कोरोना काल में बड़े काम की है ये जड़ीबूटियां, सच्चे साथी की तरह आपके जीवन को बचाने में होगी मददगार


कोरोना काल में इम्यून सिस्टम को मजबूत रखना बहुत जरूरी हो गया है. ज्यादातर लोग इसके लिए खानपान और आयुर्वेदिक जड़ीबूटियों के भरोसे हैं क्योंकि आयुर्वेद में इम्युनिटी बढ़ाने के लिए इनका बहुत बड़ा रोल माना गया है

कोरोना काल में बड़े काम की है ये जड़ीबूटियां, सच्चे साथी की तरह आपके जीवन को बचाने में होगी मददगार
सांकेतिक तस्वीर

इस समय कोरोना की दूसरी लहर देश में है. तमाम लोग फिर से इसकी चपेट में आ रहे हैं. ऐसे में इम्यून सिस्टम को मजबूत रखना बहुत जरूरी हो गया है. ज्यादातर लोग इसके लिए खानपान और आयुर्वेदिक जड़ीबूटियों के भरोसे हैं क्योंकि आयुर्वेद में इम्युनिटी बढ़ाने के लिए इनका बहुत बड़ा रोल माना गया है.

काढ़े के रूप में सबसे ज्यादा प्रयोग अश्वगंधा, मुलैठी और गिलोय का किया गया है. इन जड़ीबूटियों से बने काढ़े ने बेहतर इम्युनिटी बूस्टर का काम किया है और इसे पीने के बाद तमाम लोगों को काफी फायदा भी हुआ है. आइए जानते हैं इनके फायदों के बारे में.

अश्वगंधा के फायदे

अश्वगंधा का प्रयोग लंबे समय से कई रोगों के उपचार के लिए किया जा रहा है. इम्युनिटी बढ़ाने के अलावा ये बैक्टीरियल इंफेक्शन को रोकता है. शारीरिक कमजोरी को दूर करता है और डायबिटीज, हाई बीपी से लेकर कैंसर जैसी बीमारी में भी असरकारी बताया जाता है. आप इसका सेवन नियमित रूप से रात को सोते समय दूध के साथ कर सकते हैं.

गले और छाती के संक्रमण को दूर करती मुलैठी

सर्दी, जुकाम, खांसी, खराश जैसे लक्षण कोरोना के भी माने जा रहे हैं. मुलैठी इन सभी परेशानियों को दूर करने में सहायक है. एंटीबॉयोटिक होने के साथ एंटीऑक्सीडेंट से भरपूर हैं. संक्रमण रोकने के अलावा ये सांस संबन्धी समस्याओं को दूर करने में सहायक है. ये फेफड़े में जकड़े कफ को भी बाहर निकाल देती है. आप मुलैठी को एक कप पानी में उबालें और जब पानी आधा रह जाए तो इसे छानकर चाय की तरह पिएं.

बुखार में राहत देती गिलोय

गिलोय को आयुर्वेद में चमत्कारिक औषधि माना जाता है. इम्यून सिस्टम दुरुस्त करने के अलावा इसका प्रयोग बुखार को उतारने के लिए भी किया जाता है. गिलोय का सेवन डायबिटीज, कफ, एसिडिटी, गठिया, लिवर, हार्ट डिजीज से लेकर कैंसर तक के मरीजों के लिए लाभकारी है. इसका काढ़ा बनाने के लिए आप एक गिलास पानी में गिलोय के डंठल को कूटकर डालें. धीमी आंच पर उबलने दें. चुटकी भर हल्दी भी डाल दें. आधा रह जाने पर छान कर गर्म-गर्म चाय की तरह पिएं.

Comments

Popular posts from this blog

India-China Face Off: भारत-चीन के बीच हुआ युद्ध, तो जानें किसकी मिसाइल है ज्यादा कारगर?

मकर संक्रांति 2021 तिथि, शुभ मुहूर्त | मकर संक्रांति क्यों मनाई जाती है?

बड़ी ख़बर। महाराजपुरा पुलिस को मिली बड़ी सफलता