PNB करोड़ों ग्राहकों के लिए बना रहा है खास ई कार्ड! मुफ्त में मिलते हैं ये फायदें, जानिए सबकुछ


ई कार्ड या वर्चुअल कार्ड एक लिमिट (पहले से ट्रांजेक्शन लिमिट तय होती है) पर आधारित डेबिट कार्ड होता है. इसका यूज ई-कॉमर्स लेनदेन (ऑनलाइन) के लिए किया जाता है. इसे इंटरनेट बैंकिंग सुविधा के जरिए तैयार किया जा है. आइए जानें इसके बारे में सबकुछ

PNB करोड़ों ग्राहकों के लिए बना रहा है खास ई कार्ड! मुफ्त में मिलते हैं ये फायदें, जानिए सबकुछ
सांकेतिक तस्वीर

कोरोना काल में सोशल डिस्टेंसिंग को देखते हुए पेमेंट्स के नए-नए तरीके देखने को मिल रहे हैं. इसी कड़ी में देश के दूसरे सबसे बड़े सरकारी बैंक पंजाब नेशनल बैंक (PNB-Punjab National Bank) ने भी अपने ग्राहकों के लिए ई कार्ड पेश किया है. ये कार्ड फिजिकल  कार्ड का डिजिटल रेप्लिका होती है. इसके जरिए पीएनबी उपभोक्ता किसी भी ई-कॉमर्स प्लेटफॉर्म या मर्चेंट वेबसाइट पर पीएनबी ई-कार्ड का इस्तेमाल कर सकते हैं, उन्हें फिजिकल कार्ड ले जाने की जरूरत नहीं है.

आइए जानें पीएनबी ई-कार्ड के बारे में…

पीएनबी की ओर से जारी जानकारी के मुताबिक, पीएनबी के ग्राहक PNB Genie Mobile app में e-Card सुविधा का इस्तेमाल कर पीएनबी ई-कार्ड की जानकारी ले सकते है.

इसका इस्तेमाल करने के लिए पीएनबी के मौजूदा कस्टमर को अपनी PNB Genie ऐप को अपडेट करना जरूरी है. ये ऐप ग्राहकों को इंटरनेशनल और घरेलू इस्तेमाल के लिए ई-कार्ड एक्टिवेशन की सुविधा देती है.

साथ ही, इससे कई और काम भी किए जा सकते है. जैसे एटीएम, ई-कॉमर्स, पीओएस और कॉन्टेक्टलेस पेमेंट्स के लिए ट्रांजेक्शन लिमिट तय करना

क्या है PNB का ई-कार्ड (E-Card)

ई या वर्चुअल कार्ड एक सीमा आधारित डेबिट कार्ड है. इसके जरिए ई-कॉमर्स लेन-देन (ऑन-लाइन) के लिए बैंक इंटरनेट बैंकिंग सुविधा के जरिए बनाया जाता है. ये एक या दो दिन तक की मान्य होता है. इसे कभी भी तैयार किया जा सकता है.

PNB ई-कार्ड पर मुफ्त में मिलते हैं ये फायदें

इसके इस्तेमाल काफी सेफ होता है. क्योंकि अन्य कार्डों  क्रेडिट/डेबिट कार्ड की तरह दिखाना नहीं होता है. साथ ही, इनकी सूचना मर्चेन्‍ट (दुकानदार-पेट्रोलपंप, जहां से आप खरीदारी कर रहे हो) के पास नहीं दी जाती है.

कार्ड 48 घंटों या फिर लेन-देन की समाप्‍ति तक के लिए (दोनों में जो भी पूर्व हो) ही मान्‍य रहता है. इसके बाद ये बंद हो जाता है.

कार्ड सिर्फ ऑनलाइन लेन-देन के लिए ओटीपी द्वारा मान्य होता है और ये ओटीपी भी ग्राहक के फोन पर ही आता है. इसीलिए जालसाज आपके खाते को नुकसान नहीं पहुंचा सकते है.

यह कार्ड आपके इंटरनेट बैंकिंग से जुड़े खातों से लेन-देन की सुविधा देता है. कार्ड को ऐसे किसी भी ऑन लाइन मर्चेन्‍ट पर प्रयोग में लाया जा सकता है जो डेबिट /क्रेडिट कार्ड को स्‍वीकार करते हैं.

इस कार्य के लिए अलग से सेट-अप/ इंस्टोलेशन या रजिस्ट्रेशन की आवश्‍यकता नहीं होती है. साथ ही कोई भी ग्राहक जिसके पास इंटरनेट बैंकिंग सुविधा में लेन-देन के अधिकार है वह अपना वर्चुअल कार्ड बना सकता है.

SBI भी बनाता है ई-कार्ड (E-Card)

देश का सबसे बड़ा सरकारी बैंक एसबीआई (SBI-State Bank of India) भी अपने ग्राहकों को ई-कार्ड की सुविधा देता है. ये कार्ड भी इंटरनेट बैंकिंग के जरिए बनाया जाता है.

Comments

Popular posts from this blog

India-China Face Off: भारत-चीन के बीच हुआ युद्ध, तो जानें किसकी मिसाइल है ज्यादा कारगर?

मकर संक्रांति 2021 तिथि, शुभ मुहूर्त | मकर संक्रांति क्यों मनाई जाती है?

बड़ी ख़बर। महाराजपुरा पुलिस को मिली बड़ी सफलता

Lockdown: पूरे राज्य में फिर लॉकडाउन, सील होंगी पूरी सीमाएं

मंत्रिमंडल विस्तार / केंद्रीय नेतृत्व ने रिजेक्ट की शिवराज की लिस्ट; नए चेहरों को मंत्री बनाने के साथ नरोत्तम और तुलसी को डिप्टी सीएम बनाया जा सकता है

रफत वारसी भाजपा अल्पसंख्यक मोर्चा प्रदेश अध्यक्ष बनाये गए

मध्य प्रदेश / भाजपा के 13 वरिष्ठ विधायकों के मंत्री बनने पर असमंजस बरकरार, गोपाल भार्गव बोले- कांग्रेस ने भी यही गलती की थी

शहीद हसमत वारसी जी के सुपुत्र रफत वारसी को मिला प्रदेश में महत्वपूर्ण पद

TATA Consulting Engineers Limited Hiring|BE/B.Tech Civil Engineer

मप्र / 1 जुलाई को भी मंत्रिमंडल विस्तार के आसार नहीं, नए चेहरों में भोपाल से रामेश्वर, विष्णु खत्री, इंदौर से ऊषा, मालिनी और रमेश के नाम चर्चा में

India News