नकारात्मक स्थिति में खुद को डिफेंसिव होने से रोकने के 4 कारगर उपाय, आप भी जानिए


डिफेंसिव होना सबसे आम गलतियों में से एक है जो हम में से ज्यादातर नकारात्मक स्थितियों से निपटने के लिए करते हैं, लेकिन डिफेंसिव होने में हमेशा मदद नहीं मिलती है


नकारात्मक स्थिति में खुद को डिफेंसिव होने से रोकने के 4 कारगर उपाय, आप भी जानिए
Defensive

डिफेंसिव होना सबसे आम गलतियों में से एक है जो हम में से ज्यादातर लोग नकारात्मक स्थितियों से निपटने के लिए करते हैं, लेकिन डिफेंसिव होने में हमेशा मदद नहीं मिलती है, बल्कि इससे परिस्थितियां बदतर हो सकती हैं जो हमें मुसीबत में डाल सकती हैं. इसलिए, हमें डिफेंसिव होने के बजाय, उनके साथ सामना करने के लिए विनम्र तरीकों से, संघर्षों या तर्कों से निपटना चाहिए. लेकिन वो कैसे करें?

ज्यादातर लोग इसे कंट्रोल नहीं कर सकते और डिफेंसिव होने से खुद को रोक भी नहीं सकते. हालांकि, ऐसा रातों रात नहीं होगा. उन्हें इसका अभ्यास करने के लिए इसकी लगातार कोशिश करनी चाहिए. आज हम आपको डिफेंसिव होने से खुद को रोकने के कुछ आसान से तरीके बता रहे हैं.

अपने वैल्यूज पर ध्यान दें

जब आप डिफेंसिव महसूस करते हैं, तो उन क्षेत्रों पर ध्यान केंद्रित करें जहां आप खुद को कॉन्फिडेंट महसूस करते हैं. अपने वैल्यूज को याद रखें जो आपके लिए हकीकत में मायने रखता है. अपने वैल्यूज के बारे में सोचने से आप फिर से कॉन्फिडेंस महसूस करेंगे और अपने सेल्फ-रेसपेक्ट को बढ़ा पाएंगे और फिर आप इसे डिफेंसिव होने के लिए जरूरी महसूस नहीं करेंगे.

आलोचना को दूसरे विश्वास के संकेत के रूप में देखें

दूसरों से व्यक्तिगत रूप से आलोचना न करें, बल्कि इसे अपनी क्षमता में दूसरे के विश्वास के संकेत के रूप में लें. हो सकता है, उन्हें आपसे ज्यादा उम्मीदें हों और आप उन्हें एक valuable person मानते हों. इसलिए, वो आपके काम की आलोचना कर रहे हैं ताकि आप बेहतर कर सकें. ये भावना डिफेंसिव शुरुआत करने की आपकी इच्छा को कम कर देगी.

गहरी सांस लेना

डिफेंसिव टोन में कुछ कहना अक्सर बहुत हार्श लग सकता है. इसके बजाय, आप बस कुछ गहरी सांस लें और सोचें कि शांति से क्या कहना है, जबकि दूसरा व्यक्ति आपकी खामियों के बारे में बहुत कुछ बोल रहा है. ये आपको शांत करेगा, आपको rationally तौर से सोचने में मदद करेगा, आपके डिफेंसिव व्यवहार को कम करेगा और सही शब्दों के जरिए शांति से हर बात को कहेगा.

I स्टेटमेंट का इस्तेमाल करें

“मैं चाहता हूं कि तुम बड़े हो जाओ” कहने के बजाय, “मैं इसके साथ सहज नहीं हूं” या “मैं सुन सकता हूं कि आप क्या कह रहे हैं”. ये स्थिति के तनाव को कम करेगा और चीजों को शांत करेगा.

Comments

Popular posts from this blog

India-China Face Off: भारत-चीन के बीच हुआ युद्ध, तो जानें किसकी मिसाइल है ज्यादा कारगर?

मकर संक्रांति 2021 तिथि, शुभ मुहूर्त | मकर संक्रांति क्यों मनाई जाती है?

बड़ी ख़बर। महाराजपुरा पुलिस को मिली बड़ी सफलता