Skip to main content

मध्य प्रदेश: सरकारी सिस्टम में युवाओं की कमी, साढ़े 5 लाख में 18-21 साल के सिर्फ 3,504 कर्मचारी


सरकारी पदों पर भर्तियां न होना भी सिस्टम के धीरे चलने का कारण हैं. प्रदेश के अलग-अलग विभागों को मिलाकर करीब 80 हजार पद खाली हैं

मध्य प्रदेश: सरकारी सिस्टम में युवाओं की कमी, साढ़े 5 लाख में 18-21 साल के सिर्फ 3,504 कर्मचारी
सीएम शिवराज सिंह चौहान (फाइल फोटो)

भारत के सरकारी सिस्टम को कछुए की चाल से चलने वाला माना जाता है. सिस्टम के धीरे चलने के पीछे उसमें व्याप्त भ्रष्टाचार को वजह माना जाता है. लेकिन मध्य प्रदेश (Madhya Pradesh) में भ्रष्टाचार और कर्मचारियों के काम करने के तरीके के अलावा भी वजह कई हैं. दरअसल आज के समय में जब दुनिया डिजिटल हो रही है और काम तेजी से करने की जरूरत है तब मध्य प्रदेश के सरकारी विभागों में उम्रदराज कर्मचारियों का कब्जा है. इसके साथ ही खाली पदों की भर्ती न करना भी सिस्टम के सुस्ती की वजह है.

उम्रदराज कर्मचारियों का अनुपात मध्य प्रदेश में ज्यादा है. प्रदेश में करीब 5 लाख 55 हजार कर्मचारी ऐसे हैं जो रेगुलर हैं. साल 2021 में करीब 21 हजार सरकारी कर्मचारी सेवानिवृत्त होंगे.

ये है कर्मचारियों की उम्र का अनुपात

सरकारी विभाग में काम कराने के लिए ज्यादातर युवा जाते हैं, लेकिन उनका काम करने वाले लोग उम्रदराज है. न्यूज 18 पर चली खबर के मुताबिक 18-21 साल की उम्र के सिर्फ 3,504 कर्मचारी हैं. 22-25 की उम्र के 20 हजार 54 कर्मचारी हैं. 47 हजार 407 कर्मचारी ऐसे हैं जिनकी उम्र 26 से 30 साल के बीच है, वहीं 64 हजार कर्मचारी 31-35 की उम्र के हैं. 71 हजरा 667 कर्मचारी 36 से 40 की उम्र के हैं. 80 हजार 958 कर्मचारी 41 से 45 की उम्र और 82 हजरा 041 कर्मचारी 46 से 50 की उम्र के हैं. 87 हजार कर्मचारियों की उम्र 51-55 साल के बीच है. 56 से 60 साल के बीच 75,592 कर्मचारी हैं. 60 साल से ज्यादा की उम्र के 22,544 कर्मचारी अभी सेवा में हैं.

सरकारी पद खाली

सरकारी पदों पर भर्तियां न होना भी सिस्टम के धीरे चलने का कारण हैं. प्रदेश में 40 हजार पद शिक्षकों के खाली हैं. बैकलॉग के लगभग 19,000 जगह पर भर्तियां होनी हैं. लेखपाल समेत अन्य विभागों में करीब 80 हजार से ज्यादा पद खाली हैं. बीजेपी प्रवक्ता रजनीश अग्रवाल ने कहते हैं कि एक साल में करीब 10 हजार खाली सरकारी पदों पर भर्ती हुई हैं. वहीं, कांग्रेस ने प्रवक्ता भूपेंद्र सिंह का कहना है कि शिवराज सरकार युवाओं को सरकारी नौकरी देने पर ध्यान नहीं दे रही है. सरकार संविदा पर भर्तियां करके काम चलाना चाहती हैं.

Comments

Popular posts from this blog

मकर संक्रांति 2021 तिथि, शुभ मुहूर्त | मकर संक्रांति क्यों मनाई जाती है?

मकर संक्रांति मकर संक्रांति  का भारतीय धार्मिक परम्परा में विशेष महत्व है, क्योंकि इस दिन सूर्य धनु राशि को छोड़ कर मकर राशि में प्रवेश कर उत्तरायण में आता है। शास्त्रों के अनुसार यह सकारात्मक ऊर्जा का प्रतीक है और इसीलिए इस दिन जप, तप, दान, स्नान का विशेष महत्व है।  मकर संक्रांति  परंपरागत रूप से 14 जनवरी या 15 जनवरी को मनाई जाती आ रही है।  मकर संक्रांति  में ‘मकर’ शब्द मकर राशि को इंगित करता है जबकि ‘संक्रांति’ का अर्थ संक्रमण अर्थात प्रवेश करना है।  मकर संक्रांति  के दिन सूर्य धनु राशि से मकर राशि में प्रवेश करता है। एक राशि को छोड़कर दूसरे में प्रवेश करने की इस विस्थापन क्रिया को संक्रांति कहते हैं। शास्त्रों के नियम के अनुसार रात में संक्रांति होने पर अगले दिन भी संक्रांति मनाई जाती है। मकर संक्रांति  के दिन सूर्य दक्षिणायन से अपनी दिशा बदलकर उत्तरायण हो जाता है अर्थात सूर्य उत्तर दिशा की ओर बढ़ने लगता है, जिससे दिन की लंबाई बढ़नी और रात की लंबाई छोटी होनी शुरू हो जाती है। भारत में इस दिन से बसंत ऋतु की शुरुआत मानी जाती है। अत:  मकर संक्रांति  को उत्तरायण के नाम से भी जाना जाता है। तम

रफत वारसी भाजपा अल्पसंख्यक मोर्चा प्रदेश अध्यक्ष बनाये गए

मध्य प्रदेश भाजपा अल्पसंख्यक मोर्चे की जवाबदारी प्रदेश के  युवा व वरिष्ठ नेता श्री रफत वारसी के हाथों में  मध्य प्रदेश भाजपा प्रदेश अध्यक्ष श्री विष्णु दत्त शर्मा ने मध्य प्रदेश के भाजपा संगठन का विस्तार किया है जिसमें मोर्चे के नए प्रदेश अध्यक्षों की भी नियुक्ति की गई है जिसमें मध्य प्रदेश के वरिष्ठ व युवा नेता श्री रफत वारसी को भाजपा अल्पसंख्यक मोर्चा का प्रदेश अध्यक्ष बनाकर भाजपा अल्पसंख्यक मोर्चा की जवाबदारी सौंपी गई है श्री रफत वारसी मध्यप्रदेश में एक उभरते हुए अल्पसंख्यक चेहरे है और भाजपा आलाकमान ने नए चेहरे के रूप में श्री वारसी साहब को यह नई जवाबदारी सौंपी है जिससे मध्य प्रदेश में भाजपा अल्पसंख्यक मोर्चा और मजबूत होने की संभावना बढ़ गई है वर्तमान में भाजपा अल्पसंख्यक मोर्चा में नई और युवा पीढ़ी के लोग अधिकतर काम कर रहे हैं और वारसी साहब के प्रदेश अध्यक्ष बनाए जाने से इसमें और अधिक वृद्धि होगी क्योंकि नए प्रदेश अध्यक्ष श्री वारसी साहब मध्यप्रदेश में अल्पसंख्यक समाज में अपनी गहरी पैठ रखते हैं उनके प्रदेश अध्यक्ष बनाए जाने से भारतीय जनता पार्टी अल्पसंख्यक मोर्चा बेहतर

शहीद हसमत वारसी जी के सुपुत्र रफत वारसी को मिला प्रदेश में महत्वपूर्ण पद

    शहीद हसमत वारसी जी  के सुपुत्र रफत वारसी को मिला प्रदेश में महत्वपूर्ण  पद          वी डी शर्मा जी ने गले लगा कर दी बधाई      मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान जी से आशीर्वाद लेते हुए       वी डी  शर्मा जी भाजपा प्रदेश अध्यक्ष  ने दिया आशीर्वाद          अपनी माँ परवीन वारसी जी से दुआयें  लेते हुए रफत वारसी ने किया पदभार ग्रहण 17 जनवरी 2021 को भाजपा अल्पसंख्यक मोर्चा के नव नियुक्त प्रदेश अध्यक्ष रफत वारसी ने किया पदभार ग्रहण रफत वारसी ने कहा मुस्लिम समाज में कई तरह के भ्रम हैँ जिन्हे दूर करने के लिए एक दल के साथ पुरे प्रदेश का भ्रमण करेंगे ! साथ ही उन्होंने पदभार ग्रहण में आये हुए  सभी  साथियों का तहे दिल से शुक्रिया  अदा किआ 

SHOP WITH US Apparel & Accessories