दिल्ली में फिर लग रहा ‘हुनर हाट’, जहां पिछले साल PM Modi ने लिया था लिट्टी-चोखे का आनंद, इस बार क्यों होगा खास?


केंद्रीय अल्पसंख्यक कार्य मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी (Mukhtar Abbas Naqvi) ने कहा कि देश भर के कारीगरों और शिल्पकारों के स्वदेशी उत्पादों को बढ़ावा देने के लिए हुनर हाट (Hunar Haat) एक 'उपयुक्त मंच' है.

दिल्ली में फिर लग रहा 'हुनर हाट', जहां पिछले साल PM Modi ने लिया था लिट्टी-चोखे का आनंद, इस बार क्यों होगा खास?
Hunar Haat: हुनर हाट में पिछले साल पीएम मोदी ने पहुंचकर सबको चौंका दिया था(फाइल फोटो/Source: FB@hunarhaat)

केंद्रीय अल्पसंख्यक कार्य मंत्रालय 20 फरवरी से नई दिल्ली के जवाहरलाल नेहरू स्टेडियम में ‘हुनर हाट’ (Hunar Haat in Delhi) का आयोजन करेगा. यह एक मार्च तक चलेगा. हुनर हाट का यह 26वां संस्करण होगा और इस बार यह इसलिए भी खास है कि इसकी थीम ‘वोकल फॉर लोकल’ रखी गई है. इसमें 31 से ज्यादा राज्यों/केंद्र शासित प्रदेशों से बड़ी संख्या में महिलाओं समेत 600 से अधिक हुनरमंद कारीगर और शिल्पकार शामिल होंगे.

पिछले साल हुनर हाट (PM Modi in Hunar Haat) में ही प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अचानक पहुंचकर लोगों को चौंका दिया था. वहां उन्होंने कुल्हड़ की चाय और बिहारी व्यंजन लिट्टी-चोखे का आनंद लिया था. पेंटिंग से कमाई कर मकान खरीदने वाली नि:शक्त महिला से मिलने के बाद उन्होंने अपने ट्विटर एकाउंट पर वीडियो भी शेयर किया था.

ऑनलाइन शॉपिंग भी कर सकेंगे लोग

केंद्रीय अल्पसंख्यक कार्य मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी ने कहा है कि देश भर के कारीगरों और शिल्पकारों के स्वदेशी उत्पादों को बढ़ावा देने के लिए ‘हुनर हाट’ एक ‘उपयुक्त मंच’ है. जवाहरलाल नेहरू स्टेडियम में लगने वाला ‘हुनर हाट’ (Hunar Haat at JNU Stadium) वर्चुअल और ऑनलाइन प्लेटफॉर्म के रूप में http://hunarhaat.org और जीईएम पोर्टल पर भी उपलब्ध होगा. ताकि लोग डिजिटल और ऑनलाइन तरीके से भी खरीदारी कर सकें.

आयोजन 20 से शुरू होगा, लेकिन इसका औपचारिक उद्घाटन 21 फरवरी 2021 को केंद्रीय पेट्रोलियम और प्राकृतिक गैस मंत्री धर्मेंद्र प्रधान करेंगे. उनके साथ केंद्रीय पत्तन, पोत परिवहन और जलमार्ग राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) मनसुख मंडाविया भी मुख्य अतिथि के रूप में मौजूद होंगे.

5 लाख हुनरमंदों को मिले रोजगार के अवसर

केंद्रीय अल्पसंख्यक कार्य मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी (Mukhtar Abbas Naqvi) ने रविवार को कहा कि देश भर के कारीगरों और शिल्पकारों के स्वदेशी उत्पादों को बढ़ावा देने के लिए हुनर हाट (Hunar Haat) एक ‘उपयुक्त मंच’ है. इसके जरिये अब तक 5 लाख से अधिक कारीगरों, शिल्पकारों और कलाकारों को रोजगार या रोजगार के अवसर दिए गए हैं.

देश की आजादी के 75 साल पूरे होने तक आयोजित होने वाले 75 ‘हुनर हाट’ आयोजनों के माध्यम से केंद्रीय अल्पसंख्यक कार्य मंत्रालय ने 7.50 लाख कारीगरों और शिल्पकारों को सीधे रोजगार या रोजगार के अवसर प्रदान करने का लक्ष्य रखा है.

किन राज्यों से शामिल होंगे कलाकार?

केंद्रीय मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी के मुताबिक, हुनर हाट में 31 से अधिक राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों के कारीगर और शिल्पकार भाग लेंगे. इनमें आंध्र प्रदेश, असम, बिहार, चंडीगढ़, छत्तीसगढ़, दिल्ली, गोवा, गुजरात, हरियाणा, हिमाचल प्रदेश, जम्मू-कश्मीर, झारखंड, कर्नाटक, केरल, लद्दाख, मध्य प्रदेश, मणिपुर, नागालैंड, ओडिशा, पुदुचेरी, पंजाब, राजस्थान, सिक्किम, तमिलनाडु, तेलंगाना, उत्तर प्रदेश, उत्तराखंड, पश्चिम बंगाल आदि के कारीगर और शिल्पकार शामिल हैं. वे जवाहरलाल नेहरू स्टेडियम में अपने उत्कृष्ट स्वदेशी हस्तनिर्मित उत्पादों के प्रदर्शन और बिक्री के लिए स्टॉल लगाएंगे.

कारीगरों को मिल रहा राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय बाजार

केंद्रीय मंत्री ने कहा कि एक तरफ जहां हुनर हाट स्वदेशी कारीगरों और शिल्पकारों के लिए ‘रोजगार एवं सशक्तीकरण का आदान-प्रदान’ बन गया है, वहीं दूसरी ओर यह कारीगरों और शिल्पकारों को राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय बाजार उपलब्ध कराने का एक प्रभावी मंच भी साबित हुआ है. बता दें कि बीते 6 से 14 फरवरी तक कर्नाटक के मैसूर में आयोजित ‘हुनर हाट’ में लाखों लोग पहुंचे और स्वदेशी कारीगरों और शिल्पकारों को प्रोत्साहित किया. लोगों ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की ‘वोकल फॉर लोकल’ की अपील को मजबूत करने के लिए बड़े पैमाने पर स्वदेशी उत्पादों की खरीद भी की.

पिछले साल जब पीएम मोदी पेंटिंग से कमाई कर मकान खरीदने वाली नि:शक्त महिला से मिले थे, तो उन्होंने अपने ट्विटर एकाउंट पर वीडियो भी शेयर किया था. इस वीडियो में महिला उन्हें बताती हैं कि उन्होंने कहीं से इसकी ट्रेनिंग नहीं ली. शुरुआत में वह दिल्ली हाट के बाहर फुटपाथ पर पेंटिंग बेचती थी और 100 रुपये कमाती थी. लेकिन अब उन्होंने पेंटिंग की ही बदौलत अपना घर भी ले लिया है.

‘बावर्चीखाना’ खंड में मिलेगा देशभर के व्यंजनों का स्वाद

जवाहरलाल नेहरू स्टेडियम में हुनर हाट के एक हिस्से में ‘बावर्चीखाना’ खंड होगा. यहां लोग देश के हर क्षेत्र से पारंपरिक व्यंजनों का भी आनंद ले सकेंगे. इसके अलावा देश के नामी कलाकारों द्वारा प्रस्तुत किए जाने वाले विभिन्न सांस्कृतिक और संगीतमय कार्यक्रमों का भी लोग लुत्फ उठा सकेंगे.

मंत्रालय की ओर से बताया गया है कि आने वाले दिनों में गोवा, भोपाल, जयपुर, चंडीगढ़, मुंबई, हैदराबाद, रांची, सूरत, अहमदाबाद, कोच्चि, गुवाहाटी, भुवनेश्वर, पटना, जम्मू-कश्मीर और अन्य स्थानों पर ‘हुनर हाट’ का आयोजन किया जाएगा.

Comments

Popular posts from this blog

India-China Face Off: भारत-चीन के बीच हुआ युद्ध, तो जानें किसकी मिसाइल है ज्यादा कारगर?

मकर संक्रांति 2021 तिथि, शुभ मुहूर्त | मकर संक्रांति क्यों मनाई जाती है?

बड़ी ख़बर। महाराजपुरा पुलिस को मिली बड़ी सफलता