Skip to main content

सब्जी और फल हुए पुराने… अब तो दवाइयों के पौधे लगाकर अच्छा कमाने का है मौका! ये रहा पूरा प्लान


आप औषधीय फसलों की खेती करना चाहते हैं तो आपको कमाई के भी कई ऑप्शन मिलेंगे. इसके अलावा खास बात ये है कि इन फसलों को ज्यादा पानी या खास तरह की मिट्टी की आवश्यकता नहीं है

सब्जी और फल हुए पुराने... अब तो दवाइयों के पौधे लगाकर अच्छा कमाने का है मौका! ये रहा पूरा प्लान
यह औषधियां करीब 8500 तरीके की होती हैं. इन औषधियों को तीन कैटेगरी में बांटा जाता है.

अब किसान पारंपरिक फसलों को छोड़कर अलग अलग तरीके की खेती कर रहे हैं, इसमें स्ट्रॉबेरी से लेकर चिया सीड्स तक शामिल है. ऐसे में अब किसान औषधीय फसलों की भी खेती कर रहे हैं, जिससे उन्हें अच्छा फायदा हो रहा है. ऐसे में आप औषधीय फसलों की खेती करना चाहते हैं तो आपको कमाई के भी कई ऑप्शन मिलेंगे. इसके अलावा खास बात ये है कि इन फसलों को ज्यादा पानी या खास तरह की मिट्टी की आवश्यकता नहीं है. ऐसे में कम संसाधनों के साथ भी इनकी खेती कर सकती हैं, जो बाजार में अच्छे दाम में बिक रही है.

यह औषधियां करीब 8500 तरीके की होती हैं. इन औषधियों को तीन कैटेगरी में बांटा जाता है. इनमें एक कैटेगरी उन फसलों की है, जो सीधे काम में ली जाती है, जैसे तुलसी. इसके अलावा एक खेती होती है, जिनका इस्तेमाल आयुर्वेदिक दवाइयों में किया जाता है और तीसरी तरह की फसलें फार्मिस्ट कंपनियों के लिए काम की होती है. बता दें कि सभी फसलें अपने अपने क्षेत्र की जलवायु के हिसाब से होती है और उस हिसाब से ही आपको खेती करनी चाहिए.

कहां कौनसी खेती कर सकते हैं.

वैसे हर खेती आपके क्षेत्र की जलवायु पर निर्भर करती है. राजस्थान और गुजरात में औषधीय फसलों की खेती ज्यादा होता है और जहां ज्यादा उपजाऊ जमीन नहीं होती है. वहीं, कई तरह के औषधीय पौधों की खेती की जा सकती है. अभी इनकी काफी मांग बढ़ रही हैं. वहीं, उत्तरप्रदेश, बिहार, बंगाल के किसान सिंचाई की व्यवस्था अच्छी होने की वजह से आप कालमेघ की खेती कर सकते हैं. इसके फूल से लेकर पत्तियां और तने सबी अच्छे दाम में बिकते हैं. इसके पांचों अंग अच्छे दाम में बिकते हैं.

किस की खेती कर सकते हैं?

इसमें आप अश्वगंधी, गिलोय, भृंगराज, सतावर, पुदीना, मोगरा, तुलसी, घृतकुमारी, ब्राह्मी, शंखपुष्पी और गूलर आदि की खेती कर सकते हैं. बता दें कि आत्मनिर्भर भारत अभियान के तहत दिए गए आर्थिक पैकेज में औषधीय यानी हर्बल खेती को प्रोत्साहन देने के लिए 4000 करोड़ रुपये दिए गए हैं. किसानों की आय दोगुनी करने में कारगर है.

कितने तरह की होती है खेती?

औषधीय पौधों की खेती दो तरीकों से की जा सकती है. इसमें कुछ ऐसे होते हैं, जिनके फूल और पत्तियों का इस्तेमाल दवाइयों के रूप में किया जाता है, जिसमें आंवला, नीम और चंदन आदि महत्वपूर्ण है और यह पौधे लंबी अवधि में वृक्ष की शक्ल लेते हैं. इसकी लकड़ी, पत्तियां आदि काम आती हैं. हालांकि, इससे लम्बे समय बाद मुनाफा मिलना शुरू होता है.

कम समय में ज्यादा मुनाफा देने वाली खेती

ऊपर बताई गई खेती में आपको लंबे वक्त बाद कमाई होना शुरू होती है. वहीं, ईसबगोल, तुलसी, एलोविरा, हल्दी और अदरक की खेती से कम समय में ही इनकम शुरू हो जाती हा. इन सभी का इस्तेमाल आयुर्वेदिक दवाएं बनाने में किया जाता है.

अच्छी होती है इनकम

बता दें कि इन औषधियों की काफी मांग बढ़ रही है और खास बात ये है कि इनमें कम निवेश के अच्छी खेती हो सकती है. साथ ही यह बाजार में भी अच्छी कीमत में बिकते हैं. इसलिए अगर आप सही तकनीक से इसकी खेती करते हैं तो आप आसानी से अच्छे पैसे कमा सकते हैं.

Comments

Popular posts from this blog

मकर संक्रांति 2021 तिथि, शुभ मुहूर्त | मकर संक्रांति क्यों मनाई जाती है?

मकर संक्रांति मकर संक्रांति  का भारतीय धार्मिक परम्परा में विशेष महत्व है, क्योंकि इस दिन सूर्य धनु राशि को छोड़ कर मकर राशि में प्रवेश कर उत्तरायण में आता है। शास्त्रों के अनुसार यह सकारात्मक ऊर्जा का प्रतीक है और इसीलिए इस दिन जप, तप, दान, स्नान का विशेष महत्व है।  मकर संक्रांति  परंपरागत रूप से 14 जनवरी या 15 जनवरी को मनाई जाती आ रही है।  मकर संक्रांति  में ‘मकर’ शब्द मकर राशि को इंगित करता है जबकि ‘संक्रांति’ का अर्थ संक्रमण अर्थात प्रवेश करना है।  मकर संक्रांति  के दिन सूर्य धनु राशि से मकर राशि में प्रवेश करता है। एक राशि को छोड़कर दूसरे में प्रवेश करने की इस विस्थापन क्रिया को संक्रांति कहते हैं। शास्त्रों के नियम के अनुसार रात में संक्रांति होने पर अगले दिन भी संक्रांति मनाई जाती है। मकर संक्रांति  के दिन सूर्य दक्षिणायन से अपनी दिशा बदलकर उत्तरायण हो जाता है अर्थात सूर्य उत्तर दिशा की ओर बढ़ने लगता है, जिससे दिन की लंबाई बढ़नी और रात की लंबाई छोटी होनी शुरू हो जाती है। भारत में इस दिन से बसंत ऋतु की शुरुआत मानी जाती है। अत:  मकर संक्रांति  को उत्तरायण के नाम से भी जाना जाता है। तम

रफत वारसी भाजपा अल्पसंख्यक मोर्चा प्रदेश अध्यक्ष बनाये गए

मध्य प्रदेश भाजपा अल्पसंख्यक मोर्चे की जवाबदारी प्रदेश के  युवा व वरिष्ठ नेता श्री रफत वारसी के हाथों में  मध्य प्रदेश भाजपा प्रदेश अध्यक्ष श्री विष्णु दत्त शर्मा ने मध्य प्रदेश के भाजपा संगठन का विस्तार किया है जिसमें मोर्चे के नए प्रदेश अध्यक्षों की भी नियुक्ति की गई है जिसमें मध्य प्रदेश के वरिष्ठ व युवा नेता श्री रफत वारसी को भाजपा अल्पसंख्यक मोर्चा का प्रदेश अध्यक्ष बनाकर भाजपा अल्पसंख्यक मोर्चा की जवाबदारी सौंपी गई है श्री रफत वारसी मध्यप्रदेश में एक उभरते हुए अल्पसंख्यक चेहरे है और भाजपा आलाकमान ने नए चेहरे के रूप में श्री वारसी साहब को यह नई जवाबदारी सौंपी है जिससे मध्य प्रदेश में भाजपा अल्पसंख्यक मोर्चा और मजबूत होने की संभावना बढ़ गई है वर्तमान में भाजपा अल्पसंख्यक मोर्चा में नई और युवा पीढ़ी के लोग अधिकतर काम कर रहे हैं और वारसी साहब के प्रदेश अध्यक्ष बनाए जाने से इसमें और अधिक वृद्धि होगी क्योंकि नए प्रदेश अध्यक्ष श्री वारसी साहब मध्यप्रदेश में अल्पसंख्यक समाज में अपनी गहरी पैठ रखते हैं उनके प्रदेश अध्यक्ष बनाए जाने से भारतीय जनता पार्टी अल्पसंख्यक मोर्चा बेहतर

शहीद हसमत वारसी जी के सुपुत्र रफत वारसी को मिला प्रदेश में महत्वपूर्ण पद

    शहीद हसमत वारसी जी  के सुपुत्र रफत वारसी को मिला प्रदेश में महत्वपूर्ण  पद          वी डी शर्मा जी ने गले लगा कर दी बधाई      मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान जी से आशीर्वाद लेते हुए       वी डी  शर्मा जी भाजपा प्रदेश अध्यक्ष  ने दिया आशीर्वाद          अपनी माँ परवीन वारसी जी से दुआयें  लेते हुए रफत वारसी ने किया पदभार ग्रहण 17 जनवरी 2021 को भाजपा अल्पसंख्यक मोर्चा के नव नियुक्त प्रदेश अध्यक्ष रफत वारसी ने किया पदभार ग्रहण रफत वारसी ने कहा मुस्लिम समाज में कई तरह के भ्रम हैँ जिन्हे दूर करने के लिए एक दल के साथ पुरे प्रदेश का भ्रमण करेंगे ! साथ ही उन्होंने पदभार ग्रहण में आये हुए  सभी  साथियों का तहे दिल से शुक्रिया  अदा किआ 

SHOP WITH US Apparel & Accessories