Skip to main content

Covid-19 : भारत में एक हजार रुपए के आसपास होगी ऑक्सफोर्ड की कोरोना वैक्सीन की कीमत



हाईलाइट

  •  कोविशील्ड के नाम से आएगी कोरोना वैक्सीन
  •  भारत में ही रहेंगे टीके के 50% डोज
  •  मुफ्त टीके लगवा सकती है सरकार

डिजिटल डेस्क, लंदन। पूरी दुनिया इस समय कोरोना वायरस महामारी से जूझ रही है। दुनियाभर में अब तक करीब डेढ़ करोड़ लोग संक्रमित हो चुके हैं, जबकि 6 लाख से ज्यादा लोग संक्रमण के कारण अपनी जांच गंवा चुके हैं। ऐसे में हर किसी की नजर दुनियाभर में कोरोना की वैक्सीन बनाने में जुटे रिसर्च सेंटर्स पर टिकी हुई है। वहीं ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी से अच्छी खबर सामने आई है। यहां इस वैक्सीन पर ह्यूमन ट्रायल चल रहा है और ट्रायल में बेहतर रिजल्ट सामने आए हैं। यदि वैक्सीन कारगर साबित होती है तो भारत में भी ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी की इस वैक्सीन का प्रोडक्शन किया जाएगा।

टीवी टुडे नेटवर्क की रिपोर्ट के अनुसार ऑक्सफोर्ड वैक्सीन ग्रुप के डायरेक्टर एंड्रयू जे पोलार्ड और पुणे स्थित सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया के सीईओ अदार पूनावाला ने बातचीत में बताया कि एंटीबॉडी रेस्पॉन्स से पता चलता है कि ये वैक्सीन काफी कारगर है। उन्होंने कहा ट्रायल में सफलता नजर आने के बावजूद अब हमें इसके प्रूफ की जरूरत है कि ये वैक्सीन कोरोना वायरस से बचा सकती है। पोलार्ड ने बताया अब इस वैक्सीन का ट्रायल अलग-अलग लोगों पर किया जाएगा और आकलन किया जाएगा कि दूसरे लोगों पर इसका कैसा असर दिखाई देता है।

कोविशील्ड के नाम से आएगी कोरोना वैक्सीन
ऑक्सफर्ड यूनिवर्सिटी और दवा निर्माता कंपनी एस्ट्राजेनेका के संयुक्त प्रयास से विकसित की जा रही कोविड-19 वैक्सीन को कोविशील्ड (Covishield) नाम दिया गया है। अगर इसका इंसानों पर आखिरी परीक्षण भी सफल रहा तो इसे जल्द-से-जल्द बाजार में उतारने का प्रयास होगा ताकि दुनियाभर में इसकी डोज पहुंचाई जा सके।

भारत में ही रहेंगे टीके के 50% डोज
सीरम इंस्टिट्यूट ऑफ इंडिया के सीईओ अदार पूनावाला ने कहा कि उनकी कंपनी में ऑक्सफर्ड की कोरोना वैक्सीन को बड़े पैमाने पर तैयार करने की तैयारी है। उन्होंने कहा कि इस साल दिसंबर तक कोविशील्ड की 30 से 40 करोड़ डोज तैयार कर ली जाएगी। उन्होंने कहा कि कंपनी इसी हफ्ते भारतीय दवा नियामक के पास कोविशील्ड के लिए लाइसेंस का आवेदन देगी। उन्होंने कहा कि कंपनी अपने यहां तैयार 50% वैक्सीन सिर्फ भारत के लिए रखेगी, आधी ही दुनिया के अन्य देशों को दी जाएगी।

मुफ्त टीके लगवा सकती है सरकार
भारत सरकार ने पोलियो, मलेरिया जैसी बीमारियों को जड़ से खत्म करने के लिए सघन टीका अभियान चलाया। यही कारण है कि आज भारत इन बीमारियों से लगभग मुक्त हो चुका है। कोविड-19 महामारी की चुनौती से इन बीमारियों के मुकाबले कहीं बड़ी और ज्यादा कड़ी है। ऐसे में पूरी संभावना है कि सरकार कोविड-19 टीकाकरण अभियान भी चलाए। इस अभियान में लोगों को मुफ्त में या फिर मामूली कीमत पर टीका लगाए जाने की नीति तय हो सकती है।

​पूरी दुनिया में पहुंचाया जाएगा टीका
पूनावाला ने कहा कि पूरी दुनिया को कोविड-19 टीके की जरूरत है। सरकारें और संस्थान जल्द-से-जल्द कोरोना वैक्सीन के बाजार में उपलब्ध होने का इंतजार कर रही है। यह तभी संभव हो पाएगा जब सरकारी मशीनरी का भरपूर साथ मिले। उन्होंने कहा कि प्रॉडक्शन और डिस्ट्रिब्यूशन, दोनों काम में सरकारी तंत्र के सहयोग की दरकार होगी।

Comments

Popular posts from this blog

मकर संक्रांति 2021 तिथि, शुभ मुहूर्त | मकर संक्रांति क्यों मनाई जाती है?

मकर संक्रांति मकर संक्रांति  का भारतीय धार्मिक परम्परा में विशेष महत्व है, क्योंकि इस दिन सूर्य धनु राशि को छोड़ कर मकर राशि में प्रवेश कर उत्तरायण में आता है। शास्त्रों के अनुसार यह सकारात्मक ऊर्जा का प्रतीक है और इसीलिए इस दिन जप, तप, दान, स्नान का विशेष महत्व है।  मकर संक्रांति  परंपरागत रूप से 14 जनवरी या 15 जनवरी को मनाई जाती आ रही है।  मकर संक्रांति  में ‘मकर’ शब्द मकर राशि को इंगित करता है जबकि ‘संक्रांति’ का अर्थ संक्रमण अर्थात प्रवेश करना है।  मकर संक्रांति  के दिन सूर्य धनु राशि से मकर राशि में प्रवेश करता है। एक राशि को छोड़कर दूसरे में प्रवेश करने की इस विस्थापन क्रिया को संक्रांति कहते हैं। शास्त्रों के नियम के अनुसार रात में संक्रांति होने पर अगले दिन भी संक्रांति मनाई जाती है। मकर संक्रांति  के दिन सूर्य दक्षिणायन से अपनी दिशा बदलकर उत्तरायण हो जाता है अर्थात सूर्य उत्तर दिशा की ओर बढ़ने लगता है, जिससे दिन की लंबाई बढ़नी और रात की लंबाई छोटी होनी शुरू हो जाती है। भारत में इस दिन से बसंत ऋतु की शुरुआत मानी जाती है। अत:  मकर संक्रांति  को उत्तरायण के नाम से भी जाना जाता है। तम

रफत वारसी भाजपा अल्पसंख्यक मोर्चा प्रदेश अध्यक्ष बनाये गए

मध्य प्रदेश भाजपा अल्पसंख्यक मोर्चे की जवाबदारी प्रदेश के  युवा व वरिष्ठ नेता श्री रफत वारसी के हाथों में  मध्य प्रदेश भाजपा प्रदेश अध्यक्ष श्री विष्णु दत्त शर्मा ने मध्य प्रदेश के भाजपा संगठन का विस्तार किया है जिसमें मोर्चे के नए प्रदेश अध्यक्षों की भी नियुक्ति की गई है जिसमें मध्य प्रदेश के वरिष्ठ व युवा नेता श्री रफत वारसी को भाजपा अल्पसंख्यक मोर्चा का प्रदेश अध्यक्ष बनाकर भाजपा अल्पसंख्यक मोर्चा की जवाबदारी सौंपी गई है श्री रफत वारसी मध्यप्रदेश में एक उभरते हुए अल्पसंख्यक चेहरे है और भाजपा आलाकमान ने नए चेहरे के रूप में श्री वारसी साहब को यह नई जवाबदारी सौंपी है जिससे मध्य प्रदेश में भाजपा अल्पसंख्यक मोर्चा और मजबूत होने की संभावना बढ़ गई है वर्तमान में भाजपा अल्पसंख्यक मोर्चा में नई और युवा पीढ़ी के लोग अधिकतर काम कर रहे हैं और वारसी साहब के प्रदेश अध्यक्ष बनाए जाने से इसमें और अधिक वृद्धि होगी क्योंकि नए प्रदेश अध्यक्ष श्री वारसी साहब मध्यप्रदेश में अल्पसंख्यक समाज में अपनी गहरी पैठ रखते हैं उनके प्रदेश अध्यक्ष बनाए जाने से भारतीय जनता पार्टी अल्पसंख्यक मोर्चा बेहतर

शहीद हसमत वारसी जी के सुपुत्र रफत वारसी को मिला प्रदेश में महत्वपूर्ण पद

    शहीद हसमत वारसी जी  के सुपुत्र रफत वारसी को मिला प्रदेश में महत्वपूर्ण  पद          वी डी शर्मा जी ने गले लगा कर दी बधाई      मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान जी से आशीर्वाद लेते हुए       वी डी  शर्मा जी भाजपा प्रदेश अध्यक्ष  ने दिया आशीर्वाद          अपनी माँ परवीन वारसी जी से दुआयें  लेते हुए रफत वारसी ने किया पदभार ग्रहण 17 जनवरी 2021 को भाजपा अल्पसंख्यक मोर्चा के नव नियुक्त प्रदेश अध्यक्ष रफत वारसी ने किया पदभार ग्रहण रफत वारसी ने कहा मुस्लिम समाज में कई तरह के भ्रम हैँ जिन्हे दूर करने के लिए एक दल के साथ पुरे प्रदेश का भ्रमण करेंगे ! साथ ही उन्होंने पदभार ग्रहण में आये हुए  सभी  साथियों का तहे दिल से शुक्रिया  अदा किआ 

SHOP WITH US Apparel & Accessories