Skip to main content

राकेश झुनझुनवाला ने सिर्फ एक हफ्ते में कमाए 476 करोड़ रुपये, आप भी ऐसे कर सकते हो मोटी कमाई, जानिए सभी बातें…


भारत के साथ-साथ दुनियाभर में मशहूर निवेशक राकेश झुनझुनवाला ने शेयर बाजार से हजारों करोड़ रुपए कमाए हैं. अगर आप स्टॉक मार्केट से करना चाहते हैं कमाई तो जानिए उनके टिप्स के बारे में...


राकेश झुनझुनवाला ने सिर्फ एक हफ्ते में कमाए 476 करोड़ रुपये, आप भी ऐसे कर सकते हो मोटी कमाई, जानिए सभी बातें...
राकेश झुनझुनवाला

राकेश झुनझुनवाला आज एक बार फिर से चर्चा में है. इस बार उनकी चर्चा एक आईपीओ की लिस्टिंग को लेकर हो रही है. मंगलवार को गेमिंग और स्पोर्ट्स मीडिया प्लेटफॉर्म नजारा टेक्नोलॉजी कंपनी की शेयर की बाजार (Stock Market) में दमदार एंट्री हुई है. कंपनी का शेयर एनएसई पर 1101 रुपये प्रति शेयर के मुकाबले 1990 रुपये पर लिस्ट हुआ. इस दौरान उन्होंने एक झटके में 476 करोड़ रुपये कमा लिए. नजारा टेक्नोलॉजी में उनकी करीब 10.82 फीसदी हिस्सेदारी है. अब उनके शेयरों की कीमत बढ़कर 656 करोड़ रुपये हो गई है. राकेश झुनझुनवाला ने नजारा टेक्नोलॉजी में 180 करोड़ रुपये में हिस्सेदारी खरीदी थी. एक्सपर्ट्स कहते हैं कि आईपीओ मार्केट से आम निवेशक भी अच्छे रिटर्न हासिल कर सकते है. आइए जानें इसके बारे में…

सबसे पहले जानते हैं आखिर आईपीओ होता क्या है?

जब भी कोई कंपनी पहले बार शेयर बाजार से पैसा जुटाती है तो उसे आईपीओ लाना होता है. आईपीओ के जरिए कंपनी का मालिक अपनी हिस्सेदारी बेचकर पैसा जुटाता है. उसका इस्तेमाल कंपनी के विस्तार पर किया जाता है.

आईपीओ आने के बाद एक हफ्ते में शेयर की लिस्टिंग होती है. कंपनी का विज्ञापन अखबार, टीवी और डिजिटल प्लेटफॉर्म के जरिए देती है.

आईपीओ में निवेश की कई केटिगिरी होती है. आम निवेशक रिटेल केटेगिरी में आईपीओ के लिए आवेदन करता है. कम से कम एक लॉट (अधिकतम 15 हजार रुपये की कीमत वाले शेयर) और अधिकतम 2 लाख रुपये की कीमत वाले शेयरों के लिए आवेदन कर सकता है.

आईपीओ में निवेश के लिए निवेशक को डी-मैट अकाउंट खुलवाना पड़ता है. इसके बाद उस अकाउंट के लिए अप्लाई किया जा सकता है.

आज क्या हुआ

नजारा टेक्नोलॉजी का शेयर बीएसई और एनएसई पर 79 फीसदी की तेजी के साथ लिस्ट हुआ. अगर आसान शब्दों में कहें तो किसी ने आईपीओ में पैसा लगाया होता तो उसे एक लॉट यानी 14 शेयर मिलते. तो आज लिस्टिंग के दिए एक शेयर पर 90 रुपये का फायदा होता. इस लिहाज से 15 हजार रुपये का इन्वेस्टमेंट बढ़कर करीब 28 हजार रुपये हो जाता.

अब सवाल उठता है कि आखिरी अच्छी कंपनी कैसे चुनें

इस पर देश के सबसे बड़े निवेशक राकेश झुनझुनवाला का कहना है कि व्यापार में निवेश करें, न कि किसी कंपनी में. झुनझुनवाला अक्सर अपने इंटरव्यू में कहते हैं कि कंपनी से ज्यादा उसके कारोबार पर फोकस करना चाहिए.

कंपनी किस तरह के कारोबार में है और उस कारोबार में आगे चलकर कितना फायदा होने की उम्मीद है, एक निवेशक की हमेशा इस पर नजर होनी चाहिए.

झुनझुनवाला को अपने निवेश में नुकसान भी उठाना पड़ा है. इसका बेहतर उदाहरण है मिड-डे मल्टीमीडिया. लेकिन इससे वे पीछे नहीं हटे.

तेजी में सबका फायदा और मंदी में सबका नुकसान हो, ऐसा नहीं हो सकता. इसलिए यह मायने नहीं रखता कि मैं वैश्विक कुबेरों की सूची में शामिल हुआ या नहीं.

सच यह है कि मैं अपने काम को एंजॉय करता हूं, जिसका बाय प्रोडक्ट है पैसा. मेरा बिजनेस मंत्र सरल है- ‘बाय राइट एंड होल्ड टाइट’ यानी सही समय पर सही शेयर खरीदों और उसे जकड़ कर रखो.

आइए राकेश झुनझुनवाला के बारे में जानते हैं…

ने सन 1985 में स्नातक करके फुल टाइम शेयर बाजार में कारोबार शुरू किया, तब सेंसेक्स में केवल 150 कंपनियां ही लिस्टेड थीं.

एक आंकलन के अनुसार बीते एक साल में शेयर मार्केट की तेजी के दौर में उन्होने हर सप्ताह औसतन 59 करोड़ रुपए की कमाई की है.

वे चाहें तो इससे हर घंटे एक मर्सिडीज बेंज या बीएमडब्ल्यू कार खरीद सकते हैं.राकेश झुनझुनवाला ने सन 1985 में स्नातक करके फुल टाइम शेयर बाजार में कारोबार शुरू किया, तब सेंसेक्स में केवल 150 कंपनियां ही लिस्टेड थीं.

राकेश झुनझुनवाला ने बीते हफ्ते कहा था कि उनके पोर्टफोलियो में शामिल अनलिस्टेड कंपनियों ने उन्हें स्टॉक मार्केट में लिस्टेड कंपनियों से अधिक रिटर्न दिया है.

झुनझुनवाला ने कहा कि उन्होंने इन अनलिस्टेड कंपनियों यानी वैसी कंपनियां जो स्टॉक मार्केट में लिस्टेड नहीं है, इनमें 10 से 12 साल पहले निवेश किया था.

Comments

Popular posts from this blog

मकर संक्रांति 2021 तिथि, शुभ मुहूर्त | मकर संक्रांति क्यों मनाई जाती है?

मकर संक्रांति मकर संक्रांति  का भारतीय धार्मिक परम्परा में विशेष महत्व है, क्योंकि इस दिन सूर्य धनु राशि को छोड़ कर मकर राशि में प्रवेश कर उत्तरायण में आता है। शास्त्रों के अनुसार यह सकारात्मक ऊर्जा का प्रतीक है और इसीलिए इस दिन जप, तप, दान, स्नान का विशेष महत्व है।  मकर संक्रांति  परंपरागत रूप से 14 जनवरी या 15 जनवरी को मनाई जाती आ रही है।  मकर संक्रांति  में ‘मकर’ शब्द मकर राशि को इंगित करता है जबकि ‘संक्रांति’ का अर्थ संक्रमण अर्थात प्रवेश करना है।  मकर संक्रांति  के दिन सूर्य धनु राशि से मकर राशि में प्रवेश करता है। एक राशि को छोड़कर दूसरे में प्रवेश करने की इस विस्थापन क्रिया को संक्रांति कहते हैं। शास्त्रों के नियम के अनुसार रात में संक्रांति होने पर अगले दिन भी संक्रांति मनाई जाती है। मकर संक्रांति  के दिन सूर्य दक्षिणायन से अपनी दिशा बदलकर उत्तरायण हो जाता है अर्थात सूर्य उत्तर दिशा की ओर बढ़ने लगता है, जिससे दिन की लंबाई बढ़नी और रात की लंबाई छोटी होनी शुरू हो जाती है। भारत में इस दिन से बसंत ऋतु की शुरुआत मानी जाती है। अत:  मकर संक्रांति  को उत्तरायण के नाम से भी जाना जाता है। तम

रफत वारसी भाजपा अल्पसंख्यक मोर्चा प्रदेश अध्यक्ष बनाये गए

मध्य प्रदेश भाजपा अल्पसंख्यक मोर्चे की जवाबदारी प्रदेश के  युवा व वरिष्ठ नेता श्री रफत वारसी के हाथों में  मध्य प्रदेश भाजपा प्रदेश अध्यक्ष श्री विष्णु दत्त शर्मा ने मध्य प्रदेश के भाजपा संगठन का विस्तार किया है जिसमें मोर्चे के नए प्रदेश अध्यक्षों की भी नियुक्ति की गई है जिसमें मध्य प्रदेश के वरिष्ठ व युवा नेता श्री रफत वारसी को भाजपा अल्पसंख्यक मोर्चा का प्रदेश अध्यक्ष बनाकर भाजपा अल्पसंख्यक मोर्चा की जवाबदारी सौंपी गई है श्री रफत वारसी मध्यप्रदेश में एक उभरते हुए अल्पसंख्यक चेहरे है और भाजपा आलाकमान ने नए चेहरे के रूप में श्री वारसी साहब को यह नई जवाबदारी सौंपी है जिससे मध्य प्रदेश में भाजपा अल्पसंख्यक मोर्चा और मजबूत होने की संभावना बढ़ गई है वर्तमान में भाजपा अल्पसंख्यक मोर्चा में नई और युवा पीढ़ी के लोग अधिकतर काम कर रहे हैं और वारसी साहब के प्रदेश अध्यक्ष बनाए जाने से इसमें और अधिक वृद्धि होगी क्योंकि नए प्रदेश अध्यक्ष श्री वारसी साहब मध्यप्रदेश में अल्पसंख्यक समाज में अपनी गहरी पैठ रखते हैं उनके प्रदेश अध्यक्ष बनाए जाने से भारतीय जनता पार्टी अल्पसंख्यक मोर्चा बेहतर

शहीद हसमत वारसी जी के सुपुत्र रफत वारसी को मिला प्रदेश में महत्वपूर्ण पद

    शहीद हसमत वारसी जी  के सुपुत्र रफत वारसी को मिला प्रदेश में महत्वपूर्ण  पद          वी डी शर्मा जी ने गले लगा कर दी बधाई      मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान जी से आशीर्वाद लेते हुए       वी डी  शर्मा जी भाजपा प्रदेश अध्यक्ष  ने दिया आशीर्वाद          अपनी माँ परवीन वारसी जी से दुआयें  लेते हुए रफत वारसी ने किया पदभार ग्रहण 17 जनवरी 2021 को भाजपा अल्पसंख्यक मोर्चा के नव नियुक्त प्रदेश अध्यक्ष रफत वारसी ने किया पदभार ग्रहण रफत वारसी ने कहा मुस्लिम समाज में कई तरह के भ्रम हैँ जिन्हे दूर करने के लिए एक दल के साथ पुरे प्रदेश का भ्रमण करेंगे ! साथ ही उन्होंने पदभार ग्रहण में आये हुए  सभी  साथियों का तहे दिल से शुक्रिया  अदा किआ 

SHOP WITH US Apparel & Accessories