Skip to main content

जॉब ढूंढ रहे हैं? यहां देखें- किन शहरों और किन सेक्टर्स में हैं ज्यादा संभावनाएं… कहां कितने बढ़े मौके


शहरों के लिहाज से नौकरियों के अवसर को देखें तो मुंबई में 12 फीसदी, पुणे में 6 फीसदी, दिल्ली में 1 फीसदी, चेन्नई में 12 फीसदी, हैदराबाद में 12 फीसदी और कोलकाता में 20 फीसदी वृद्धि देखी गई है

जॉब ढूंढ रहे हैं? यहां देखें- किन शहरों और किन सेक्टर्स में हैं ज्यादा संभावनाएं... कहां कितने बढ़े मौके
(प्रतीकात्मक फोटो)

कोरोना महामारी के कारण देश के विभिन्न हिस्सों लगाए गए लॉकडाउन के बाद पाबंदियां लगातार कम की जा रही हैं. कई राज्यों में लॉकडाउन हटाया जा चुका है. इससे औद्योगिक गतिविधयों में भी तेजी आई है और नौकरी के अवसर भी बढ़े हैं. जॉब पोर्टल साइकी मार्केट नेटवर्क (SCIKEY Market Network) की एक रिपोर्ट के मुताबिक, जून में ज्यादातर क्षेत्रों में नियुक्तियों में सकारात्मक वृद्धि दर्ज की गई है.

रिपोर्ट के मुताबिक, अब तक आईटी यानी सूचना प्रौद्योगिकी क्षेत्र नौकरियों के लिहाज से तेज रफ्तार से बढ़ रहा था लेकिन जून में बाकी कई क्षेत्रों में भी नियुक्ति की गतिविधियों में भी सुधार दिखा है. बिक्री, मानव संसाधन, विपणन आदि क्षेत्रों में भी वृद्धि दर्ज की गई है. यह रिपोर्ट साइकी मार्केट नेटवर्क के जॉब पोर्टल पर डाली गई नियुक्ति संबंधी आंकड़ों पर आधारित है

किस सेक्‍टर में कितने अवसर बढ़े?

आंकड़े से पता चलता है कि मई की तुलना में जून में बैंकिंग क्षेत्र में नियुक्तियों में 21 फीसदी की वृद्धि हुई. नियुक्ति के लिहाज से आईटी और बीपीओ सेक्टर्स में 18-18 फीसदी की वृद्धि देखी गईत्र वहीं, फार्मा सेक्टर में यह वृद्धि 16.9 फीसदी, स्वास्थ्य क्षेत्र में 20 फीसदी, बीमा क्षेत्र में 12 फीसदी, रिटेल सेक्टर में पांच फीसदी, शिक्षा क्षेत्र में 12.1 प्रतिशत और एफएमसीजी सेक्टर में 16 फीसदी थी. हालांकि टेलीकॉम सेक्टर में 8 फीसदी की कमी देखी गई है.

किन शहरों में सबसे ज्यादा मौके?

शहरों के लिहाज से नौकरियों के अवसर को देखें तो टियर-1 शहरों में मई की तुलना में जून में नियुक्ति की गतिविधियों में दो अंकीय मजबूत वृद्धि दर्ज की गयी. मुंबई में 12 फीसदी, पुणे में 6 फीसदी, दिल्ली में 1 फीसदी, चेन्नई में 12 फीसदी, हैदराबाद में 12 फीसदी और कोलकाता में 20 फीसदी वृद्धि देखी गई है. हालांकि, बेंगलुरु में नियुक्ति गतिविधियां दो फीसदी कम हुई हैं. इन शहरों में पहले कई बार लॉकडाइन लगाए गए थे. जयपुर और अहमदाबाद जैसे दूसरी श्रेणी के शहरों में भी क्रमशः 30 फीसदी और 22 फीसदी की महत्वपूर्ण वृद्धि देखी गई है.

कंपनी के को फाउंडर करुणजीत कुमार धीर ने कहा, “महामारी की वजह से आई मंदी से आखिरकार नौकरियों के बाजार को एक सही रफ्तार से उबरते देखकर अच्छा लग रहा है. लॉकडाउन लगने के बाद से यह ज्यादातर क्षेत्रों के लिए एक बुरा दौर था. पिछले महीने नियुक्ति गतिविधियों ने जोर पकड़ा जिससे रोजगार की तलाश में लगे लोगों को कुछ राहत मिली है. हमें उम्मीद है कि आने वाले महीनों में नौकरियों के अवसर को लेकर हर सेक्टर में और भी सुधार देखने को मिलेंगे

Comments

Popular posts from this blog

मकर संक्रांति 2021 तिथि, शुभ मुहूर्त | मकर संक्रांति क्यों मनाई जाती है?

मकर संक्रांति मकर संक्रांति  का भारतीय धार्मिक परम्परा में विशेष महत्व है, क्योंकि इस दिन सूर्य धनु राशि को छोड़ कर मकर राशि में प्रवेश कर उत्तरायण में आता है। शास्त्रों के अनुसार यह सकारात्मक ऊर्जा का प्रतीक है और इसीलिए इस दिन जप, तप, दान, स्नान का विशेष महत्व है।  मकर संक्रांति  परंपरागत रूप से 14 जनवरी या 15 जनवरी को मनाई जाती आ रही है।  मकर संक्रांति  में ‘मकर’ शब्द मकर राशि को इंगित करता है जबकि ‘संक्रांति’ का अर्थ संक्रमण अर्थात प्रवेश करना है।  मकर संक्रांति  के दिन सूर्य धनु राशि से मकर राशि में प्रवेश करता है। एक राशि को छोड़कर दूसरे में प्रवेश करने की इस विस्थापन क्रिया को संक्रांति कहते हैं। शास्त्रों के नियम के अनुसार रात में संक्रांति होने पर अगले दिन भी संक्रांति मनाई जाती है। मकर संक्रांति  के दिन सूर्य दक्षिणायन से अपनी दिशा बदलकर उत्तरायण हो जाता है अर्थात सूर्य उत्तर दिशा की ओर बढ़ने लगता है, जिससे दिन की लंबाई बढ़नी और रात की लंबाई छोटी होनी शुरू हो जाती है। भारत में इस दिन से बसंत ऋतु की शुरुआत मानी जाती है। अत:  मकर संक्रांति  को उत्तरायण के नाम से भी जाना जाता है। तम

रफत वारसी भाजपा अल्पसंख्यक मोर्चा प्रदेश अध्यक्ष बनाये गए

मध्य प्रदेश भाजपा अल्पसंख्यक मोर्चे की जवाबदारी प्रदेश के  युवा व वरिष्ठ नेता श्री रफत वारसी के हाथों में  मध्य प्रदेश भाजपा प्रदेश अध्यक्ष श्री विष्णु दत्त शर्मा ने मध्य प्रदेश के भाजपा संगठन का विस्तार किया है जिसमें मोर्चे के नए प्रदेश अध्यक्षों की भी नियुक्ति की गई है जिसमें मध्य प्रदेश के वरिष्ठ व युवा नेता श्री रफत वारसी को भाजपा अल्पसंख्यक मोर्चा का प्रदेश अध्यक्ष बनाकर भाजपा अल्पसंख्यक मोर्चा की जवाबदारी सौंपी गई है श्री रफत वारसी मध्यप्रदेश में एक उभरते हुए अल्पसंख्यक चेहरे है और भाजपा आलाकमान ने नए चेहरे के रूप में श्री वारसी साहब को यह नई जवाबदारी सौंपी है जिससे मध्य प्रदेश में भाजपा अल्पसंख्यक मोर्चा और मजबूत होने की संभावना बढ़ गई है वर्तमान में भाजपा अल्पसंख्यक मोर्चा में नई और युवा पीढ़ी के लोग अधिकतर काम कर रहे हैं और वारसी साहब के प्रदेश अध्यक्ष बनाए जाने से इसमें और अधिक वृद्धि होगी क्योंकि नए प्रदेश अध्यक्ष श्री वारसी साहब मध्यप्रदेश में अल्पसंख्यक समाज में अपनी गहरी पैठ रखते हैं उनके प्रदेश अध्यक्ष बनाए जाने से भारतीय जनता पार्टी अल्पसंख्यक मोर्चा बेहतर

शहीद हसमत वारसी जी के सुपुत्र रफत वारसी को मिला प्रदेश में महत्वपूर्ण पद

    शहीद हसमत वारसी जी  के सुपुत्र रफत वारसी को मिला प्रदेश में महत्वपूर्ण  पद          वी डी शर्मा जी ने गले लगा कर दी बधाई      मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान जी से आशीर्वाद लेते हुए       वी डी  शर्मा जी भाजपा प्रदेश अध्यक्ष  ने दिया आशीर्वाद          अपनी माँ परवीन वारसी जी से दुआयें  लेते हुए रफत वारसी ने किया पदभार ग्रहण 17 जनवरी 2021 को भाजपा अल्पसंख्यक मोर्चा के नव नियुक्त प्रदेश अध्यक्ष रफत वारसी ने किया पदभार ग्रहण रफत वारसी ने कहा मुस्लिम समाज में कई तरह के भ्रम हैँ जिन्हे दूर करने के लिए एक दल के साथ पुरे प्रदेश का भ्रमण करेंगे ! साथ ही उन्होंने पदभार ग्रहण में आये हुए  सभी  साथियों का तहे दिल से शुक्रिया  अदा किआ 

SHOP WITH US Apparel & Accessories