Skip to main content

MP: ताउजी की परेशानी देख भोपाल की इस लड़की ने ऑक्सीजन सपोर्ट वाले मरीजों के लिए बना दिया मूविंग टॉयलेट, पापा की मदद से घर पर ही किया तैयार


इस टॉयलेट को तैयार करवाने में प्रत्यक्षा के पापा का भी काफी योगदान रहा है. प्रत्यक्षा के पापा सिविल इंजीनियर हैं और बाप-बेटी ने साथ मिलकर इस मूविंग टॉयलेट को घर पर ही तैयार किया है

MP: ताउजी की परेशानी देख भोपाल की इस लड़की ने ऑक्सीजन सपोर्ट वाले मरीजों के लिए बना दिया मूविंग टॉयलेट, पापा की मदद से घर पर ही किया तैयार
साकेंतिक तस्वीर

कोरोना महामारी के बीच हर कोई अपने तरीके से कोविड मरीजों की मदद करने की कोशिश कर रहा है. भोपाल की रहने वाली छात्रा प्रत्यक्षा ने भी ऑक्सीजन सपोर्ट वाले मरीजों के लिए मूविंग टॉयलेट बनाकर उनकी परेशानियों को बहुत हद तक कम करने की कोशिश की है. दरअसल ये टॉयलेट कोरोना से पीड़ित ऐसे मरीज जिन्हे ऑक्सीजन लगी हुई है उनके लिए बहुत उपयोगी है.

इस मूविंग टॉयलेट के आइडिया को लेकर प्रत्यक्षा ने बताया कि कुछ दिन पहले उनके पूरे परिवार को कोरोना हो गया था. कोरोना के कारण ताउजी की तबीयत बहुत ज्यादा बिगड़ गई. जिस वजह से उन्हे अस्पताल में भर्ती कराना पड़ा. वो अस्पताल में एक हफ्ते तक ऑक्सीजन सपोर्ट पर रहे. इस दौरान ताऊजी को टॉयलेट जाने में बहुत ज्यादा परेशानी हो रही थी, क्योंकि ऑक्सीजन बेड छोड़कर वह टॉयलेट नहीं जा पा रहे थे.

ताऊजी के बेड से टॉयलेट की दूरी काफी थी. इस वजह से उनके ऑक्सीजन लेवल में बार बार गिरावट हो रही थी. उसी समय मुझे ऐसे ऑक्सीजन सपोर्ट वाले मरीजों की मदद के लिए मूविंग टॉयलेट बनाने का आइडिया आया.

प्रत्यक्षा ने टॉयलेट का डिजाइन किया है खुद तैयार

प्रत्यक्षा एनआईएफटी की स्टूडेंट हैं. प्रत्यक्षा ने खुद इस मूविंग टॉयलेट की डिजाइन तैयार किया. इस टॉयलेट को तैयार करवाने में उसके पापा का भी काफी योगदान रहा है. प्रत्यक्षा के पापा सिविल इंजीनियर हैं और बाप-बेटी ने साथ मिलकर इस मूविंग टॉयलेट को घर पर ही तैयार किया है. इस टॉयलेट को बनाने में लगभग 25 हजार का खर्चा आया है. मूविंग टॉयलेट में एक व्हीलचेयर के बराबर की जगह लेता है. जिसमें वेस्टर्न शीट लगाई गई है. मूविंग टॉयलेट को ऑक्सीजन सपोर्ट वाले मरीज अपने बेड के आस-पास ही यूज कर सकते है.

5 से 6 मरीज एक समय में कर सकेंगे यूज

प्रत्यक्षा का कहना है कि इस मूविंग टॉयलेट में 80 लीटर का ओवरहेड टैंक है, 100 लीटर का बॉटम टैंक भी है. फाइबर शीट से कवर करके लॉक वाले पहियों को तैयार किया गया है. जिसे लॉक-अनलॉक किया जा सकता है. एक बार टैंक में पानी भरने के बाद एक साथ 5 से 6 पेशेंट इसको यूज कर सकते हैं. एक बार प्रयोग करने के बाद मूविंग टॉयलेट को दोबारा भी उपयोग किया जा सकता है. एक बार प्रयोग करने के बाद इस टॉयलेट को वॉशरूम तक ले जाकर ऊपर के टैंक में पानी भरकर नीचे के टैंक को साफ करके से फिर से उपयोग में लाया जा सकता है.

हमीदिया अस्पताल को किया टॉयलेट डोनेट

प्रत्यक्षा के इस आइडिया की सभी जगह तारीफ की जा रही है. प्रत्यक्षा ने अपना मूविंग टॉयलेट हमीदिया अस्पताल को डोनेट कर दिया है. ताकि जिस समस्या से उनके ताऊजी को जूझना पड़ा. उस समस्या का किसी और ऑक्सीजन सपोर्ट वाले मरीज को जूझना ना पड़े.

Comments

Popular posts from this blog

मकर संक्रांति 2021 तिथि, शुभ मुहूर्त | मकर संक्रांति क्यों मनाई जाती है?

मकर संक्रांति मकर संक्रांति  का भारतीय धार्मिक परम्परा में विशेष महत्व है, क्योंकि इस दिन सूर्य धनु राशि को छोड़ कर मकर राशि में प्रवेश कर उत्तरायण में आता है। शास्त्रों के अनुसार यह सकारात्मक ऊर्जा का प्रतीक है और इसीलिए इस दिन जप, तप, दान, स्नान का विशेष महत्व है।  मकर संक्रांति  परंपरागत रूप से 14 जनवरी या 15 जनवरी को मनाई जाती आ रही है।  मकर संक्रांति  में ‘मकर’ शब्द मकर राशि को इंगित करता है जबकि ‘संक्रांति’ का अर्थ संक्रमण अर्थात प्रवेश करना है।  मकर संक्रांति  के दिन सूर्य धनु राशि से मकर राशि में प्रवेश करता है। एक राशि को छोड़कर दूसरे में प्रवेश करने की इस विस्थापन क्रिया को संक्रांति कहते हैं। शास्त्रों के नियम के अनुसार रात में संक्रांति होने पर अगले दिन भी संक्रांति मनाई जाती है। मकर संक्रांति  के दिन सूर्य दक्षिणायन से अपनी दिशा बदलकर उत्तरायण हो जाता है अर्थात सूर्य उत्तर दिशा की ओर बढ़ने लगता है, जिससे दिन की लंबाई बढ़नी और रात की लंबाई छोटी होनी शुरू हो जाती है। भारत में इस दिन से बसंत ऋतु की शुरुआत मानी जाती है। अत:  मकर संक्रांति  को उत्तरायण के नाम से भी जाना जाता है। तम

बड़ी ख़बर। महाराजपुरा पुलिस को मिली बड़ी सफलता

ग्वालियर - बड़ी ख़बर। महाराजपुरा पुलिस को मिली बड़ी सफलता शातिर चोर पकडे 10 लाख का माल बरामद। महाराजपुरा पुलिस ने दबिश देकर पकड़ा चोरों का ग्रुप महाराजपुरा थाना प्रभारी मिर्ज़ा आसिफ बेग और उनकी टीम के द्वारा कार्यवाही की गई। महराजपुरा टीम को बड़ी सफलता हासिल हुई।  10 लाख का माल भी बरामद किया गया।  महाराजपुर टीआई मिर्जा बेग ने बताया चोरों से 6 एलसीडी 8 लैपटॉप दो होम थिएटर 6 मोबाइल फोन एक स्कूटी टेबल फैन सिलेंडर बरामद हुआ है उनसे करीब 4 चोरियों का खुलासा हुआ है करीब 10 चोरियां कि गिरोह ने हामी भरी है 

Lockdown: पूरे राज्य में फिर लॉकडाउन, सील होंगी पूरी सीमाएं

कोरोना की स्थिति गंभीर होने पर कई राज्यों में फिर लॉकडाउन की स्थिति, सभी सीमाएं भी की जा रही हैं सील...। भोपाल। मध्यप्रदेश समेत पांच राज्य एक बार फिर लॉकडाउन की तरफ बढ़ रहे हैं। मध्यप्रदेश में लगातार बढ़ते मामलों के बाद रविवार को पूरे प्रदेश में लॉकडाउन (Complete Lockdown) लगाया जा रहा है। प्रदेश में कोरोना संक्रमण (Covid 19) की समीक्षा करते हुए मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान और गृह एवं स्वास्थ्य मंत्री नरोत्तम मिश्र ने तय किया है कि अब सप्ताह में एक दिन रविवार को पूरा प्रदेश बंद रहेगा। उधर, मध्यप्रदेश के अलावा बिहार, उत्तरप्रदेश में भी लाकडाउन के आदेश जारी कर दिए गए हैं।   मध्यप्रदेश में पिछले तीन दिनों में 11 सौ से अधिक संक्रमित मरीज मिलने और जबकि 409 एक ही दिन में संक्रमित मिलने के बाद यह फैसला लिया जा रहा है इस दौरान प्रदेश की सीमाएं भी सील की जा सकती है। सिर्फ इमरजेंसी सेवाएं ही चलती रहेंगी। गृह विभाग के बाद भोपाल समेत सभी जिलों के कलेक्टर अपने-अपने जिले के लिए एडवायजरी (Advisery'guideline) जारी कर रहे हैं।   गृहमंत्री नरोत्तम मिश्र के मुताबिक इस सप्ताह में एक दिन का लाकडाउन ही