-->
कानपुर हत्याकांड / विकास दुबे का तीसरे दिन भी सुराग नहीं; उसका 25 हजार की इनामी साथी दयाशंकर अग्निहोत्री पुलिस मुठभेड़ में पकड़ा गया

कानपुर हत्याकांड / विकास दुबे का तीसरे दिन भी सुराग नहीं; उसका 25 हजार की इनामी साथी दयाशंकर अग्निहोत्री पुलिस मुठभेड़ में पकड़ा गया


  • पुलिस ने विकास दुबे के साथी दयाशंकर अग्निहोत्री को रविवार तड़के 5 बजे मुठभेड़ के बाद पकड़ लिया है। उसके पैर में गोली लगी है।पुलिस ने विकास दुबे के साथी दयाशंकर अग्निहोत्री को रविवार तड़के 5 बजे मुठभेड़ के बाद पकड़ लिया है। उसके पैर में गोली लगी है।

  • दयाशंकर गुरुवार रात को घटना के वक्त विकास दुबे के साथ मौजूद था
  • बिकरु गांव में पुलिस पार्टी पर हमले में आठ पुलिसवाले शहीद हो गए थे

कानपुर. उत्तर प्रदेश के कानपुर जिले के बिकरु गांव में 8 पुलिसवालों की हत्या के 3 दिन बाद भी गैंगस्टर विकास दुबे फरार है। इस बीच, कानपुर पुलिस ने रविवार तड़के बिकरु गांव के ही विकास के साथी और 25 हजार के इनामी दयाशंकर अग्निहोत्री को पकड़ने का दावा किया है। पुलिस की दयाशंकर के साथ कल्याणपुर इलाके में मुठभेड़ हुई। इस दौरान उसके पैर में गोली लगी है। बताया जा रहा है कि गुरुवार रात पुलिस टीम पर हमला करने वालों में विकास के साथ दयाशंकर भी शामिल था।

पुलिस अधिकारियों ने बताया कि पुलिस टीम ने दयाशंकर को एक इलाके में घेरकर सरेंडर करने के लिए कहा था। इस दौरान उसने पुलिस पर देसी तमंचे से फायरिंग कर भागने का प्रयास किया। पुलिस फायरिंग में दयाशंकर घायल हो गया। उसके कब्जे से एक तमंचा और अन्य सामान बरामद किया गया है।

इससे पहले यूपी पुलिस ने मुख्य आरोपी विकास दुबे की गिरफ्तारी पर 1 लाख रुपए इनाम घोषित कर दिया। इससे पहले विकास पर 50 हजार रुपए का इनाम रखा गया था।

यह है मामला

कानपुर जिले के चौबेपुर इलाके के राहुल तिवारी के ससुर लल्लन शुक्ला की जमीन पर विकास दुबे ने जबरन कब्जा कर लिया था। राहुल ने कोर्ट में विकास के खिलाफ केस दर्ज कराया। बीती 1 जुलाई को विकास ने साथियों के साथ मिलकर राहुल को रास्ते से उठा लिया और बंधक बनाकर पीटा। जान से मारने की धमकी भी दी। राहुल ने इसकी थाने में शिकायत की।

पूछताछ के लिए थानाध्यक्ष आरोपी विकास के घर पहुंचे। यहां विकास ने थाना प्रभारी के साथ हाथापाई कर दी। इसके बाद थानाध्यक्ष ने राहुल की शिकायत पर ध्यान नहीं दिया और खुद के साथ हुई बदसलूकी की चर्चा भी किसी से नहीं की। बाद में अधिकारियों के आदेश पर चौबेपुर थाने में विकास दुबे पर केस दर्ज हो गया। गुरुवार देर रात पुलिस दबिश देने के लिए पहुंची थी। यहां सीओ, तीन एसआई, चार कांस्टेबल शहीद हो गए थे। इसके अलावा, दो ग्रामीण, एक होमगार्ड और 4 पुलिसवाले घायल हो गए थे।

0 Response to "कानपुर हत्याकांड / विकास दुबे का तीसरे दिन भी सुराग नहीं; उसका 25 हजार की इनामी साथी दयाशंकर अग्निहोत्री पुलिस मुठभेड़ में पकड़ा गया"

Post a Comment

Slider Post