Skip to main content

बैंकों में आम आदमी का पैसा ना डूबे…इसके लिए RBI लाया ICMTS सिस्टम, जानिए इसके बारे में सबकुछ


आम लोगों के पैसों को सेफ करने के लिए RBI ने बड़ा कदम उठाया है. नए सिस्टम के जरिए अब आसानी से सभी बैंकों पर नज़र रखी जा सकेगी. आइए जानें इसके बारे में....

बैंकों में आम आदमी का पैसा ना डूबे...इसके लिए RBI लाया ICMTS सिस्टम, जानिए इसके बारे में सबकुछ
RBI ला रहा है नया सिस्टम

बीते कुछ महीनों में कई सहकारी बैंकों के लाइसेंस रद्द करने की खबरें आई है. ऐसे में सबसे बड़ी समस्या ग्राहकों के सामने खड़ी हो जाती है. RBI सख्त कार्रवाई करते हुए बैंक से डिपॉजिट निकालने की एक सीमा तय कर देता है. ग्राहक अपनी जमा रकम भी नहीं निकाल पाते है. इसीलिए अब आगे बैक न डूबे और उनकी आर्थिक सेहत का पता चलता रहे. इसको लेकर आरबीआई (RBI- Reserve Bank of India) ने बड़ा कदम उठाया है. RBI एक नया सिस्टम ICMTS-Integrated Compliance Management and Tracking System लागू करने जा रहा है. RBI ने इस सिस्टम की पूरी जानकारी अपनी सालाना रिपोर्ट में जारी की है. आइए जानें इसके बारे में…

क्या है RBI का नया सिस्टम

एक्सपर्ट्स का कहना है कि आरबीआई ICMTS-Integrated Compliance Management and Tracking System के जरिए बैंकों की निगरानी बेहतर तरीके से कर पाएगा. जी हां, इस इंटरग्रेटिड सिस्टम में सभी बैंक आपस में जुड़े रहेंगे और डेटा शेयर करेंगे. इससे सही समय पर बैंक के डूबने वाले कर्जों की जानकारी मिल जाएगी.

RBI की सालाना रिपोर्ट में बताया गया है कि यह एक वेब-आधारित इंटरफ़ेस होगा. इससे सभी बैंक और एनबीएफसी (NBFC-Non Banking Financial Companies) जुड़ी रहेंगी.

इसके जरिए सभी साइबर घटानाओं की ऑनलाइन रिपोर्टिंग हो पाएगी. साथ ही, ये डेटा सभी बैंक और एनबीएफसी रियल टाइम में मिलता रहेगा.

आम लोगों के पैसों को डूबने से बचाने में मिलेगी मदद

बैंकिंग एक्सपर्ट्स बताते हैं कि इस सिस्टम से बैंकों में धोखाधड़ी रोकने में मदद मिलेगी. उदाहरण के तौर पर समझें तो अगर कोई व्यक्ति  या कंपनी देश के किसी सरकारी बैंक से पैसा लेती है.

लेकिन लोन नहीं चुकाने पर डिफॉल्ट हो जाता है तो उसका डेटा सभी बैंकों और एनबीएफसी के पास भेज दिया जाएगा. ऐसे में लोन की सही से ट्रैकिंग हो पाएगी. साथ ही, बैंकों के ये भी पता चलता रहेगा कि किस सेक्टर में ज्यादा डिफॉल्ट हो रहा है.

लिहाजा बैंकों और एनबीएफसी कंपनियों की जानकारी रियलटाइम में RBI को मिलती रहेगी. ऐसे में RBI समय समय पर कदम उठाकर आम लोगों के पैसों को सेफ कर सकेगा.

RBI आसानी से उठा सकेगा कदम

ICMTS से देश के अच्छी सेहत और खराब सेहत वाले सेक्टर्स की जानकारी भी RBI को आसानी से और तेजी से मिल जाएगी. ऐसे में RBI उन सेक्टर्स के लिए कदम उठाकर उनकी आर्थिक सेहत को बेहतर बनाने का काम करेगा.

बैंक के डूबने पर कितने पैसे सुरक्षित

DICGC एक्ट, 1961 की धारा 16 (1) के प्रावधानों के तहत, अगर कोई बैंक डूब जाता है या दिवालिया हो जाता है, तो DICGC प्रत्येक जमाकर्ता को भुगतान करने के लिए उत्तरदायी होता है.

उसकी जमा राशि पर 5 लाख रुपये तक का बीमा होगा. आपका एक ही बैंक की कई ब्रांच में खाता है तो सभी खातों में जमा अमाउंट और ब्‍याज जोड़ा जाएगा और केवल 5 लाख तक जमा को ही सुरक्षित माना जाएगा.

इसमें मूलधन और ब्‍याज (Principal and Interest) दोनों को शामिल किया जाता है. मतलब साफ है कि अगर दोनों जोड़कर 5 लाख से ज्यादा है तो सिर्फ 5 लाख ही सुरक्षित माना जाएगा.

इसे आसान भाषा में समझें. मान लीजिए किसी बैंक में आपका पैसा फंसा है लेकिन वह बैंक दिलालिएपन की कगार पर है. बैंक चल तो रहा है लेकिन उसके कभी भी बंद होने की आशंका है. गहरे घाटे में जा रहे बैंक की माली हालत खास्ता है.

ऐसे में जमाकर्ता को लगता है कि उसका पैसा डूब सकता है तो वह चाहे तो अपना पैसा निकाल सकता है. साल भर पहले ऐसा नहीं था.

इस नए कानून को डिपॉजिट स्कीम का नाम दिया गया है. इस स्कीम के जरिये जमाकर्ता को बैंक के नाकाम होने पर भी तुरंत 5 लाख रुपये मिलेंगे.

डीआईसीजीसी के दायरे में बैंक का सभी डिपॉजिट आता है. इसमें सेविंग्स अकाउंट, फिक्सड डिपॉजिट अकाउंट, करंट अकाउंट आदि शामिल होता है.

Comments

Popular posts from this blog

मकर संक्रांति 2021 तिथि, शुभ मुहूर्त | मकर संक्रांति क्यों मनाई जाती है?

मकर संक्रांति मकर संक्रांति  का भारतीय धार्मिक परम्परा में विशेष महत्व है, क्योंकि इस दिन सूर्य धनु राशि को छोड़ कर मकर राशि में प्रवेश कर उत्तरायण में आता है। शास्त्रों के अनुसार यह सकारात्मक ऊर्जा का प्रतीक है और इसीलिए इस दिन जप, तप, दान, स्नान का विशेष महत्व है।  मकर संक्रांति  परंपरागत रूप से 14 जनवरी या 15 जनवरी को मनाई जाती आ रही है।  मकर संक्रांति  में ‘मकर’ शब्द मकर राशि को इंगित करता है जबकि ‘संक्रांति’ का अर्थ संक्रमण अर्थात प्रवेश करना है।  मकर संक्रांति  के दिन सूर्य धनु राशि से मकर राशि में प्रवेश करता है। एक राशि को छोड़कर दूसरे में प्रवेश करने की इस विस्थापन क्रिया को संक्रांति कहते हैं। शास्त्रों के नियम के अनुसार रात में संक्रांति होने पर अगले दिन भी संक्रांति मनाई जाती है। मकर संक्रांति  के दिन सूर्य दक्षिणायन से अपनी दिशा बदलकर उत्तरायण हो जाता है अर्थात सूर्य उत्तर दिशा की ओर बढ़ने लगता है, जिससे दिन की लंबाई बढ़नी और रात की लंबाई छोटी होनी शुरू हो जाती है। भारत में इस दिन से बसंत ऋतु की शुरुआत मानी जाती है। अत:  मकर संक्रांति  को उत्तरायण के नाम से भी जाना जाता है। तम

बड़ी ख़बर। महाराजपुरा पुलिस को मिली बड़ी सफलता

ग्वालियर - बड़ी ख़बर। महाराजपुरा पुलिस को मिली बड़ी सफलता शातिर चोर पकडे 10 लाख का माल बरामद। महाराजपुरा पुलिस ने दबिश देकर पकड़ा चोरों का ग्रुप महाराजपुरा थाना प्रभारी मिर्ज़ा आसिफ बेग और उनकी टीम के द्वारा कार्यवाही की गई। महराजपुरा टीम को बड़ी सफलता हासिल हुई।  10 लाख का माल भी बरामद किया गया।  महाराजपुर टीआई मिर्जा बेग ने बताया चोरों से 6 एलसीडी 8 लैपटॉप दो होम थिएटर 6 मोबाइल फोन एक स्कूटी टेबल फैन सिलेंडर बरामद हुआ है उनसे करीब 4 चोरियों का खुलासा हुआ है करीब 10 चोरियां कि गिरोह ने हामी भरी है 

Lockdown: पूरे राज्य में फिर लॉकडाउन, सील होंगी पूरी सीमाएं

कोरोना की स्थिति गंभीर होने पर कई राज्यों में फिर लॉकडाउन की स्थिति, सभी सीमाएं भी की जा रही हैं सील...। भोपाल। मध्यप्रदेश समेत पांच राज्य एक बार फिर लॉकडाउन की तरफ बढ़ रहे हैं। मध्यप्रदेश में लगातार बढ़ते मामलों के बाद रविवार को पूरे प्रदेश में लॉकडाउन (Complete Lockdown) लगाया जा रहा है। प्रदेश में कोरोना संक्रमण (Covid 19) की समीक्षा करते हुए मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान और गृह एवं स्वास्थ्य मंत्री नरोत्तम मिश्र ने तय किया है कि अब सप्ताह में एक दिन रविवार को पूरा प्रदेश बंद रहेगा। उधर, मध्यप्रदेश के अलावा बिहार, उत्तरप्रदेश में भी लाकडाउन के आदेश जारी कर दिए गए हैं।   मध्यप्रदेश में पिछले तीन दिनों में 11 सौ से अधिक संक्रमित मरीज मिलने और जबकि 409 एक ही दिन में संक्रमित मिलने के बाद यह फैसला लिया जा रहा है इस दौरान प्रदेश की सीमाएं भी सील की जा सकती है। सिर्फ इमरजेंसी सेवाएं ही चलती रहेंगी। गृह विभाग के बाद भोपाल समेत सभी जिलों के कलेक्टर अपने-अपने जिले के लिए एडवायजरी (Advisery'guideline) जारी कर रहे हैं।   गृहमंत्री नरोत्तम मिश्र के मुताबिक इस सप्ताह में एक दिन का लाकडाउन ही