Skip to main content

हौसला:अक्षत में ऐसी प्रतिभा कि सिंड्रोम भी डाउन; 1300 दीयों पर बिखेरी कला की रोशनी, आत्मनिर्भरता की ओर कदम

 इंदौर

19 साल के अक्षत डाउन सिंड्रोम से पीड़ित हैं। उन्होंने दिवाली पर दीये डेकोरेट किए हैं।
  • प्रशिक्षण केंद्र में सीखा दीये सजाना, उसी को बनाया हुनर, रोज 50-60 दीये डेकोरेट कर लेते हैं
  • अक्षत चार दीयों का एक पैकेट बनाया है, जिसकी कीमत 40 रुपए है
  • डाउन सिंड्रोम से पीड़ित एक युवक ने एक प्रशिक्षण केंद्र में सीखी कला को अपनाते हुए दिवाली पर कलात्मक दीये तैयार किए हैं। अब तक वह करीब 1300 दीये सजाकर बेच भी चुका है। उनके सजाए दीये रिश्तेदार भी पसंद कर रहे हैं। यही नहीं अब ऑर्डर भी आना शुरू हो गए हैं।

19 साल के अक्षत डाउन सिंड्रोम से पीड़ित हैं। उनकी मम्मी आरती घोडगावकर ने बताया कि अक्षत ने नासिक में वोकेशनल ट्रेनिंग सेंटर में दीये बनाना सीखा था। लॉकडाउन की वजह से हम इस साल उसे नासिक नहीं ले जा पाए। यहां कोई क्लास भी ज्वॉइन नहीं की। खाली समय में वह ऊब महसूस कर रहा था। तब ये विचार आया कि क्यों ने दिवाली के दीये सजाए जाएं। चूंकि वह दीये डेकोरेट कर चुका था, एक प्रदर्शनी में उसके दीये काफी पसंद किए गए थे, इसलिए दीये सजाना शुरू किया।

सौ दीये तैयार करने से की थी शुरुआत, चार दीयों के पैकेट की कीमत 40 रुपए
बाजार जाकर दीये का चुनाव, कलर और डेकोरेशन का सामान भी अक्षत खुद ही खरीदता है। एक दिन में 50-60 दीये डेकोरेट कर लेता है। शुरुआत सौ दीयों से की थी, सोशल मीडिया स्टेटस पर फोटो अपलोड किए, जिसका अच्छा रिस्पॉन्स मिला। चार दीयों का एक पैकेट बनाया है, जिसकी कीमत 40 रुपए है।

डाउन सिंड्रोम में चीजों को समझने में होती है दिक्कत
(डाउन सिंड्रोम को ट्राइसोमी 21 के नाम से भी जाना जाता है। बच्चों को चीजों को समझने में दिक्कत, शारीरिक विकास में देरी डाउन सिंड्रोम के लक्षण हैं। यह आनुवंशिक विकार है। विशेषज्ञों के अनुसार इससे पीड़ित बच्चों में सीखने की क्षमता कम होती है और उनमें व्यवहार संबंधी समस्याएं भी होती हैं।)

आत्मनिर्भर बनाने का लक्ष्य
मां के अनुसार अक्षत को आत्मनिर्भर बनाने का प्रयत्न है, इसलिए इस काम से शुरुआत की। उसकी पहली कमाई है और वह बहुत खुश है। इससे आत्मविश्वास बढ़ेगा।

Comments

Popular posts from this blog

मकर संक्रांति 2021 तिथि, शुभ मुहूर्त | मकर संक्रांति क्यों मनाई जाती है?

मकर संक्रांति मकर संक्रांति  का भारतीय धार्मिक परम्परा में विशेष महत्व है, क्योंकि इस दिन सूर्य धनु राशि को छोड़ कर मकर राशि में प्रवेश कर उत्तरायण में आता है। शास्त्रों के अनुसार यह सकारात्मक ऊर्जा का प्रतीक है और इसीलिए इस दिन जप, तप, दान, स्नान का विशेष महत्व है।  मकर संक्रांति  परंपरागत रूप से 14 जनवरी या 15 जनवरी को मनाई जाती आ रही है।  मकर संक्रांति  में ‘मकर’ शब्द मकर राशि को इंगित करता है जबकि ‘संक्रांति’ का अर्थ संक्रमण अर्थात प्रवेश करना है।  मकर संक्रांति  के दिन सूर्य धनु राशि से मकर राशि में प्रवेश करता है। एक राशि को छोड़कर दूसरे में प्रवेश करने की इस विस्थापन क्रिया को संक्रांति कहते हैं। शास्त्रों के नियम के अनुसार रात में संक्रांति होने पर अगले दिन भी संक्रांति मनाई जाती है। मकर संक्रांति  के दिन सूर्य दक्षिणायन से अपनी दिशा बदलकर उत्तरायण हो जाता है अर्थात सूर्य उत्तर दिशा की ओर बढ़ने लगता है, जिससे दिन की लंबाई बढ़नी और रात की लंबाई छोटी होनी शुरू हो जाती है। भारत में इस दिन से बसंत ऋतु की शुरुआत मानी जाती है। अत:  मकर संक्रांति  को उत्तरायण के नाम से भी जाना जाता है। तम

रफत वारसी भाजपा अल्पसंख्यक मोर्चा प्रदेश अध्यक्ष बनाये गए

मध्य प्रदेश भाजपा अल्पसंख्यक मोर्चे की जवाबदारी प्रदेश के  युवा व वरिष्ठ नेता श्री रफत वारसी के हाथों में  मध्य प्रदेश भाजपा प्रदेश अध्यक्ष श्री विष्णु दत्त शर्मा ने मध्य प्रदेश के भाजपा संगठन का विस्तार किया है जिसमें मोर्चे के नए प्रदेश अध्यक्षों की भी नियुक्ति की गई है जिसमें मध्य प्रदेश के वरिष्ठ व युवा नेता श्री रफत वारसी को भाजपा अल्पसंख्यक मोर्चा का प्रदेश अध्यक्ष बनाकर भाजपा अल्पसंख्यक मोर्चा की जवाबदारी सौंपी गई है श्री रफत वारसी मध्यप्रदेश में एक उभरते हुए अल्पसंख्यक चेहरे है और भाजपा आलाकमान ने नए चेहरे के रूप में श्री वारसी साहब को यह नई जवाबदारी सौंपी है जिससे मध्य प्रदेश में भाजपा अल्पसंख्यक मोर्चा और मजबूत होने की संभावना बढ़ गई है वर्तमान में भाजपा अल्पसंख्यक मोर्चा में नई और युवा पीढ़ी के लोग अधिकतर काम कर रहे हैं और वारसी साहब के प्रदेश अध्यक्ष बनाए जाने से इसमें और अधिक वृद्धि होगी क्योंकि नए प्रदेश अध्यक्ष श्री वारसी साहब मध्यप्रदेश में अल्पसंख्यक समाज में अपनी गहरी पैठ रखते हैं उनके प्रदेश अध्यक्ष बनाए जाने से भारतीय जनता पार्टी अल्पसंख्यक मोर्चा बेहतर

शहीद हसमत वारसी जी के सुपुत्र रफत वारसी को मिला प्रदेश में महत्वपूर्ण पद

    शहीद हसमत वारसी जी  के सुपुत्र रफत वारसी को मिला प्रदेश में महत्वपूर्ण  पद          वी डी शर्मा जी ने गले लगा कर दी बधाई      मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान जी से आशीर्वाद लेते हुए       वी डी  शर्मा जी भाजपा प्रदेश अध्यक्ष  ने दिया आशीर्वाद          अपनी माँ परवीन वारसी जी से दुआयें  लेते हुए रफत वारसी ने किया पदभार ग्रहण 17 जनवरी 2021 को भाजपा अल्पसंख्यक मोर्चा के नव नियुक्त प्रदेश अध्यक्ष रफत वारसी ने किया पदभार ग्रहण रफत वारसी ने कहा मुस्लिम समाज में कई तरह के भ्रम हैँ जिन्हे दूर करने के लिए एक दल के साथ पुरे प्रदेश का भ्रमण करेंगे ! साथ ही उन्होंने पदभार ग्रहण में आये हुए  सभी  साथियों का तहे दिल से शुक्रिया  अदा किआ 

SHOP WITH US Apparel & Accessories