात सूर्य उत्तर दिशा की ओर बढ़ने लगता है, जिससे दिन की लंबाई बढ़नी और रात की लंबाई छोटी होनी शुरू हो जाती है। भारत में इस दिन से बसंत ऋतु की शुरुआत मानी जाती है। अत:  मकर संक्रांति  को उत्तरायण के नाम से भी जाना जाता है। तम

रफत वारसी भाजपा अल्पसंख्यक मोर्चा प्रदेश अध्यक्ष बनाये गए

मध्य प्रदेश भाजपा अल्पसंख्यक मोर्चे की जवाबदारी प्रदेश के  युवा व वरिष्ठ नेता श्री रफत वारसी के हाथों में  मध्य प्रदेश भाजपा प्रदेश अध्यक्ष श्री विष्णु दत्त शर्मा ने मध्य प्रदेश के भाजपा संगठन का विस्तार किया है जिसमें मोर्चे के नए प्रदेश अध्यक्षों की भी नियुक्ति की गई है जिसमें मध्य प्रदेश के वरिष्ठ व युवा नेता श्री रफत वारसी को भाजपा अल्पसंख्यक मोर्चा का प्रदेश अध्यक्ष बनाकर भाजपा अल्पसंख्यक मोर्चा की जवाबदारी सौंपी गई है श्री रफत वारसी मध्यप्रदेश में एक उभरते हुए अल्पसंख्यक चेहरे है और भाजपा आलाकमान ने नए चेहरे के रूप में श्री वारसी साहब को यह नई जवाबदारी सौंपी है जिससे मध्य प्रदेश में भाजपा अल्पसंख्यक मोर्चा और मजबूत होने की संभावना बढ़ गई है वर्तमान में भाजपा अल्पसंख्यक मोर्चा में नई और युवा पीढ़ी के लोग अधिकतर काम कर रहे हैं और वारसी साहब के प्रदेश अध्यक्ष बनाए जाने से इसमें और अधिक वृद्धि होगी क्योंकि नए प्रदेश अध्यक्ष श्री वारसी साहब मध्यप्रदेश में अल्पसंख्यक समाज में अपनी गहरी पैठ रखते हैं उनके प्रदेश अध्यक्ष बनाए जाने से भारतीय जनता पार्टी अल्पसंख्यक मोर्चा बेहतर

शहीद हसमत वारसी जी के सुपुत्र रफत वारसी को मिला प्रदेश में महत्वपूर्ण पद

    शहीद हसमत वारसी जी  के सुपुत्र रफत वारसी को मिला प्रदेश में महत्वपूर्ण  पद          वी डी शर्मा जी ने गले लगा कर दी बधाई      मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान जी से आशीर्वाद लेते हुए       वी डी  शर्मा जी भाजपा प्रदेश अध्यक्ष  ने दिया आशीर्वाद          अपनी माँ परवीन वारसी जी से दुआयें  लेते हुए रफत वारसी ने किया पदभार ग्रहण 17 जनवरी 2021 को भाजपा अल्पसंख्यक मोर्चा के नव नियुक्त प्रदेश अध्यक्ष रफत वारसी ने किया पदभार ग्रहण रफत वारसी ने कहा मुस्लिम समाज में कई तरह के भ्रम हैँ जिन्हे दूर करने के लिए एक दल के साथ पुरे प्रदेश का भ्रमण करेंगे ! साथ ही उन्होंने पदभार ग्रहण में आये हुए  सभी  साथियों का तहे दिल से शुक्रिया  अदा किआ 

SHOP WITH US Apparel & Accessories