-->
राजस्थानी लोकगीत (46 Songs) – Rajasthani Folk Song

राजस्थानी लोकगीत (46 Songs) – Rajasthani Folk Song

राजस्थानी लोकगीत – Rajasthani Lokgeet – Rajasthani Folk Song

राजस्थानी लोकगीत – Rajasthani Lokgeet – Rajasthani Folk Song – राजस्थान में निवास करने वाली अनेक जातियाँ राजस्थानी लोकगीत गा-बजाकर ही अपना गुजारा करती रही हैं। कुरजां, पीपली, रतन राणो, मूमल, घूघरी, केवड़ा आदि लोकगीत जैसलमेर, बाड़मेर, बीकानेर, जोधपुर आदि क्षेत्रों में आये जाते हैं। जयपुर , कोटा, अलवर, भरतपुर, करौली तथा धौलपुर आदि मैदानी भागों में स्वरों के उतार-चढ़ाव वाले गीत गाये जाते हैं। मंद से तार सप्तक तक गायन होता है। राजस्थानी लोकगीत (Rajasthani Lokgeet – Folk Song) निम्नलिखित हैं:

1. केसरिया बालम-

  • राजबाड़ी विरह गीत।
  • राजस्थान का प्रसिद्ध राजस्थानी लोकगीत।
  • प्रसिद्ध गायिका अल्लाह जिलाई बाई ने गाया।

2. घुड़ला गीत- मारवाड़ (जोधपुर, पाली, जालौर) क्षेत्र में घुड़ला उत्सव पर गाया जाने वाला गीत।

3. झोरावा गीत- जैसलमेर क्षेत्र का विरह गीत।

4. मूमल गीत- जैसलमेर क्षेत्र का श्रृंगार परक विरह गीत, जिसमें लोद्रवा की राजकुमारी मूमल की नख से शिखा तक की सुन्दरता का वर्णन किया गया है।

5. जीरा गीत- जालौर क्षेत्र का जन सामान्य गीत जिसमें पत्नी अपने पति को जीरा न बोने की सलाह देती है।

6. बिछुड़ा गीत- हाड़ौती क्षेत्र का जन सामान्य गीत जिसमें बिच्छु के काटे जाने पर पत्नी अपने पति को दूसरी शादी करने के लिए सलाह देती है।

7. पंछीड़ा गीत- मेवाड़ क्षेत्र का जन सामान्य गीत जिसे माणिक्य लाल वर्मा ने लिखा था।

8. हमसीठो गीत- मेवाड़ क्षेत्र के भील स्त्री-पुरुषों द्वारा गाया जाने वाला गीत।

9. लांगुरिया गीत-  कैला देवी की आराधना में गाया जाने वाला गीत।

10. होलर गीत –

  • जच्चा गीत।
  • शुभ कार्य सम्पन्न होने पर गाया जाने वाल गीत।

11. बधावा गीत- पुत्री विदाई पर गाया जाने वाला गीत।

12. ओल्यूं गीत- पुत्री विदाई पर गाया जाने वाला गीत।

13. बिणजारा गीत- काखा गीत (समूह गीत)

14. हरजस गीत- सगुण भक्ति के गीत।

15. रसिया गीत- भरतपुर क्षेत्र में गाया जाने वाला गीत।

16. दारूड़ी गीत, कलाली गीत, मारूड़ी गीत, राणा जोगी- महफिल या गढ़ गीत

17. हिचकी गीत- विरह गीत

18. बारहमासा गीत- विरह गीत जिसमें बारह महीनों का वर्णन है।

19. कुरजां गीत- विरह गीत

20. पीपली गीत- विरह गीत

21. हिण्डोला गीत- श्रावण मास में गाये जाने वाले गीत।

22. घोड़ी गीत- पुत्र-विवाह पर निकासी के समय गाया जाने वाला गीत।

23. जल्ला गीत- बारात के समूह को देखकर वधु प़क्ष की महिलाओं द्वारा गाये जाने वाले गीत।

24. सीठणा गीत- गाली गीत, जिसमें वधुपक्ष की महिलाओं द्वारा बारातियों के साथ हास-परिहास किया जाता है।

25. दुपट्टा गीत- वधु की सहेलियों द्वारा गाया जाने वाला गीत।

26. कामण गीत- तोरण रस्म के दौरान गाया जाने वाला गीत। जिसका उद्देश्य वर व वधु को जादू टोनो से मुक्त कराना एवं वर को वधु के पक्ष में करना।

27. मोरिया गीत- सगाई के बाद लड़की के द्वारा गाया जाने वाला गीत।

28. परणेत गीत- फेरों की रस्म के दौरान गाये जाने वाले गीत।

29. मायरा गीत- भात रस्म अदायगी के दौरान गाया जाने वाला गीत।

30. कांगसिया गीत- पति-पत्नि के मध्य हंसी-ठिठोली का गीत।

31. चिरमी गीत- नवविवाहिता के द्वारा अपने पिता व भाई की याद में गाया जाने वाला गीत।

32. इण्डोणी गीत- जन सामान्रू लोकगीत।

33. पणिहारी गीत- पनघट से पानी लाने के दौरान गाया जाने वाला गीत, जिसमें पत्नी को पतिव्रता धर्म पर अटल रहना बताया गया है।

34. गोरबन्द गीत- उंट का श्रृंगार। शेखावाटी व मारवाड़ में गाये जाने वाला गीत।

35. पपैया गीत- वर्षा ऋतु में गाया जाने वाला गीत।

36. सुवटिया गीत- भील स्त्री द्वारा गाया जाने वाला गीत।

37. कागा- विरह गीत।

38. पटेल्या गीत, लालर, बिछियों- पर्वतीय क्षेत्रों में गाया जाने वाला गीत।

39. ढोला-मारू- सिरोही क्षेत्र में गाया जाने वाला गीत।

40. काजलिया- श्रृंगार परक गीत।

41. सेज्जा गीत- सांझी-पूजन के दौरान गाया जाने वाला गीत। पूजन के अंतिम दिन ठुमड़ा गीत गाया जाता है।

42. लावणी गीत- लावणी का अर्थ बुलाने से है। नायक द्वारा नायिका को बुलाने हेतु गाया जाने वाला गीत।

43. फलसड़ा- अतिथियों के सत्कार हेतु गाया जाने वाला गीत।

44. कुकड़ी गीत- रात्रि जागरण में गाया जाने वाला गीत।

45. चरचरी- ताल व नृत्य के साथ गाया जानेवाला गीत।

46. मरस्या गीत- मृत व्यक्ति की स्मृति में गाया जाने वाला गीत।

लोक गायन शैलियां

1. माण्ड गायन शैली
  • 10 वीं 11 वीं शताब्दी में जैसलमेर क्षेत्र माण्ड क्षेत्र कहलाता था। अतः यहां विकसित गायन शैली माण्ड गायन शैली कहलाई।
  • एक श्रृंगार प्रधान गायन शैली है।

प्रमुख गायिकाएं

  • अल्ला-जिल्हा बाई (बीकानेर) – केसरिया बालम आवो नही पधारो म्हारे देश।
  • गवरी देवी (पाली) भैरवी युक्त मांड गायकी में प्रसिद्ध
  • गवरी देवी (बीकानेर) जोधपुर निवासी सादी मांड गायिका।
  • मांगी बाई (उदयपुर) राजस्थान का राज्य गीत प्रथम बार गाया।
  • जमिला बानो (जोधपुर)
  • बन्नों बेगम (जयपुर) प्रसिद्ध नृतकी “गोहरजान” की पुत्री है।
2. मांगणियार गायन शैली
  • राजस्थान के पश्चिमी क्षेत्र विशेषकर जैसलमेर तथा बाड़मेर की प्रमुख जाति मांगणियार जिसका मुख्य पैसा गायन तथा वादन है।
  • मांगणियार जाति मूलतः सिन्ध प्रान्त की है तथा यह मुस्लिम जाति है।
  • प्रमुख वाद्य यंत्र कमायचा तथा खड़ताल है।
  • कमायचा तत् वाद्य है।
  • इस गायन शैली में 6 रंग व 36 रागिनियों का प्रयोग होता है।
  • प्रमुख गायक 1 सदीक खां मांगणियार (प्रसिद्ध खड़ताल वादक) 2 साकर खां मांगणियार (प्रसिद्ध कम्रायण वादक)
3. लंगा गायन शैली
  • लंगा जाति का निवास स्थान जैसलमेर-बाडमेर जिलों में है।
  • बडवणा गांव (बाड़मेर) ” लंगों का गांव” कहलाता है।
  • यह जाति मुख्यतः राजपूतों के यहां वंशावलियों का बखान करती है।
  • प्रमुख वाद्य यत्र कमायचा तथा सारंगी है।
  • प्रसिद्ध गायकार 1 अलाउद्दीन खां लंगा 2 करीम खां लंगा
4. तालबंधी गायन शैली
  • औरंगजेब के समय विस्थापित किए गए कलाकारों के द्वारा राज्य के सवाईमाधोपुर जिले में विकसित शैली है।
  • इस गायन शैली के अन्तर्गत प्राचीन कवियों की पदावलियों को हारमोनियम तथा तबला वाद्य यंत्रों के साथ सगत के रूप में गाया जाता है।
  • वर्तमान में यह पूर्वी क्षेत्र में लोकप्रिय है।
5. हवेली संगीत गायन शैली
  • प्रधान केन्द्र नाथद्वारा (राजसमंद) है।
  • औरंगजेब के समय बंद कमरों में विकसित गायन शैली।

0 Response to "राजस्थानी लोकगीत (46 Songs) – Rajasthani Folk Song"

Post a Comment

Slider Post