-->
Madhya Pradesh: कूनों राष्ट्रीय उद्यान में फिर से बसाए जाएंगे चीते, नवंबर में शुरू होगी देश में लाने की प्रक्रिया

Madhya Pradesh: कूनों राष्ट्रीय उद्यान में फिर से बसाए जाएंगे चीते, नवंबर में शुरू होगी देश में लाने की प्रक्रिया


अब कोरिया इलाका मध्य प्रदेश में न होकर छत्तीसगढ़ राज्य में स्थित है. 1952 में इन धब्बेदार चीतों को देश में विलुप्त जानवरों की श्रेणी में शामिल कर लिया गया था

Madhya Pradesh: कूनों राष्ट्रीय उद्यान में फिर से बसाए जाएंगे चीते, नवंबर में शुरू होगी देश में लाने की प्रक्रिया
Cheetahs

चीते को इस धरती में सबसे तेज दौड़ने वाले स्तनधारी के रूप में जाना जाता है. भारत में चीतों की प्रजाति लगभग विलुप्त हो चुकी है, लेकिन अब सरकार ने इन्हें देश में फिर स बसाने का प्लान तैयार किया है. नवंबर माह से इसकी प्रक्रिया शुरू हो जाएगी. जीतों को दक्षिण अफ्रिका से लाकर मध्य प्रदेश के श्योपुर जिले में स्थित कूनो राष्ट्रीय उद्यान (Koono National Park) में बसाया जाएगा.

गौरतलब है कि चीतों को अफ्रिका से लाने की बात काफी वर्षों से चल रही है. सब कुछ ठीक रहा तो 1952 के बाद अब एक बार फिर से देश में चीतों की शरीर में शिरहन पैदा करने वाली आवाज सुनाई देगी. भारत सरकार करीब 10 साल से इन्हें अफ्रिका से लाने की तैयारी में जुटी हुई है.

धब्बेदार चीते की प्रजाति को अंतिम बार 1947 में मध्य प्रदेश के कोरिया गांव में देखा गया था. उस समय मध्य प्रदेश और छत्तीसगढ़ का विभाजन नहीं हुआ था. अब कोरिया इलाका मध्य प्रदेश में न होकर छत्तीसगढ़ राज्य में स्थित है. 1952 में इन धब्बेदार चीतों को देश में विलुप्त जानवरों की श्रेणी में शामिल कर लिया गया था.

दक्षिण अफ्रीका से आएंगे 10 चीते

मध्य प्रदेश के वन मंत्री विजय शाह ने जानकारी देते हुए कहा कि दक्षिण अफ्रीका से मध्य प्रदेश में 10 धब्बेदार चीते लाए जांगे और इन्हें कूनो राष्ट्रीय उद्यान में बसाया जाएगा. उन्होंने यह भी बताया कि इन दस चीतों में पांच नर चीते होगें जबकि पांच मादा होंगी.

वन मंत्री ने जानकारी दी कि चीतों को बसाने की तैयारी शुरू हो गई है. राष्ट्रीय उद्यान में चीतों के लिए बाड़े बनाने का काम शुरू हो चुका है जो कि अगस्त तक पूरा हो जाएगा. उन्होंने बताया कि चीतों के स्वभाव और उनकी प्रकृति के हिसाब से यह राष्ट्रीय उद्यान उनके लिए देश में सबसे उपयुक्त स्थान है.

14 करोड़ रुपये हुए आवंटित

बता दें कि कूनों राष्ट्रीय उद्यान 750 वर्ग किलोंमीटर के दायरे में फैला हुआ है. वन मंत्री ने बताया कि प्रेदश में चीतों को बसाने के लिए वित्तीय वर्ष 2021-22 में सरकार की तरफ से 14 करोड़ आवंटित किए गए थे. उन्होंने बताया कि यह राशि मध्य प्रदेश एवं भारतीय वन्यजीव संस्थान को जून महीनें में प्राप्त हो जाएंगे

0 Response to "Madhya Pradesh: कूनों राष्ट्रीय उद्यान में फिर से बसाए जाएंगे चीते, नवंबर में शुरू होगी देश में लाने की प्रक्रिया"

Post a Comment

JOIN WHATSAPP GROUP

JOIN WHATSAPP GROUP
THE VOICE OF MP WHATSAPP GROUP

JOB ALERTS

JOB ALERTS
JOIN TELEGRAM GROUP

Slider Post

AMAZON OFFERS