Skip to main content

दिल्ली में फिर लग रहा ‘हुनर हाट’, जहां पिछले साल PM Modi ने लिया था लिट्टी-चोखे का आनंद, इस बार क्यों होगा खास?


केंद्रीय अल्पसंख्यक कार्य मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी (Mukhtar Abbas Naqvi) ने कहा कि देश भर के कारीगरों और शिल्पकारों के स्वदेशी उत्पादों को बढ़ावा देने के लिए हुनर हाट (Hunar Haat) एक 'उपयुक्त मंच' है.

दिल्ली में फिर लग रहा 'हुनर हाट', जहां पिछले साल PM Modi ने लिया था लिट्टी-चोखे का आनंद, इस बार क्यों होगा खास?
Hunar Haat: हुनर हाट में पिछले साल पीएम मोदी ने पहुंचकर सबको चौंका दिया था(फाइल फोटो/Source: FB@hunarhaat)

केंद्रीय अल्पसंख्यक कार्य मंत्रालय 20 फरवरी से नई दिल्ली के जवाहरलाल नेहरू स्टेडियम में ‘हुनर हाट’ (Hunar Haat in Delhi) का आयोजन करेगा. यह एक मार्च तक चलेगा. हुनर हाट का यह 26वां संस्करण होगा और इस बार यह इसलिए भी खास है कि इसकी थीम ‘वोकल फॉर लोकल’ रखी गई है. इसमें 31 से ज्यादा राज्यों/केंद्र शासित प्रदेशों से बड़ी संख्या में महिलाओं समेत 600 से अधिक हुनरमंद कारीगर और शिल्पकार शामिल होंगे.

पिछले साल हुनर हाट (PM Modi in Hunar Haat) में ही प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अचानक पहुंचकर लोगों को चौंका दिया था. वहां उन्होंने कुल्हड़ की चाय और बिहारी व्यंजन लिट्टी-चोखे का आनंद लिया था. पेंटिंग से कमाई कर मकान खरीदने वाली नि:शक्त महिला से मिलने के बाद उन्होंने अपने ट्विटर एकाउंट पर वीडियो भी शेयर किया था.

ऑनलाइन शॉपिंग भी कर सकेंगे लोग

केंद्रीय अल्पसंख्यक कार्य मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी ने कहा है कि देश भर के कारीगरों और शिल्पकारों के स्वदेशी उत्पादों को बढ़ावा देने के लिए ‘हुनर हाट’ एक ‘उपयुक्त मंच’ है. जवाहरलाल नेहरू स्टेडियम में लगने वाला ‘हुनर हाट’ (Hunar Haat at JNU Stadium) वर्चुअल और ऑनलाइन प्लेटफॉर्म के रूप में http://hunarhaat.org और जीईएम पोर्टल पर भी उपलब्ध होगा. ताकि लोग डिजिटल और ऑनलाइन तरीके से भी खरीदारी कर सकें.

आयोजन 20 से शुरू होगा, लेकिन इसका औपचारिक उद्घाटन 21 फरवरी 2021 को केंद्रीय पेट्रोलियम और प्राकृतिक गैस मंत्री धर्मेंद्र प्रधान करेंगे. उनके साथ केंद्रीय पत्तन, पोत परिवहन और जलमार्ग राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) मनसुख मंडाविया भी मुख्य अतिथि के रूप में मौजूद होंगे.

5 लाख हुनरमंदों को मिले रोजगार के अवसर

केंद्रीय अल्पसंख्यक कार्य मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी (Mukhtar Abbas Naqvi) ने रविवार को कहा कि देश भर के कारीगरों और शिल्पकारों के स्वदेशी उत्पादों को बढ़ावा देने के लिए हुनर हाट (Hunar Haat) एक ‘उपयुक्त मंच’ है. इसके जरिये अब तक 5 लाख से अधिक कारीगरों, शिल्पकारों और कलाकारों को रोजगार या रोजगार के अवसर दिए गए हैं.

देश की आजादी के 75 साल पूरे होने तक आयोजित होने वाले 75 ‘हुनर हाट’ आयोजनों के माध्यम से केंद्रीय अल्पसंख्यक कार्य मंत्रालय ने 7.50 लाख कारीगरों और शिल्पकारों को सीधे रोजगार या रोजगार के अवसर प्रदान करने का लक्ष्य रखा है.

किन राज्यों से शामिल होंगे कलाकार?

केंद्रीय मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी के मुताबिक, हुनर हाट में 31 से अधिक राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों के कारीगर और शिल्पकार भाग लेंगे. इनमें आंध्र प्रदेश, असम, बिहार, चंडीगढ़, छत्तीसगढ़, दिल्ली, गोवा, गुजरात, हरियाणा, हिमाचल प्रदेश, जम्मू-कश्मीर, झारखंड, कर्नाटक, केरल, लद्दाख, मध्य प्रदेश, मणिपुर, नागालैंड, ओडिशा, पुदुचेरी, पंजाब, राजस्थान, सिक्किम, तमिलनाडु, तेलंगाना, उत्तर प्रदेश, उत्तराखंड, पश्चिम बंगाल आदि के कारीगर और शिल्पकार शामिल हैं. वे जवाहरलाल नेहरू स्टेडियम में अपने उत्कृष्ट स्वदेशी हस्तनिर्मित उत्पादों के प्रदर्शन और बिक्री के लिए स्टॉल लगाएंगे.

कारीगरों को मिल रहा राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय बाजार

केंद्रीय मंत्री ने कहा कि एक तरफ जहां हुनर हाट स्वदेशी कारीगरों और शिल्पकारों के लिए ‘रोजगार एवं सशक्तीकरण का आदान-प्रदान’ बन गया है, वहीं दूसरी ओर यह कारीगरों और शिल्पकारों को राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय बाजार उपलब्ध कराने का एक प्रभावी मंच भी साबित हुआ है. बता दें कि बीते 6 से 14 फरवरी तक कर्नाटक के मैसूर में आयोजित ‘हुनर हाट’ में लाखों लोग पहुंचे और स्वदेशी कारीगरों और शिल्पकारों को प्रोत्साहित किया. लोगों ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की ‘वोकल फॉर लोकल’ की अपील को मजबूत करने के लिए बड़े पैमाने पर स्वदेशी उत्पादों की खरीद भी की.

पिछले साल जब पीएम मोदी पेंटिंग से कमाई कर मकान खरीदने वाली नि:शक्त महिला से मिले थे, तो उन्होंने अपने ट्विटर एकाउंट पर वीडियो भी शेयर किया था. इस वीडियो में महिला उन्हें बताती हैं कि उन्होंने कहीं से इसकी ट्रेनिंग नहीं ली. शुरुआत में वह दिल्ली हाट के बाहर फुटपाथ पर पेंटिंग बेचती थी और 100 रुपये कमाती थी. लेकिन अब उन्होंने पेंटिंग की ही बदौलत अपना घर भी ले लिया है.

‘बावर्चीखाना’ खंड में मिलेगा देशभर के व्यंजनों का स्वाद

जवाहरलाल नेहरू स्टेडियम में हुनर हाट के एक हिस्से में ‘बावर्चीखाना’ खंड होगा. यहां लोग देश के हर क्षेत्र से पारंपरिक व्यंजनों का भी आनंद ले सकेंगे. इसके अलावा देश के नामी कलाकारों द्वारा प्रस्तुत किए जाने वाले विभिन्न सांस्कृतिक और संगीतमय कार्यक्रमों का भी लोग लुत्फ उठा सकेंगे.

मंत्रालय की ओर से बताया गया है कि आने वाले दिनों में गोवा, भोपाल, जयपुर, चंडीगढ़, मुंबई, हैदराबाद, रांची, सूरत, अहमदाबाद, कोच्चि, गुवाहाटी, भुवनेश्वर, पटना, जम्मू-कश्मीर और अन्य स्थानों पर ‘हुनर हाट’ का आयोजन किया जाएगा.

Comments

Popular posts from this blog

मकर संक्रांति 2021 तिथि, शुभ मुहूर्त | मकर संक्रांति क्यों मनाई जाती है?

मकर संक्रांति मकर संक्रांति  का भारतीय धार्मिक परम्परा में विशेष महत्व है, क्योंकि इस दिन सूर्य धनु राशि को छोड़ कर मकर राशि में प्रवेश कर उत्तरायण में आता है। शास्त्रों के अनुसार यह सकारात्मक ऊर्जा का प्रतीक है और इसीलिए इस दिन जप, तप, दान, स्नान का विशेष महत्व है।  मकर संक्रांति  परंपरागत रूप से 14 जनवरी या 15 जनवरी को मनाई जाती आ रही है।  मकर संक्रांति  में ‘मकर’ शब्द मकर राशि को इंगित करता है जबकि ‘संक्रांति’ का अर्थ संक्रमण अर्थात प्रवेश करना है।  मकर संक्रांति  के दिन सूर्य धनु राशि से मकर राशि में प्रवेश करता है। एक राशि को छोड़कर दूसरे में प्रवेश करने की इस विस्थापन क्रिया को संक्रांति कहते हैं। शास्त्रों के नियम के अनुसार रात में संक्रांति होने पर अगले दिन भी संक्रांति मनाई जाती है। मकर संक्रांति  के दिन सूर्य दक्षिणायन से अपनी दिशा बदलकर उत्तरायण हो जाता है अर्थात सूर्य उत्तर दिशा की ओर बढ़ने लगता है, जिससे दिन की लंबाई बढ़नी और रात की लंबाई छोटी होनी शुरू हो जाती है। भारत में इस दिन से बसंत ऋतु की शुरुआत मानी जाती है। अत:  मकर संक्रांति  को उत्तरायण के नाम से भी जाना जाता है। तम

रफत वारसी भाजपा अल्पसंख्यक मोर्चा प्रदेश अध्यक्ष बनाये गए

मध्य प्रदेश भाजपा अल्पसंख्यक मोर्चे की जवाबदारी प्रदेश के  युवा व वरिष्ठ नेता श्री रफत वारसी के हाथों में  मध्य प्रदेश भाजपा प्रदेश अध्यक्ष श्री विष्णु दत्त शर्मा ने मध्य प्रदेश के भाजपा संगठन का विस्तार किया है जिसमें मोर्चे के नए प्रदेश अध्यक्षों की भी नियुक्ति की गई है जिसमें मध्य प्रदेश के वरिष्ठ व युवा नेता श्री रफत वारसी को भाजपा अल्पसंख्यक मोर्चा का प्रदेश अध्यक्ष बनाकर भाजपा अल्पसंख्यक मोर्चा की जवाबदारी सौंपी गई है श्री रफत वारसी मध्यप्रदेश में एक उभरते हुए अल्पसंख्यक चेहरे है और भाजपा आलाकमान ने नए चेहरे के रूप में श्री वारसी साहब को यह नई जवाबदारी सौंपी है जिससे मध्य प्रदेश में भाजपा अल्पसंख्यक मोर्चा और मजबूत होने की संभावना बढ़ गई है वर्तमान में भाजपा अल्पसंख्यक मोर्चा में नई और युवा पीढ़ी के लोग अधिकतर काम कर रहे हैं और वारसी साहब के प्रदेश अध्यक्ष बनाए जाने से इसमें और अधिक वृद्धि होगी क्योंकि नए प्रदेश अध्यक्ष श्री वारसी साहब मध्यप्रदेश में अल्पसंख्यक समाज में अपनी गहरी पैठ रखते हैं उनके प्रदेश अध्यक्ष बनाए जाने से भारतीय जनता पार्टी अल्पसंख्यक मोर्चा बेहतर

शहीद हसमत वारसी जी के सुपुत्र रफत वारसी को मिला प्रदेश में महत्वपूर्ण पद

    शहीद हसमत वारसी जी  के सुपुत्र रफत वारसी को मिला प्रदेश में महत्वपूर्ण  पद          वी डी शर्मा जी ने गले लगा कर दी बधाई      मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान जी से आशीर्वाद लेते हुए       वी डी  शर्मा जी भाजपा प्रदेश अध्यक्ष  ने दिया आशीर्वाद          अपनी माँ परवीन वारसी जी से दुआयें  लेते हुए रफत वारसी ने किया पदभार ग्रहण 17 जनवरी 2021 को भाजपा अल्पसंख्यक मोर्चा के नव नियुक्त प्रदेश अध्यक्ष रफत वारसी ने किया पदभार ग्रहण रफत वारसी ने कहा मुस्लिम समाज में कई तरह के भ्रम हैँ जिन्हे दूर करने के लिए एक दल के साथ पुरे प्रदेश का भ्रमण करेंगे ! साथ ही उन्होंने पदभार ग्रहण में आये हुए  सभी  साथियों का तहे दिल से शुक्रिया  अदा किआ 

SHOP WITH US Apparel & Accessories