Skip to main content

एक चम्मच त्रिफला के फायदे जानकर हैरान हो जाएंगे: Triphala Churna

आयुर्वेदिक चिकित्सा का इतिहास 5,000 सालो से भी पुराना हैं प्राचीन काल से ही गंभीर से गंभीर चिकित्स्य में आयुर्वेद जड़ीबूटियों का इस्तेमाल होता आ रहा हैं। इन्हीं आयुर्वेदिक दबाइयो में से एक त्रिफला चूर्ण (Triphala Churna) है। आयुर्वेदिक दबाइयो में त्रिफला को एक खास स्थान दिया गया हैं तो अगर आप भी आयुर्वेदिक दवाओं का इस्तेमाल करते हैं आपको भी त्रिफला के बारे में पता होगा। लेकिन आज हम त्रिफला के कुछ बेहतरीन फायदे के बारे में बताएँगे।

त्रिफला क्या है ? Triphala Churna

सबसे पहले जानिए त्रिफला (Triphala) क्या हैं और कैसे बनते हैं! त्रिफला नाम का अर्थ “तीन फल” मतलब इसे तीन तरह के फलो के मिश्रण से बनाया जाता हैं, त्रिफला एक आयुर्वेदिक जड़ीबूटी का मिश्रण है जिसे आंवला, विभीतकी और हरीतकी से तैयार किया जाता है। त्रिफला शरीर को शक्ति प्रदान करने और स्वस्थ बनाए रखने में बहुत सहायक होता हैं। ये बीमारियों से भी बचाव करता है, साथ ही रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाता हैं।


त्रिफला के फायदे- Triphala Churna

वजन कम करने के लिए त्रिफला के फायदे – Benefits Of Triphala Churna for Weight Loss in Hindi

त्रिफला वजन कम करने में बहुत फायदेमंद है। अगर आप मुश्किल डाइट या एक्सरसाइज किए बिना ही अपना वजन घटाना चाहते है तो आपके लिए त्रिफला एक बहुत अच्छा विकल्प है।

हाई ब्लड प्रेशर में राहत

त्रिफला का नियमित सेवन करने से डायबेटीस, हाई ब्लड प्रेसर रोगो में आराम मिलता है। अगर आप भी डायबेटीस, हाई ब्लड प्रेसर के बढ़ते लेवल से परेशान हैं तो 3-4 gm. त्रिफला चूर्ण का सेवन रोज रात को सोने से पहले करे इससे आपको राहत मिलेगी।

कब्ज से राहत- Triphala For Constipation

त्रिफला चूर्ण के फायदे सबसे बड़ा यह हैं की त्रिफला चूर्ण कब्ज के परेशानी को कम करता हैं। आजकल के आनहेल्थी खान-पान और भागदौड़ भरी जिंदगी में ज्यादातर लोग कब्ज जैसी समस्या का शिकार हो जाते हैं, ऐसे लोगों को त्रिफला का सेवन नियमित गुनगुने पानी के साथ करना चाहिए।


आँखों की समस्या में- Triphala For Eyes

आखों की जलन, मोतियाबिंद और आँखों की रोशनी (Triphala Eye Drops) को तेज बरक़रार रखने के लिए 10 ग्राम शुद्ध देशी गाय के घी में 5 ग्राम शहद और एक चम्मच त्रिफला चूर्ण मिलाकर सेवन करें इससे फ़ायदा मिलेगा।

रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाए

रोजाना त्रिफला चूर्ण (Triphala Churna) का सेवन शरीर के रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ा देता है। अगर आपका शरीर बहुत कमजोर है तो त्रिफला चूर्ण का प्रयोग कर आप अपने शरीर का कमजोरी दूर कर सकते हैं।


मोटापे से राहत

अगर आप भी मोटापे की समस्या से परेशान हैं तो त्रिफला का सेवन आपके लिए बहुत फायदेमंद साबित हो सकता हैं। त्रिफला के गुनगुने काढ़े (Triphala Juice) में थोड़ा सा सहद शहद मिलाकर पि लें इससे मोटापा काम हो जायेगा। इसके अलावा त्रिफला चूर्ण को पानी में अच्छे से उबालकर, शहद मिलाकर पीने से यह शरीर की चर्बी को भी कम कर देता है।

सिर दर्द में गुणकारी

नीम के अंदर की छाल, हल्दी, त्रिफला, चिरायता और गिलोय को मिला कर एक मिश्रण बना ले अब उस मिश्रण को आधा लीटर पानी में उबाले, ध्यान रहे इसे 250 gm. रहने तक उबलते रहें। फिर इस काढ़ा को छानकर कुछ दिन तक सुबह और शाम के समय गुड़ के साथ सेवन करने से सिर दर्द कि समस्या दूर होती है।

त्रिफला के अन्य फायदे – Other Benefits of Triphala in Hindi

  • त्रिफला शरीर में बलगम और गैस की समस्या को कम करता है। यह अल्सर को ठीक करने में भी मदतगार हैं।
  • रात को सोने से पहले आधा चम्मच त्रिफला लें। यह शरीर के स्ट्रांग इम्युनिटी को बनाये रखता हैं।
  • अगर आपके शरीर पर पुराना कोई घाब (Triphala Churna For Skin Problem) हैं तो त्रिफला के काढ़ा बनाकर घाव धोने से घाव जल्दी भर जाता है।
  • यह खून में मौजूद ख़राब कोलेस्ट्रोल को कम करने में मदत करता है।
  • डायबिटीज और हृदय रोगी के लिए भी सहायक हैं।
  • UTI यानि पेशाब के इन्फेक्शन में त्रिफला को घी, शहद, गर्म पानी के साथ लेने से रोगीको आराम मिलता हैं।
  • त्रिफला चूर्ण 5-5 ग्राम के इस्तेमाल से खुजली,खाज, दाद रोग में लाभ देता हैं।

त्रिफला लेने के नियम – Triphala Lene ka Tarika in Hindi

सुबह का समय इसका सेवन शरीर को पोषण देता है यह शरीर में आयरन, कैल्सियम, विटामिन की कमी को दूर करता है। आप सुबह गुड़ के साथ इसका सेवन कर सकते हैं।

रात को त्रिफला लेने से पेट की सभी समस्या दूर हो जाती है। गर्म दूध के साथ रात को आप इसे ले सकते हैं। आप इसे पानी में रात भर भिगोकर या पानी के साथ मिलाकर और सुबह छानकर इसका काढ़ा बनाकार पि सकते है।

त्रिफला के नुकसान- Triphala Side Effects in Hindi

  • त्रिफला का जितना फ़ायदा हैं साथ ही त्रिफला चूर्ण के नुकसान भी हैं इस्तेमाल से पहले इन बातोंका जरूर ध्यान रखे-
  • प्रेगनेंसी और स्तनपान के दौरान महिलाये इसका इस्तेमाल न करें।
  • कुछ लोगों में इसका सेवन ज्यादा नींद लाता है।
  • 6 साल से निचे छोटे बच्चों को त्रिफला का सेबन न करने दें।
  • इसका ज्यादा मात्रा में सेबन करने से दस्त लग सकते हैं।
  • त्रिफला लेने से पहले एक विशेषज्ञ से परामर्श जरूर ले। विशेषज्ञ के सलाह के बाद ही इसका उपयोग करें।

Comments

Popular posts from this blog

मकर संक्रांति 2021 तिथि, शुभ मुहूर्त | मकर संक्रांति क्यों मनाई जाती है?

मकर संक्रांति मकर संक्रांति  का भारतीय धार्मिक परम्परा में विशेष महत्व है, क्योंकि इस दिन सूर्य धनु राशि को छोड़ कर मकर राशि में प्रवेश कर उत्तरायण में आता है। शास्त्रों के अनुसार यह सकारात्मक ऊर्जा का प्रतीक है और इसीलिए इस दिन जप, तप, दान, स्नान का विशेष महत्व है।  मकर संक्रांति  परंपरागत रूप से 14 जनवरी या 15 जनवरी को मनाई जाती आ रही है।  मकर संक्रांति  में ‘मकर’ शब्द मकर राशि को इंगित करता है जबकि ‘संक्रांति’ का अर्थ संक्रमण अर्थात प्रवेश करना है।  मकर संक्रांति  के दिन सूर्य धनु राशि से मकर राशि में प्रवेश करता है। एक राशि को छोड़कर दूसरे में प्रवेश करने की इस विस्थापन क्रिया को संक्रांति कहते हैं। शास्त्रों के नियम के अनुसार रात में संक्रांति होने पर अगले दिन भी संक्रांति मनाई जाती है। मकर संक्रांति  के दिन सूर्य दक्षिणायन से अपनी दिशा बदलकर उत्तरायण हो जाता है अर्थात सूर्य उत्तर दिशा की ओर बढ़ने लगता है, जिससे दिन की लंबाई बढ़नी और रात की लंबाई छोटी होनी शुरू हो जाती है। भारत में इस दिन से बसंत ऋतु की शुरुआत मानी जाती है। अत:  मकर संक्रांति  को उत्तरायण के नाम से भी जाना जाता है। तम

रफत वारसी भाजपा अल्पसंख्यक मोर्चा प्रदेश अध्यक्ष बनाये गए

मध्य प्रदेश भाजपा अल्पसंख्यक मोर्चे की जवाबदारी प्रदेश के  युवा व वरिष्ठ नेता श्री रफत वारसी के हाथों में  मध्य प्रदेश भाजपा प्रदेश अध्यक्ष श्री विष्णु दत्त शर्मा ने मध्य प्रदेश के भाजपा संगठन का विस्तार किया है जिसमें मोर्चे के नए प्रदेश अध्यक्षों की भी नियुक्ति की गई है जिसमें मध्य प्रदेश के वरिष्ठ व युवा नेता श्री रफत वारसी को भाजपा अल्पसंख्यक मोर्चा का प्रदेश अध्यक्ष बनाकर भाजपा अल्पसंख्यक मोर्चा की जवाबदारी सौंपी गई है श्री रफत वारसी मध्यप्रदेश में एक उभरते हुए अल्पसंख्यक चेहरे है और भाजपा आलाकमान ने नए चेहरे के रूप में श्री वारसी साहब को यह नई जवाबदारी सौंपी है जिससे मध्य प्रदेश में भाजपा अल्पसंख्यक मोर्चा और मजबूत होने की संभावना बढ़ गई है वर्तमान में भाजपा अल्पसंख्यक मोर्चा में नई और युवा पीढ़ी के लोग अधिकतर काम कर रहे हैं और वारसी साहब के प्रदेश अध्यक्ष बनाए जाने से इसमें और अधिक वृद्धि होगी क्योंकि नए प्रदेश अध्यक्ष श्री वारसी साहब मध्यप्रदेश में अल्पसंख्यक समाज में अपनी गहरी पैठ रखते हैं उनके प्रदेश अध्यक्ष बनाए जाने से भारतीय जनता पार्टी अल्पसंख्यक मोर्चा बेहतर

शहीद हसमत वारसी जी के सुपुत्र रफत वारसी को मिला प्रदेश में महत्वपूर्ण पद

    शहीद हसमत वारसी जी  के सुपुत्र रफत वारसी को मिला प्रदेश में महत्वपूर्ण  पद          वी डी शर्मा जी ने गले लगा कर दी बधाई      मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान जी से आशीर्वाद लेते हुए       वी डी  शर्मा जी भाजपा प्रदेश अध्यक्ष  ने दिया आशीर्वाद          अपनी माँ परवीन वारसी जी से दुआयें  लेते हुए रफत वारसी ने किया पदभार ग्रहण 17 जनवरी 2021 को भाजपा अल्पसंख्यक मोर्चा के नव नियुक्त प्रदेश अध्यक्ष रफत वारसी ने किया पदभार ग्रहण रफत वारसी ने कहा मुस्लिम समाज में कई तरह के भ्रम हैँ जिन्हे दूर करने के लिए एक दल के साथ पुरे प्रदेश का भ्रमण करेंगे ! साथ ही उन्होंने पदभार ग्रहण में आये हुए  सभी  साथियों का तहे दिल से शुक्रिया  अदा किआ 

SHOP WITH US Apparel & Accessories