Skip to main content

CJI बोले- किसानों से मिलने के लिए PM से नहीं कह सकते, इन 10 बिंदुओं से समझिए कृषि कानूनों पर SC ने क्या कहा

  • सीजेआई एस. ए. बोबड़े ने कहा कि हम प्रधानमंत्री को यह नहीं कह सकते कि वे किसानों से मिलने जाएं
  • शीर्ष अदालत ने कहा कि वे सुनिश्चित करेंगे कि कृषि कानूनों के तहत कोई खेत न बेचा जाए

 

नई दिल्ली। केंद्र सरकार द्वारा लागू तीन कृषि कानूनों ( Three Farms Laws ) पर रोक लगाकर सुप्रीम कोर्ट ( Supreme Court ) ने किसानों की समस्याओं के समाधान के लिए जो समिति बनाई है, उनमें किसान नेता और कृषि विशेषज्ञ शामिल हैं। डेढ़ महीने से जारी किसानों के विरोध प्रदर्शन के मद्देनजर सुप्रीम कोर्ट ने मंगलवार को तीनों कृषि कानूनों के अमल पर रोक लगा दी और मसले के समाधान के लिए एक समिति बनाने की घोषणा की। सीजेआई एस. ए. बोबड़े ने कहा कि हम प्रधानमंत्री को यह नहीं कह सकते कि वे किसानों से मिलने जाएं। इन 10 बिंदुओं से समझिए कृषि कानूनों पर SC ने क्या कहा-


1. सुप्रीम कोर्ट ने किसानों के एक वकील की उन दलीलों को खारिज कर दिया, जिसमें कहा था कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी विवादास्पद कृषि कानूनों पर चर्चा करने के लिए अब तक आंदोलनकारी किसानों से नहीं मिले हैं।

2. न्यायमूर्ति ए. एस. बोपन्ना और वी. रामासुब्रमण्यन के साथ ही प्रधान न्यायाधीश (सीजेआई) एस. ए. बोबड़े और ने कहा कि हम प्रधानमंत्री को जाने के लिए नहीं कह सकते। वह यहां पर पार्टी नहीं हैं।

3. CJI एस ए बोबडे ने अफवाओं को खारिज करते हुए कहा कि किसी भी किसान की जमीन नहीं बिकेगी। उन्होंने कहा कि हम समस्या का समाधान चाहते हैं। इन्हीं अधिकारों में से एक कृषि कानूनों को सस्पेंड करने का भी अधिकार है।

4. सुप्रीम कोर्ट ने आगे कहा कि हमारे पास कमेटी बनाने का अधिकार है। इसलिए जो लोग वास्तव में इस समस्या का समाधान चाहते हैं, कमेटी के पास जा सकते हैं।


5. सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि हम कृषि कानून से जुड़े प्रत्येक तथ्य का जमीनी विश्लेशन करना चाहते हैं। यही वजह है कि इसके लिए एक कमेटी का गठन किया जा रहा है। इस कमेटी के पास कोई भी जा सकता है। कमेटी हमें अपनी रिपोर्ट सौंपेंगी।

6. CJI बोबडे ने किसानों के वकील दवे के हवाले से कहा कि किसान गणतंत्र दिवस यानी 26 जनवरी को ट्रैक्टर रैली नहीं निकालेंगे। ऐसे में अगर किसान केंद्र के सामने जा सकते हैं तो कमेटी के समक्ष क्यों नहीं?

7. सीजेआई ने कहा कि अगर किसान वास्तव में समस्या का हल चाहते हैं, तो वो कमेटी के पास जाएं और अपने बिंदू रखें। सीजेआई ने कहा कि हमारा उद्देश्य यह है कि कोई जानकार व्यक्ति (कमेटी) किसानों के पास जाए और बिंदुवार बहस करें कि आखिर समस्या कहां है?

8. सुप्रीम कोर्ट ने आगे कहा कि हम कृषि कानूनों के गुण और दोषों के मूल्यांकन के लिए एक कमेटी का गठन कर रहे हैं। यह एक न्यायिक प्रक्रिया है और ऐसे करने से उसको कोई शक्ति नहीं रोक सकती।

9. सीजेआई ने कहा कि अब कमेटी की रिपोर्ट से पता चलेगा कि कानूनों से किन प्रावधानों को हटाया जाना है। CJI ने आगे कहा कि हम कृषि कानूनों को निलंबित कर रहे हैं हालांकि यह एक समय विशेष के लिए होगा।

10. चीफ जस्टिस ने उन विशेषज्ञों के नाम भी बताए जो इस कमेटी में शामिल होंगे। उनके नाम हैं - कृषि वैज्ञानिक अशोक गुलाटी, डॉ. प्रमोद कुमार जोशी, अनिल धनवत और बी. एस. मान।

Comments

Popular posts from this blog

मकर संक्रांति 2021 तिथि, शुभ मुहूर्त | मकर संक्रांति क्यों मनाई जाती है?

मकर संक्रांति मकर संक्रांति  का भारतीय धार्मिक परम्परा में विशेष महत्व है, क्योंकि इस दिन सूर्य धनु राशि को छोड़ कर मकर राशि में प्रवेश कर उत्तरायण में आता है। शास्त्रों के अनुसार यह सकारात्मक ऊर्जा का प्रतीक है और इसीलिए इस दिन जप, तप, दान, स्नान का विशेष महत्व है।  मकर संक्रांति  परंपरागत रूप से 14 जनवरी या 15 जनवरी को मनाई जाती आ रही है।  मकर संक्रांति  में ‘मकर’ शब्द मकर राशि को इंगित करता है जबकि ‘संक्रांति’ का अर्थ संक्रमण अर्थात प्रवेश करना है।  मकर संक्रांति  के दिन सूर्य धनु राशि से मकर राशि में प्रवेश करता है। एक राशि को छोड़कर दूसरे में प्रवेश करने की इस विस्थापन क्रिया को संक्रांति कहते हैं। शास्त्रों के नियम के अनुसार रात में संक्रांति होने पर अगले दिन भी संक्रांति मनाई जाती है। मकर संक्रांति  के दिन सूर्य दक्षिणायन से अपनी दिशा बदलकर उत्तरायण हो जाता है अर्थात सूर्य उत्तर दिशा की ओर बढ़ने लगता है, जिससे दिन की लंबाई बढ़नी और रात की लंबाई छोटी होनी शुरू हो जाती है। भारत में इस दिन से बसंत ऋतु की शुरुआत मानी जाती है। अत:  मकर संक्रांति  को उत्तरायण के नाम से भी जाना जाता है। तम

रफत वारसी भाजपा अल्पसंख्यक मोर्चा प्रदेश अध्यक्ष बनाये गए

मध्य प्रदेश भाजपा अल्पसंख्यक मोर्चे की जवाबदारी प्रदेश के  युवा व वरिष्ठ नेता श्री रफत वारसी के हाथों में  मध्य प्रदेश भाजपा प्रदेश अध्यक्ष श्री विष्णु दत्त शर्मा ने मध्य प्रदेश के भाजपा संगठन का विस्तार किया है जिसमें मोर्चे के नए प्रदेश अध्यक्षों की भी नियुक्ति की गई है जिसमें मध्य प्रदेश के वरिष्ठ व युवा नेता श्री रफत वारसी को भाजपा अल्पसंख्यक मोर्चा का प्रदेश अध्यक्ष बनाकर भाजपा अल्पसंख्यक मोर्चा की जवाबदारी सौंपी गई है श्री रफत वारसी मध्यप्रदेश में एक उभरते हुए अल्पसंख्यक चेहरे है और भाजपा आलाकमान ने नए चेहरे के रूप में श्री वारसी साहब को यह नई जवाबदारी सौंपी है जिससे मध्य प्रदेश में भाजपा अल्पसंख्यक मोर्चा और मजबूत होने की संभावना बढ़ गई है वर्तमान में भाजपा अल्पसंख्यक मोर्चा में नई और युवा पीढ़ी के लोग अधिकतर काम कर रहे हैं और वारसी साहब के प्रदेश अध्यक्ष बनाए जाने से इसमें और अधिक वृद्धि होगी क्योंकि नए प्रदेश अध्यक्ष श्री वारसी साहब मध्यप्रदेश में अल्पसंख्यक समाज में अपनी गहरी पैठ रखते हैं उनके प्रदेश अध्यक्ष बनाए जाने से भारतीय जनता पार्टी अल्पसंख्यक मोर्चा बेहतर

शहीद हसमत वारसी जी के सुपुत्र रफत वारसी को मिला प्रदेश में महत्वपूर्ण पद

    शहीद हसमत वारसी जी  के सुपुत्र रफत वारसी को मिला प्रदेश में महत्वपूर्ण  पद          वी डी शर्मा जी ने गले लगा कर दी बधाई      मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान जी से आशीर्वाद लेते हुए       वी डी  शर्मा जी भाजपा प्रदेश अध्यक्ष  ने दिया आशीर्वाद          अपनी माँ परवीन वारसी जी से दुआयें  लेते हुए रफत वारसी ने किया पदभार ग्रहण 17 जनवरी 2021 को भाजपा अल्पसंख्यक मोर्चा के नव नियुक्त प्रदेश अध्यक्ष रफत वारसी ने किया पदभार ग्रहण रफत वारसी ने कहा मुस्लिम समाज में कई तरह के भ्रम हैँ जिन्हे दूर करने के लिए एक दल के साथ पुरे प्रदेश का भ्रमण करेंगे ! साथ ही उन्होंने पदभार ग्रहण में आये हुए  सभी  साथियों का तहे दिल से शुक्रिया  अदा किआ 

SHOP WITH US Apparel & Accessories