Skip to main content

पूर्व भव के पुण्य-पाप का फल इस भव में दु:ख-सुख के रूप में मिलता है -साध्वीश्री

सभी जानते है जीव अकेला आया है, अकेला ही जाएगा। कभी सुख होता है कभी दु:ख होता है। अपने कार्य के स्वरूप ही कर्म का उदय होता है और हम कहते हैं हमने तो किसी के साथ गलत किया ही नहीं फिर भी हमारे साथ कोई घटना घटी तो क्यूं। पर यह नहीं समझते कि पूर्व जन्म में कर्मों का उदय है। यह बात साध्वी अविचलदृष्टा श्रीजी ने बुधवार काे लिमड़ावास स्थित पौषधशाला में धर्मसभा में कही। उन्होंने कहा हम इतने आलसी हो गए हैं कि पंखा, कूलर, बल्ब बिना वजह भी चल रहे हैं तो उसे उठकर बंद नहीं करते हैं। टीवी-एसी के लिए भी रिमोट आ गया है। आप उसे व्यर्थ में बंद और व्यर्थ में चालू करते हैं। उसे बंद और चालू करने की घटना में एकेन्द्रिय जीव की उत्पत्ति होती है। चालू करने पर जीव पैदा होता है और बंद करने में उसकी मृत्यु हो जाती है। श्रावक के जीवन में क्रियाकलाप करने पर हिंसा तो होती है परंतु आवश्यकता नहीं होने पर बिना विवेक जो जीवों की उत्पत्ति होती है, उससे श्रावक जीवन में कर्मों का उदय होता है।
18 दिवसीय पुण्य कलश तप आराधना आज से- मीडिया प्रभारी नमित वनवट ने बताया कि प्रवचन के अलावा अनेक धार्मिक आयोजन भी चल रहे हैं। उसी क्रम में 18 दिवसीय महाप्रभावशाली पुण्य कलश तप आराधना गुरुवार से शुरू हाेगी, जाे 26 जुलाई तक जारी रहेगी। तप के तहत 1 दिन उपवास और 1 दिन बियासना कर तप को अपने जीवन के कर्मों की निर्जरा से बचाया जा सकता है।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today


source https://www.bhaskar.com/local/mp/ujjain/nagda/news/the-fruit-of-the-virtue-and-sin-of-the-former-bhava-is-found-in-this-house-in-the-form-of-sorrow-and-happiness-sadhvishri-127494143.html

Comments

Popular posts from this blog

मकर संक्रांति 2021 तिथि, शुभ मुहूर्त | मकर संक्रांति क्यों मनाई जाती है?

मकर संक्रांति मकर संक्रांति  का भारतीय धार्मिक परम्परा में विशेष महत्व है, क्योंकि इस दिन सूर्य धनु राशि को छोड़ कर मकर राशि में प्रवेश कर उत्तरायण में आता है। शास्त्रों के अनुसार यह सकारात्मक ऊर्जा का प्रतीक है और इसीलिए इस दिन जप, तप, दान, स्नान का विशेष महत्व है।  मकर संक्रांति  परंपरागत रूप से 14 जनवरी या 15 जनवरी को मनाई जाती आ रही है।  मकर संक्रांति  में ‘मकर’ शब्द मकर राशि को इंगित करता है जबकि ‘संक्रांति’ का अर्थ संक्रमण अर्थात प्रवेश करना है।  मकर संक्रांति  के दिन सूर्य धनु राशि से मकर राशि में प्रवेश करता है। एक राशि को छोड़कर दूसरे में प्रवेश करने की इस विस्थापन क्रिया को संक्रांति कहते हैं। शास्त्रों के नियम के अनुसार रात में संक्रांति होने पर अगले दिन भी संक्रांति मनाई जाती है। मकर संक्रांति  के दिन सूर्य दक्षिणायन से अपनी दिशा बदलकर उत्तरायण हो जाता है अर्थात सूर्य उत्तर दिशा की ओर बढ़ने लगता है, जिससे दिन की लंबाई बढ़नी और रात की लंबाई छोटी होनी शुरू हो जाती है। भारत में इस दिन से बसंत ऋतु की शुरुआत मानी जाती है। अत:  मकर संक्रांति  को उत्तरायण के नाम से भी जाना जाता है। तम

रफत वारसी भाजपा अल्पसंख्यक मोर्चा प्रदेश अध्यक्ष बनाये गए

मध्य प्रदेश भाजपा अल्पसंख्यक मोर्चे की जवाबदारी प्रदेश के  युवा व वरिष्ठ नेता श्री रफत वारसी के हाथों में  मध्य प्रदेश भाजपा प्रदेश अध्यक्ष श्री विष्णु दत्त शर्मा ने मध्य प्रदेश के भाजपा संगठन का विस्तार किया है जिसमें मोर्चे के नए प्रदेश अध्यक्षों की भी नियुक्ति की गई है जिसमें मध्य प्रदेश के वरिष्ठ व युवा नेता श्री रफत वारसी को भाजपा अल्पसंख्यक मोर्चा का प्रदेश अध्यक्ष बनाकर भाजपा अल्पसंख्यक मोर्चा की जवाबदारी सौंपी गई है श्री रफत वारसी मध्यप्रदेश में एक उभरते हुए अल्पसंख्यक चेहरे है और भाजपा आलाकमान ने नए चेहरे के रूप में श्री वारसी साहब को यह नई जवाबदारी सौंपी है जिससे मध्य प्रदेश में भाजपा अल्पसंख्यक मोर्चा और मजबूत होने की संभावना बढ़ गई है वर्तमान में भाजपा अल्पसंख्यक मोर्चा में नई और युवा पीढ़ी के लोग अधिकतर काम कर रहे हैं और वारसी साहब के प्रदेश अध्यक्ष बनाए जाने से इसमें और अधिक वृद्धि होगी क्योंकि नए प्रदेश अध्यक्ष श्री वारसी साहब मध्यप्रदेश में अल्पसंख्यक समाज में अपनी गहरी पैठ रखते हैं उनके प्रदेश अध्यक्ष बनाए जाने से भारतीय जनता पार्टी अल्पसंख्यक मोर्चा बेहतर

शहीद हसमत वारसी जी के सुपुत्र रफत वारसी को मिला प्रदेश में महत्वपूर्ण पद

    शहीद हसमत वारसी जी  के सुपुत्र रफत वारसी को मिला प्रदेश में महत्वपूर्ण  पद          वी डी शर्मा जी ने गले लगा कर दी बधाई      मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान जी से आशीर्वाद लेते हुए       वी डी  शर्मा जी भाजपा प्रदेश अध्यक्ष  ने दिया आशीर्वाद          अपनी माँ परवीन वारसी जी से दुआयें  लेते हुए रफत वारसी ने किया पदभार ग्रहण 17 जनवरी 2021 को भाजपा अल्पसंख्यक मोर्चा के नव नियुक्त प्रदेश अध्यक्ष रफत वारसी ने किया पदभार ग्रहण रफत वारसी ने कहा मुस्लिम समाज में कई तरह के भ्रम हैँ जिन्हे दूर करने के लिए एक दल के साथ पुरे प्रदेश का भ्रमण करेंगे ! साथ ही उन्होंने पदभार ग्रहण में आये हुए  सभी  साथियों का तहे दिल से शुक्रिया  अदा किआ 

SHOP WITH US Apparel & Accessories