Skip to main content

भास्कर एक्सप्लेनर :पायलट खेमे के 19 विधायकों को स्पीकर के नोटिस के बाद राजस्थान विधानसभा में किस तरह बदल सकता है नंबर गेम?


नई दिल्ली 
  • पायलट समर्थक कांग्रेस विधायक दल की दो दिनों में आयोजित बैठकों में भाग नहीं ले सके
  • तब पायलट को डिप्टी सीएम और राजस्थान प्रदेश अध्यक्ष पद से हटा दिया गया

कांग्रेस ने सचिन पायलट समेत 19 बागी कांग्रेस विधायकों की सदस्यता खत्म करने के लिए राजस्थान विधानसभा के स्पीकर सीपी जोशी को अनुरोध किया था। इस पर मंगलवार रात सभी विधायकों को नोटिस जारी किए गए हैं। पायलट के समर्थक कांग्रेस विधायक दल की दो दिनों में आयोजित बैठकों में भाग नहीं ले सके, तब पायलट को डिप्टी सीएम और राजस्थान प्रदेश अध्यक्ष पद से हटा दिया गया है। तलवारें खिंच गई हैं और युद्ध तय है। ऐसे में भाजपा ने वेट एंड वॉच की रणनीति अपनाई है और वह बाहर से कांग्रेस का भीतरी दंगल देख रही है।

सचिन पायलट और उनके समर्थकों को नोटिस के क्या मायने हैं?
पहला, सचिन पायलट के साथ कितने लोग हैं, यह स्पष्ट हो गया है। उन्हें मिलाकर 19 विधायक बगावत कर सकते हैं। दूसरा, राजस्थान में गहलोत सरकार भले ही अभी मजबूत नजर आ रही है, उतनी मजबूत है नहीं। बहुमत के आंकड़े से उनके पास जितनी सीटें हैं, उसका अंतर काफी कम हो गया है।

कांग्रेस के पास अब कितने विधायक?

राजस्थान विधानसभा में 200 सीटें हैं। 2018 में कांग्रेस ने 100 सीटें जीतीं। इसके बाद एक सीट उपचुनाव में जीती। फिर बसपा के छह विधायक भी कांग्रेस के साथ आए। इस लिहाज से कांग्रेस की मौजूदा संख्या 107 है।

स्पीकर का पायलट खेमे के कितने विधायकों को नोटिस- 19
यानी गहलोत के पास कितनी संख्या (107-19) 88

अगर ये विधायक अयोग्य हुए तो कितने सदस्य बचेंगेः 200-19 तो बचे 181
बहुमत का आंकड़ा (181/2) 91

ऐसे में मुख्यमंत्री अशोक गहलोत बहुमत कैसे साबित करेंगे?

मुख्यमंत्री गहलोत का दावा है कि 200 सदस्यों वाले सदन में उनके पास अब भी पूर्ण बहुमत है। उन्होंने 109 विधायकों का समर्थन होने का दावा किया है। जबकि हकीकत यह है कि 19 विधायक कम होने के बाद 13 निर्दलीय विधायकों और अन्य छोटी पार्टियों के विधायकों पर गहलोत की निर्भरता पहले से ज्यादा हो गई है।

छोटी पार्टियों के विधायक क्या गहलोत को समर्थन देंगे?

  • कहना मुश्किल है। भारतीय ट्राइबल पार्टी यानी बीटीपी के दो विधायक किसे समर्थन देते हैं, यह स्पष्ट नहीं है। एक विधायक ने कल ही वीडियो पोस्ट कर आरोप लगाया कि उन्हें बंधक बनाने की कोशिश की जा रही है।
  • यह भी स्पष्ट नहीं है कि दो सीपीएम विधायक गहलोत को वोट देते हैं या फ्लोर टेस्ट के दौरान अबसेंट रहते हैं। सीपीएम ने हाल ही में राज्यसभा चुनावों में कांग्रेस उम्मीदवार को वोट देने की वजह से दोनों को सस्पेंड किया है।

भाजपा की क्या स्थिति बन रही है?

  • सदन में भाजपा के 72 विधायक हैं और हनुमान बेनीवाल की राष्ट्रीय लोकतांत्रिक पार्टी के पास तीन विधायक। कुल संख्या होती है 75 विधायक। ऐसे में गहलोत को सत्ता से बेदखल करने के लिए भाजपा को एड़ी-चोटी का जोर लगाना पड़ेगा।
  • 19 कांग्रेस विधायकों को 17 जुलाई तक स्पीकर के नोटिस का जवाब देना है। उनका भविष्य उस पर निर्भर होगा। लेकिन, वे कोर्ट जा सकते हैं और उसके नतीजे के आधार पर भविष्य का नंबर गेम डिसाइड होगा।
  • यदि 19 विधायकों को डिसक्वालिफाई ठहराने की प्रक्रिया को कोर्ट ने रोक दिया और विधानसभा में फ्लोर टेस्ट कराया गया तो गहलोत के लिए स्थिति बहुत टाइट होगी।
  • यदि कांग्रेस के बागी भाजपा-आरएलपी के साथ गए तो गहलोत (88) को बहुमत साबित करने के लिए 13 निर्दलियों और छोटी पार्टियों पर निर्भर होना होगा।

तो गहलोत निर्दलियों और छोटी पार्टियों को कैसे रिझा रहे हैं?
मुख्यमंत्री अशोक गहलोत को तीन मोर्चों पर लड़ना होगा।

Comments

Popular posts from this blog

मकर संक्रांति 2021 तिथि, शुभ मुहूर्त | मकर संक्रांति क्यों मनाई जाती है?

मकर संक्रांति मकर संक्रांति  का भारतीय धार्मिक परम्परा में विशेष महत्व है, क्योंकि इस दिन सूर्य धनु राशि को छोड़ कर मकर राशि में प्रवेश कर उत्तरायण में आता है। शास्त्रों के अनुसार यह सकारात्मक ऊर्जा का प्रतीक है और इसीलिए इस दिन जप, तप, दान, स्नान का विशेष महत्व है।  मकर संक्रांति  परंपरागत रूप से 14 जनवरी या 15 जनवरी को मनाई जाती आ रही है।  मकर संक्रांति  में ‘मकर’ शब्द मकर राशि को इंगित करता है जबकि ‘संक्रांति’ का अर्थ संक्रमण अर्थात प्रवेश करना है।  मकर संक्रांति  के दिन सूर्य धनु राशि से मकर राशि में प्रवेश करता है। एक राशि को छोड़कर दूसरे में प्रवेश करने की इस विस्थापन क्रिया को संक्रांति कहते हैं। शास्त्रों के नियम के अनुसार रात में संक्रांति होने पर अगले दिन भी संक्रांति मनाई जाती है। मकर संक्रांति  के दिन सूर्य दक्षिणायन से अपनी दिशा बदलकर उत्तरायण हो जाता है अर्थात सूर्य उत्तर दिशा की ओर बढ़ने लगता है, जिससे दिन की लंबाई बढ़नी और रात की लंबाई छोटी होनी शुरू हो जाती है। भारत में इस दिन से बसंत ऋतु की शुरुआत मानी जाती है। अत:  मकर संक्रांति  को उत्तरायण के नाम से भी जाना जाता है। तम

बड़ी ख़बर। महाराजपुरा पुलिस को मिली बड़ी सफलता

ग्वालियर - बड़ी ख़बर। महाराजपुरा पुलिस को मिली बड़ी सफलता शातिर चोर पकडे 10 लाख का माल बरामद। महाराजपुरा पुलिस ने दबिश देकर पकड़ा चोरों का ग्रुप महाराजपुरा थाना प्रभारी मिर्ज़ा आसिफ बेग और उनकी टीम के द्वारा कार्यवाही की गई। महराजपुरा टीम को बड़ी सफलता हासिल हुई।  10 लाख का माल भी बरामद किया गया।  महाराजपुर टीआई मिर्जा बेग ने बताया चोरों से 6 एलसीडी 8 लैपटॉप दो होम थिएटर 6 मोबाइल फोन एक स्कूटी टेबल फैन सिलेंडर बरामद हुआ है उनसे करीब 4 चोरियों का खुलासा हुआ है करीब 10 चोरियां कि गिरोह ने हामी भरी है 

Lockdown: पूरे राज्य में फिर लॉकडाउन, सील होंगी पूरी सीमाएं

कोरोना की स्थिति गंभीर होने पर कई राज्यों में फिर लॉकडाउन की स्थिति, सभी सीमाएं भी की जा रही हैं सील...। भोपाल। मध्यप्रदेश समेत पांच राज्य एक बार फिर लॉकडाउन की तरफ बढ़ रहे हैं। मध्यप्रदेश में लगातार बढ़ते मामलों के बाद रविवार को पूरे प्रदेश में लॉकडाउन (Complete Lockdown) लगाया जा रहा है। प्रदेश में कोरोना संक्रमण (Covid 19) की समीक्षा करते हुए मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान और गृह एवं स्वास्थ्य मंत्री नरोत्तम मिश्र ने तय किया है कि अब सप्ताह में एक दिन रविवार को पूरा प्रदेश बंद रहेगा। उधर, मध्यप्रदेश के अलावा बिहार, उत्तरप्रदेश में भी लाकडाउन के आदेश जारी कर दिए गए हैं।   मध्यप्रदेश में पिछले तीन दिनों में 11 सौ से अधिक संक्रमित मरीज मिलने और जबकि 409 एक ही दिन में संक्रमित मिलने के बाद यह फैसला लिया जा रहा है इस दौरान प्रदेश की सीमाएं भी सील की जा सकती है। सिर्फ इमरजेंसी सेवाएं ही चलती रहेंगी। गृह विभाग के बाद भोपाल समेत सभी जिलों के कलेक्टर अपने-अपने जिले के लिए एडवायजरी (Advisery'guideline) जारी कर रहे हैं।   गृहमंत्री नरोत्तम मिश्र के मुताबिक इस सप्ताह में एक दिन का लाकडाउन ही