Skip to main content

Jammu-Kashmir: पुलवामा बरसी पर सुरक्षाबलों को मिली कामयाबी, लश्कर से जुड़े दो संदिग्ध आतंकियों को किया अरेस्ट

Jammu-Kashmir: गिरफ्तार किए गए दोनों संदिग्ध आतंकियों की पहचान कुलगाम जिले के तरिगम गांव के निवासी मोहम्मद अमीन मल्ल के पुत्र उबैद अमीन मल्ला और अब्दुल रशीद याटू के पुत्र समीर रशीद यतो के रूप में हुई है.

Jammu-Kashmir: पुलवामा बरसी पर सुरक्षाबलों को मिली कामयाबी, लश्कर से जुड़े दो संदिग्ध आतंकियों को किया अरेस्ट
सांकेतिक तस्वीर

पुलवामा हमले की दूसरी बरसी पर आतंकवादियों की एक बड़ी साजिश नाकाम हो गई. जम्मू में भीड़भाड़ वाले बस स्टैंड के नजदीक से एक नर्सिंग छात्र के पास से रविवार को शक्तिशाली IED बरामद किया गया. इसके बाद से सुरक्षाबल पैनी नजर बनाए हुए हैं. इस बीच उन्हें एक और बड़ी सफलता हाथ लगी है. उन्होंने बडगाम जिले में लश्कर-ए-तैयबा (LeT) से जुड़े दो संदिग्ध आतंकवादियों को पकड़ा है.

जानकारी के अनुसार, बडगाम जिले में पुलिस ने दक्षिण कश्मीर के कुलगाम जिले के दो निवासियों को गिरफ्तार किया है. उनके कब्जे से कथित रूप से आतंकवादी संगठन LeT के कुछ पोस्टर और लेटर पैड बरामद किए गए. कैसरमुल्ला में नाके पर जांच के दौरान पुलिस ने यह गिरफ्तारियां की है.

सूत्रों ने अनुसार, गिरफ्तार किए गए दोनों संदिग्ध आतंकियों की पहचान कुलगाम जिले के तरिगम गांव के निवासी मोहम्मद अमीन मल्ल के पुत्र उबैद अमीन मल्ला और अब्दुल रशीद याटू के पुत्र समीर रशीद यतो के रूप में हुई है. वहीं, पुलिस पूरे दोनों संदिग्धों से जांच करने में जुट गई है. उसे शक है कि कहीं ये भी बड़ी साजिश रचने के फिराक में तो नहीं थे.

IED बरामद होने के मामले को लेकर जम्मू रेंज के पुलिस महानिरीक्षक (आईजी) मुकेश सिंह ने बताया उन्होंने बताया कि एक युवक को बस स्टैंड क्षेत्र में एक बैग के साथ संदिग्ध रूप से घूमते पाया गया. उसके पास से करीब साढ़े छह किलोग्राम आईईडी बरामद किया गया. हालांकि अभी विस्फोटक को सक्रिय नहीं किया गया था. आईजी ने आरोपी की पहचान पुलवामा के नेवा गांव निवासी सुहैल बशीर शाह के तौर पर बताई है जो चंडीगढ़ के एक कॉलेज से नर्सिंग का पाठ्यक्रम कर रहा है. पाकिस्तान में बैठे आतंकी संगठन अल बद्र से संबद्ध उसके आकाओं ने उसे जम्मू में आईईडी रखने का काम सौंपा था.

आतंकी ने चार जगहों का बनाया था टारगेट

उन्होंने बताया, ”उसे चार लक्ष्य दिए गए थे जिनमें (प्रसिद्ध ) रघुनाथ मंदिर, बस स्टैंड, रेलवे स्टेशन और लखदाता बाजार शामिल थे और उसे अपना काम पूरा करने के बाद एक उड़ान से श्रीनगर जाना था. अल बद्र का सक्रिय सदस्य अतहर शकील खान उसे श्रीनगर हवाई अड्डे पर लेने आता. खान को गिरफ्तार कर लिया गया है. कश्मीर के उसके साथी छात्र काज़ी वसीम को इस योजना के बारे में पता था और उसे चंडीगढ़ से हिरासत ले लिया गया है, जबकि उसके एक अन्य सहयोगी आबिद नबी को श्रीनगर से गिरफ्तार किया गया है.”

पुलवामा हमले में शहीद हुए थे 40 जवान

जम्मू शहर में बस स्टैंड एक भीड़-भाड़ वाली जगह है, जहां रोजाना सैकड़ों लोग आते हैं. अतिरिक्त बल मौके पर तैनात किया गया है और तलाशी ली गई है. 2019 में दक्षिण कश्मीर के पुलवामा जिले में एक आत्मघाती हमलावर ने विस्फोटक लदे वाहन से उस बस को टक्कर मार दी थी, जिसमें सीआरपीएफ जवान सवार थे. इस हमले में 40 जवान शहीद हो गए थे और कई गंभीर रूप से घायल हुए थे.

Comments

Popular posts from this blog

मकर संक्रांति 2021 तिथि, शुभ मुहूर्त | मकर संक्रांति क्यों मनाई जाती है?

मकर संक्रांति मकर संक्रांति  का भारतीय धार्मिक परम्परा में विशेष महत्व है, क्योंकि इस दिन सूर्य धनु राशि को छोड़ कर मकर राशि में प्रवेश कर उत्तरायण में आता है। शास्त्रों के अनुसार यह सकारात्मक ऊर्जा का प्रतीक है और इसीलिए इस दिन जप, तप, दान, स्नान का विशेष महत्व है।  मकर संक्रांति  परंपरागत रूप से 14 जनवरी या 15 जनवरी को मनाई जाती आ रही है।  मकर संक्रांति  में ‘मकर’ शब्द मकर राशि को इंगित करता है जबकि ‘संक्रांति’ का अर्थ संक्रमण अर्थात प्रवेश करना है।  मकर संक्रांति  के दिन सूर्य धनु राशि से मकर राशि में प्रवेश करता है। एक राशि को छोड़कर दूसरे में प्रवेश करने की इस विस्थापन क्रिया को संक्रांति कहते हैं। शास्त्रों के नियम के अनुसार रात में संक्रांति होने पर अगले दिन भी संक्रांति मनाई जाती है। मकर संक्रांति  के दिन सूर्य दक्षिणायन से अपनी दिशा बदलकर उत्तरायण हो जाता है अर्थात सूर्य उत्तर दिशा की ओर बढ़ने लगता है, जिससे दिन की लंबाई बढ़नी और रात की लंबाई छोटी होनी शुरू हो जाती है। भारत में इस दिन से बसंत ऋतु की शुरुआत मानी जाती है। अत:  मकर संक्रांति  को उत्तरायण के नाम से भी जाना जाता है। तम

रफत वारसी भाजपा अल्पसंख्यक मोर्चा प्रदेश अध्यक्ष बनाये गए

मध्य प्रदेश भाजपा अल्पसंख्यक मोर्चे की जवाबदारी प्रदेश के  युवा व वरिष्ठ नेता श्री रफत वारसी के हाथों में  मध्य प्रदेश भाजपा प्रदेश अध्यक्ष श्री विष्णु दत्त शर्मा ने मध्य प्रदेश के भाजपा संगठन का विस्तार किया है जिसमें मोर्चे के नए प्रदेश अध्यक्षों की भी नियुक्ति की गई है जिसमें मध्य प्रदेश के वरिष्ठ व युवा नेता श्री रफत वारसी को भाजपा अल्पसंख्यक मोर्चा का प्रदेश अध्यक्ष बनाकर भाजपा अल्पसंख्यक मोर्चा की जवाबदारी सौंपी गई है श्री रफत वारसी मध्यप्रदेश में एक उभरते हुए अल्पसंख्यक चेहरे है और भाजपा आलाकमान ने नए चेहरे के रूप में श्री वारसी साहब को यह नई जवाबदारी सौंपी है जिससे मध्य प्रदेश में भाजपा अल्पसंख्यक मोर्चा और मजबूत होने की संभावना बढ़ गई है वर्तमान में भाजपा अल्पसंख्यक मोर्चा में नई और युवा पीढ़ी के लोग अधिकतर काम कर रहे हैं और वारसी साहब के प्रदेश अध्यक्ष बनाए जाने से इसमें और अधिक वृद्धि होगी क्योंकि नए प्रदेश अध्यक्ष श्री वारसी साहब मध्यप्रदेश में अल्पसंख्यक समाज में अपनी गहरी पैठ रखते हैं उनके प्रदेश अध्यक्ष बनाए जाने से भारतीय जनता पार्टी अल्पसंख्यक मोर्चा बेहतर

शहीद हसमत वारसी जी के सुपुत्र रफत वारसी को मिला प्रदेश में महत्वपूर्ण पद

    शहीद हसमत वारसी जी  के सुपुत्र रफत वारसी को मिला प्रदेश में महत्वपूर्ण  पद          वी डी शर्मा जी ने गले लगा कर दी बधाई      मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान जी से आशीर्वाद लेते हुए       वी डी  शर्मा जी भाजपा प्रदेश अध्यक्ष  ने दिया आशीर्वाद          अपनी माँ परवीन वारसी जी से दुआयें  लेते हुए रफत वारसी ने किया पदभार ग्रहण 17 जनवरी 2021 को भाजपा अल्पसंख्यक मोर्चा के नव नियुक्त प्रदेश अध्यक्ष रफत वारसी ने किया पदभार ग्रहण रफत वारसी ने कहा मुस्लिम समाज में कई तरह के भ्रम हैँ जिन्हे दूर करने के लिए एक दल के साथ पुरे प्रदेश का भ्रमण करेंगे ! साथ ही उन्होंने पदभार ग्रहण में आये हुए  सभी  साथियों का तहे दिल से शुक्रिया  अदा किआ 

SHOP WITH US Apparel & Accessories