Skip to main content

ट्रेन या रेलवे ​स्टेशन पर की ये गलती तो घर के बदले पहुंच जाएंगे हवालात! 31 मार्च से लागू होगा नया प्लान


Indian Railways: ट्रेन और स्टेशन परिसर में सिगरेट पीते हुए पकड़े जाने पर रेलवे एक्ट और तंबाकू एक्ट के तहत कार्रवाई होगी. ऐसा करने पर गिरफ्तारी भी हो सकती है और जुर्माना भी लगाया जा सकता है


ट्रेन या रेलवे ​स्टेशन पर की ये गलती तो घर के बदले पहुंच जाएंगे हवालात! 31 मार्च से लागू होगा नया प्लान
भारतीय रेलवे (सांकेतिक तस्‍वीर)

एक सप्ताह के भीतर देश की 2 प्रतिष्ठित ट्रेनों में आग लगने की घटना के बाद रेलवे (Indian Railways) ने बड़ा कदम उठाया है. 13 मार्च को देहरादून शताब्दी और 20 मार्च को लखनऊ शताब्दी में आग लगने की घटना के बाद रेल मंत्रालय ने ट्रेनों में स्मोकिंग करने और ज्वलनशील पदार्थों के ट्रांसपोर्टेशन को लेकर सख्त कदम उठाया है. अब ट्रेनों में ऐसा करने पर कड़ी कार्रवाई की जाएगी. इसके लिए रेलवे ने 31 मार्च से लेकर 30 अप्रैल तक गहन चेकिंग अभियान चलाने का निर्णय लिया है

हालांकि इस अभियान की शुरुआत 22 मार्च से हो चुकी है. फिलहाल रेलयात्रियों को इस बारे में जागरूक किया जा रहा है. लेकिन 31 मार्च से मिशन मोड में अभियान चलाया जाएगा और सख्त कार्रवाई होगी. इस संबंध में इंडियन रेलवे (Indian Railways) ने सभी जोन को अभियान चलाने का निर्देश दिया है

सोशल मीडिया, नुक्कड़ नाटकों के जरिये जागरूकता

सबसे पहले 7 दिन तक ट्रेनों में धूम्रपान न करने और ज्वलनशील सामान के साथ यात्रा नहीं करने को लेकर जागरूकता अभियान चलाया जाएगा. इसमें रेलकर्मी, संविदाकर्मी, आउटसोर्सिंग स्टाफ, कैटरिंग स्टाफ, पार्सल पोर्टर्स को शामिल किया जाएगा. स्टेशन परिसरों में नुक्कड़ नाटक, अनाउंसमेंट, अखबारों और टीवी चैनलों में विज्ञापन और सोशल मीडिया की मदद से लोगों को जागरूक किया जाएगा

​टिकट कलेक्टर, आरपीएफ एएसआई को होगा ​अधिकार

ट्रेन और स्टेशन परिसर में सिगरेट पीते हुए पकड़े जाने पर रेलवे एक्ट और तंबाकू एक्ट के तहत कार्रवाई होगी. ऐसा करने पर गिरफ्तारी भी हो सकती है और जुर्माना भी लगाया जा सकता है. सघन चेकिंग अभियान के तहत टिकट कलेक्टर या उससे ऊपर के अधिकारी, आरपीएफ में एएसआई या उससे अधिक रैंक के अधिकारी को सिगरेट और तंबाकू उत्‍पाद एक्‍ट 2003 के तहत कार्रवाई करने का अधिकार होगा

स्टोव, सिगरी, एलपीजी के इस्तेमाल पर कार्रवाई

ट्रेनों में ज्वलनशील और विस्फोटक पदार्थ कैरी करना कानूनन जुर्म है. इसको लेकर सघन चेकिंग अभियान चलाया जाएगा. सवारी डिब्बे में और पार्सल बोगी में भी ऐसे सामान ​कैरी करने पर रेलवे एक्ट के तहत कार्रवाई होगी. रेलवे ने कहा है कि ट्रेनों में वेंडर्स द्वारा सिगरी, स्टोव आदि इस्तेमाल करने पर कार्रवाई होगी. फिर चाहे वो वैध वेंडर्स हों या अवैध. यहां तक कि पैंट्री कार में भी एलपीजी सिलेंडर ढोना वैध नहीं है. इसकी भी जांच की जाएगी

धूम्रपान को लेकर सख्त है नियम

रेलवे एक्ट की धारा 167 में कहा गया है कि ट्रेन में कोई भी धुम्रपान (सिगरेट बीड़ी इत्यादि का सेवन करना) करना जुर्म है. ऐसा करने पर जुर्माना लगाया जा सकता है. अगर कोई व्यक्ति शराब पीकर ट्रेन में सफर करता है या गाली गलौज करता है तो ऐसे व्यक्तियों के खिलाफ रेलवे एक्ट की धारा 145 के तहत कार्रवाई की जाती है. साथ ही छह महीने की जेल और जुर्माने का भी प्रावधान है. पूर्व मध्य रेलवे के सीपीआरओ राजेश कुमार ने बताया कि स्मोकिंग के लिए 200 रुपये जुर्माना और पान गुटखा वगैरह खाकर थूकने पर 100 से 500 रुपये जुर्माना है. हालांकि ऐसे मामलों में मजिस्ट्रेट पर निर्भर करता है कि दोषी पर कितना जुर्माना लगाया जाए

Comments

Popular posts from this blog

मकर संक्रांति 2021 तिथि, शुभ मुहूर्त | मकर संक्रांति क्यों मनाई जाती है?

मकर संक्रांति मकर संक्रांति  का भारतीय धार्मिक परम्परा में विशेष महत्व है, क्योंकि इस दिन सूर्य धनु राशि को छोड़ कर मकर राशि में प्रवेश कर उत्तरायण में आता है। शास्त्रों के अनुसार यह सकारात्मक ऊर्जा का प्रतीक है और इसीलिए इस दिन जप, तप, दान, स्नान का विशेष महत्व है।  मकर संक्रांति  परंपरागत रूप से 14 जनवरी या 15 जनवरी को मनाई जाती आ रही है।  मकर संक्रांति  में ‘मकर’ शब्द मकर राशि को इंगित करता है जबकि ‘संक्रांति’ का अर्थ संक्रमण अर्थात प्रवेश करना है।  मकर संक्रांति  के दिन सूर्य धनु राशि से मकर राशि में प्रवेश करता है। एक राशि को छोड़कर दूसरे में प्रवेश करने की इस विस्थापन क्रिया को संक्रांति कहते हैं। शास्त्रों के नियम के अनुसार रात में संक्रांति होने पर अगले दिन भी संक्रांति मनाई जाती है। मकर संक्रांति  के दिन सूर्य दक्षिणायन से अपनी दिशा बदलकर उत्तरायण हो जाता है अर्थात सूर्य उत्तर दिशा की ओर बढ़ने लगता है, जिससे दिन की लंबाई बढ़नी और रात की लंबाई छोटी होनी शुरू हो जाती है। भारत में इस दिन से बसंत ऋतु की शुरुआत मानी जाती है। अत:  मकर संक्रांति  को उत्तरायण के नाम से भी जाना जाता है। तम

रफत वारसी भाजपा अल्पसंख्यक मोर्चा प्रदेश अध्यक्ष बनाये गए

मध्य प्रदेश भाजपा अल्पसंख्यक मोर्चे की जवाबदारी प्रदेश के  युवा व वरिष्ठ नेता श्री रफत वारसी के हाथों में  मध्य प्रदेश भाजपा प्रदेश अध्यक्ष श्री विष्णु दत्त शर्मा ने मध्य प्रदेश के भाजपा संगठन का विस्तार किया है जिसमें मोर्चे के नए प्रदेश अध्यक्षों की भी नियुक्ति की गई है जिसमें मध्य प्रदेश के वरिष्ठ व युवा नेता श्री रफत वारसी को भाजपा अल्पसंख्यक मोर्चा का प्रदेश अध्यक्ष बनाकर भाजपा अल्पसंख्यक मोर्चा की जवाबदारी सौंपी गई है श्री रफत वारसी मध्यप्रदेश में एक उभरते हुए अल्पसंख्यक चेहरे है और भाजपा आलाकमान ने नए चेहरे के रूप में श्री वारसी साहब को यह नई जवाबदारी सौंपी है जिससे मध्य प्रदेश में भाजपा अल्पसंख्यक मोर्चा और मजबूत होने की संभावना बढ़ गई है वर्तमान में भाजपा अल्पसंख्यक मोर्चा में नई और युवा पीढ़ी के लोग अधिकतर काम कर रहे हैं और वारसी साहब के प्रदेश अध्यक्ष बनाए जाने से इसमें और अधिक वृद्धि होगी क्योंकि नए प्रदेश अध्यक्ष श्री वारसी साहब मध्यप्रदेश में अल्पसंख्यक समाज में अपनी गहरी पैठ रखते हैं उनके प्रदेश अध्यक्ष बनाए जाने से भारतीय जनता पार्टी अल्पसंख्यक मोर्चा बेहतर

शहीद हसमत वारसी जी के सुपुत्र रफत वारसी को मिला प्रदेश में महत्वपूर्ण पद

    शहीद हसमत वारसी जी  के सुपुत्र रफत वारसी को मिला प्रदेश में महत्वपूर्ण  पद          वी डी शर्मा जी ने गले लगा कर दी बधाई      मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान जी से आशीर्वाद लेते हुए       वी डी  शर्मा जी भाजपा प्रदेश अध्यक्ष  ने दिया आशीर्वाद          अपनी माँ परवीन वारसी जी से दुआयें  लेते हुए रफत वारसी ने किया पदभार ग्रहण 17 जनवरी 2021 को भाजपा अल्पसंख्यक मोर्चा के नव नियुक्त प्रदेश अध्यक्ष रफत वारसी ने किया पदभार ग्रहण रफत वारसी ने कहा मुस्लिम समाज में कई तरह के भ्रम हैँ जिन्हे दूर करने के लिए एक दल के साथ पुरे प्रदेश का भ्रमण करेंगे ! साथ ही उन्होंने पदभार ग्रहण में आये हुए  सभी  साथियों का तहे दिल से शुक्रिया  अदा किआ 

SHOP WITH US Apparel & Accessories