Skip to main content

IIT Delhi ने लॉन्च की दुनिया की सबसे सस्ती COVID-19 Diagnostic Kit


  • आईआईटी दिल्ली ( Iit Delhi ) द्वारा विकसित की गई है आरटी-पीसीआर ( RT PCR Test ) आधारित कोरोना के लक्षण पहचानने वाली ( Covid-19 Testing Kit ) किट।
  • मानव संसाधन विकास मंत्री ( Ramesh Pokhriyal Nishank ) ने वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिये की लॉन्चिंग।
  • किट को आईसीएमआर ( Indian Council Of Medical Research ) और डीसीजीआई ( Drug Controller General Of India ) द्वारा दी जा चुकी है मंजूरी।

 

अनुराग मिश्रा/नई दिल्ली। दुनिया की सबसे सस्ती आरटी-पीसीआर आधारित कोरोना वायरस के लक्षण पहचानने वाली जांच किट बुधवार को लॉन्च हो गई। केंद्रीय मानव संसाधन विकास मंत्री रमेश पोखरियाल 'निशंक' ( Ramesh Pokhriyal Nishank ) ने वीडियो कॉफ्रेंसिंग के जरिए आयोजित कार्यक्रम में इस जांच किट को लॉन्च किया। यह किट आईआईटी दिल्ली ( Iit Delhi ) द्वारा विकसित की गई है और इसे आईसीएमआर ( Indian Council Of Medical Research ) और डीसीजीआई ( Drug Controller General Of India ) ने मंजूरी दी है।

इस किट का नाम कोरोश्योर रखा गया है। इसे दिल्ली-एनसीआर स्थित न्यूटेक मेडिकल डिवाइसेज द्वारा निर्मित किया गया है। यह किट बिना जांच के कोरोना वायरस के लक्षण पहचानने में सक्षम है।

यह किट अधिकृत कोरोना टेस्टिंग लैब में इस्तेमाल के लिए उपलब्ध होगी और इससे COVID-19 आरटी-पीसीआर टेस्टिंग ( RT PCR Test ) की लागत काफी कम हो जाएगी। इस किट का आधार मूल्य 399 रुपये है और इसमें आरएनए आइसोलेशन और लैबोरेटरी चार्ज जोड़ने के बाद भी इसके द्वारा किया जाने वाला टेस्ट काफी कम लागत में होगा।


इस किट को लॉन्च करते हुए निशंक ने आईआईटी दिल्ली के सभी शोधकर्ताओं को बधाई दी। इसके पहले आईआईटी दिल्ली सस्ती कोरोना टेस्टिंग किट ( Covid-19 Testing Kit ) भी बना चुका है।

आईआईटी दिल्ली के निदेशक प्रो. वी रामगोपाल राव ने इस अवसर पर कहा, भारत सरकार, मानव संसाधन विकास मंत्रालय, स्वास्थ मंत्रालय और आईसीएमआर से इस किट को बनाने और मैन्युफैक्चर करने में मिले सहयोग के लिए बेहद आभारी हैं। इससे प्रेरणा लेकर हम आगे भी कोरोना से संबंधित शोध जारी रखेंगे और देश के साथ-साथ विश्व को भी इस महामारी से लड़ने में मदद करेंगे।

गौरतलब है कि केंद्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय के मुताबिक मंगलवार को भारत में कोरोना वायरस के कुल केस का आंकड़ा 9 लाख को पार कर गया है। देश में कुल रिकवर केस, एक्टिव केस की संख्या का करीब 1.8 गुना हैं। देश के 29 राज्यों/केंद्र शासित प्रदेशों में कोरोना वायरस से ठीक होने वाले व्यक्तियों की तुलना एक्टिव केसों से ज्यादा है।

वहीं, 20 ऐसे राज्य हैं, जहां रिकवरी रेट देश के राष्ट्रीय औसत 63 प्रतिशत से ज्यादा है। सरकार ने कहा है कि राज्य सरकारों के साथ मिलकर उठाए गए कदमों ने कोरोना वायरस मरीजों के ठीक होने में "क्रमिक वृद्धि" में योगदान दिया है।

देश में कोरोना वायरस के कुल केस 9 लाख 6 हजार 752 हो गए हैं। जबकि इस महामारी से 23,727 लोगों ने दम तोड़ दिया है। कुल केस में रिकवर मामलों की संख्या 5 लाख 71 हजार 459 हैं, जबकि 3 लाख 11 हजार 565 एक्टिव केस हैं। इससे पहले देश में कोरोना वायरस मामले एक लाख तक पहुंचने में 110 दिन लगे थे, जबकि केवल 56 दिनों में यह नौ लाख का आंकड़ा पार कर गया है।

Comments

Popular posts from this blog

मकर संक्रांति 2021 तिथि, शुभ मुहूर्त | मकर संक्रांति क्यों मनाई जाती है?

मकर संक्रांति मकर संक्रांति  का भारतीय धार्मिक परम्परा में विशेष महत्व है, क्योंकि इस दिन सूर्य धनु राशि को छोड़ कर मकर राशि में प्रवेश कर उत्तरायण में आता है। शास्त्रों के अनुसार यह सकारात्मक ऊर्जा का प्रतीक है और इसीलिए इस दिन जप, तप, दान, स्नान का विशेष महत्व है।  मकर संक्रांति  परंपरागत रूप से 14 जनवरी या 15 जनवरी को मनाई जाती आ रही है।  मकर संक्रांति  में ‘मकर’ शब्द मकर राशि को इंगित करता है जबकि ‘संक्रांति’ का अर्थ संक्रमण अर्थात प्रवेश करना है।  मकर संक्रांति  के दिन सूर्य धनु राशि से मकर राशि में प्रवेश करता है। एक राशि को छोड़कर दूसरे में प्रवेश करने की इस विस्थापन क्रिया को संक्रांति कहते हैं। शास्त्रों के नियम के अनुसार रात में संक्रांति होने पर अगले दिन भी संक्रांति मनाई जाती है। मकर संक्रांति  के दिन सूर्य दक्षिणायन से अपनी दिशा बदलकर उत्तरायण हो जाता है अर्थात सूर्य उत्तर दिशा की ओर बढ़ने लगता है, जिससे दिन की लंबाई बढ़नी और रात की लंबाई छोटी होनी शुरू हो जाती है। भारत में इस दिन से बसंत ऋतु की शुरुआत मानी जाती है। अत:  मकर संक्रांति  को उत्तरायण के नाम से भी जाना जाता है। तम

रफत वारसी भाजपा अल्पसंख्यक मोर्चा प्रदेश अध्यक्ष बनाये गए

मध्य प्रदेश भाजपा अल्पसंख्यक मोर्चे की जवाबदारी प्रदेश के  युवा व वरिष्ठ नेता श्री रफत वारसी के हाथों में  मध्य प्रदेश भाजपा प्रदेश अध्यक्ष श्री विष्णु दत्त शर्मा ने मध्य प्रदेश के भाजपा संगठन का विस्तार किया है जिसमें मोर्चे के नए प्रदेश अध्यक्षों की भी नियुक्ति की गई है जिसमें मध्य प्रदेश के वरिष्ठ व युवा नेता श्री रफत वारसी को भाजपा अल्पसंख्यक मोर्चा का प्रदेश अध्यक्ष बनाकर भाजपा अल्पसंख्यक मोर्चा की जवाबदारी सौंपी गई है श्री रफत वारसी मध्यप्रदेश में एक उभरते हुए अल्पसंख्यक चेहरे है और भाजपा आलाकमान ने नए चेहरे के रूप में श्री वारसी साहब को यह नई जवाबदारी सौंपी है जिससे मध्य प्रदेश में भाजपा अल्पसंख्यक मोर्चा और मजबूत होने की संभावना बढ़ गई है वर्तमान में भाजपा अल्पसंख्यक मोर्चा में नई और युवा पीढ़ी के लोग अधिकतर काम कर रहे हैं और वारसी साहब के प्रदेश अध्यक्ष बनाए जाने से इसमें और अधिक वृद्धि होगी क्योंकि नए प्रदेश अध्यक्ष श्री वारसी साहब मध्यप्रदेश में अल्पसंख्यक समाज में अपनी गहरी पैठ रखते हैं उनके प्रदेश अध्यक्ष बनाए जाने से भारतीय जनता पार्टी अल्पसंख्यक मोर्चा बेहतर

शहीद हसमत वारसी जी के सुपुत्र रफत वारसी को मिला प्रदेश में महत्वपूर्ण पद

    शहीद हसमत वारसी जी  के सुपुत्र रफत वारसी को मिला प्रदेश में महत्वपूर्ण  पद          वी डी शर्मा जी ने गले लगा कर दी बधाई      मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान जी से आशीर्वाद लेते हुए       वी डी  शर्मा जी भाजपा प्रदेश अध्यक्ष  ने दिया आशीर्वाद          अपनी माँ परवीन वारसी जी से दुआयें  लेते हुए रफत वारसी ने किया पदभार ग्रहण 17 जनवरी 2021 को भाजपा अल्पसंख्यक मोर्चा के नव नियुक्त प्रदेश अध्यक्ष रफत वारसी ने किया पदभार ग्रहण रफत वारसी ने कहा मुस्लिम समाज में कई तरह के भ्रम हैँ जिन्हे दूर करने के लिए एक दल के साथ पुरे प्रदेश का भ्रमण करेंगे ! साथ ही उन्होंने पदभार ग्रहण में आये हुए  सभी  साथियों का तहे दिल से शुक्रिया  अदा किआ 

SHOP WITH US Apparel & Accessories