Skip to main content

Petrol की टेंशन छोड़िए: महज 7 रुपये में 35 KM दौड़ेगी Bike, एमपी के उषाकांत की तरह करना होगा ये काम


उषाकांत की बाइक पुरानी थी और रजिस्ट्रेशन भी खत्म हो गया था. कबाड़ में बेचते तो मामूली पैसे मिलते. ऐसे में उन्होंने अपनी बाइक को इलेक्ट्रिक बाइक में बदल डाला

Petrol की टेंशन छोड़िए: महज 7 रुपये में 35 KM दौड़ेगी Bike, एमपी के उषाकांत की तरह करना होगा ये काम
Electric Bike: नई खरीदना संभव नहीं था, इसलिए पुरानी बाइक को ही बना डाला इलेक्ट्रिक बाइक

पेट्रोल-डीजल की बढ़ती कीमतों (Petrol Diesel Price Hike) के बीच बाइक, कार वगैरह चलाना काफी महंगा साबित हो रहा है. तेल की बढ़ते दामों ने आम आदमी का बजट गड़बड़ा दिया है. लोग विकल्पों की तलाश कर रहे हैं. वहीं, सरकार भी इलेक्ट्रिक वाहनों और ईंधन के अन्य विकल्पों पर जोर दे रही है. इस बीच मध्य प्रदेश के बैतूल के एक व्यक्ति ने शानदार रास्ता (Convert Motorcycle to Electric Bike) निकाला है.

पेट्रोल की बढ़ती कीमतों के बीच लोग अब इलेक्ट्रिक वाहन की जरूरत महसूस करने लगे हैं. पेट्रोल से चलने वाली बाइक से ऑफिस, स्कूल-कॉलेज या वर्कफील्ड जाने वाले लोग यही सोच रहे हैं कि उनके पास इलेक्ट्रिक बाइक होती तो कितना शानदार होता. एक बार चार्ज करते और काम पर ​निकल लेते. फिर पेट्रोल की कीमत बढ़े या घटे, उन्हें मतलब नहीं रह जाता.

हालांकि हर किसी के लिए तुरंत इलेक्ट्रिक बाइक (Electric Bike) खरीदना संभव तो नहीं! लेकिन अगर आपकी पेट्रोल से चलने वाली बाइक ही इलेक्ट्रिक बाइक में तब्दील हो जाए, तो कैसा रहेगा? है न कमाल की बात! दरअसल, बैतूल बिजली विभाग के कार्यरत लाइन हेल्पर उषाकांत ने यही किया है. उन्होंने पेट्रोल से चलने वाली अपनी बाइक को इलेक्ट्रिक बाइक में तब्दील कर दिया है.

7 रुपये के खर्च में 35 किलोमीटर का सफर

उषाकांत की बाइक 100 रुपये का पेट्रोल भरवाने पर करीब 40 किलोमीटर की दूरी तय करती थी. स्थानीय मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, उषाकांत ने ऐसा जुगाड़ लगाया कि 100 रुपये में 40 किलोमीटर चलने वाली उनकी बाइक महज 7 रुपये के खर्च में 35 किलोमीटर का सफर तय करने लगी है. बैतूल बिजली विभाग में लाइनमैन उषाकांत के पास 18 साल पुरानी बाइक थी, जिसे उन्होंने इलेक्ट्रिक बाइक बना डाला है. ये बाइक बिना पेट्रोल के चलती है और प्रदूषण भी नहीं फैलाती है.

4 बैटरी लगाई, एक मोटर लगाया और कर दिया कमाल

उषाकांत के मुताबिक, उन्होंने अपनी बाइक में 12 वाट की 4 बैटरी लगाई और इसके साथ एक मोटर को जोड़ दिया. सभी बैट्री चार्ज होने में 6 घंटे का समय लेती है. एक बार चार्ज करने के बाद बाइक 35 किलोमीटर चलती है. बाइक चार्ज करने में एक यूनिट बिजली खर्च होती है.

यानी महज 7 रुपये की एक यूनिट बिजली में 35 किलोमीटर बाइक चल रही है. उनका कहना है कि बढ़ती महंगाई के बीच कोई नई इलेक्ट्रिक बाइक खरीदने में कम से कम 90,000 से एक लाख रुपये तक का खर्च आता है. ऐसे में पुरानी बाइक को इलेक्ट्रिक बाइक बना लेना फायदेमंद साबित हुआ है.

इलेक्ट्रिक बाइक बनाने में आया 28 हजार का खर्च

उषाकांत के मुताबिक, उनकी बाइक पुरानी थी और रजिस्ट्रेशन भी खत्म हो गया था. कबाड़ में बेचते तो मामूली पैसे मिलते. ऐसे में उन्होंने अपनी बाइक को इलेक्ट्रिक बाइक में बदल डाला. बैट्री, मोटर वगैरह लगाने में उन्हें करीब 28 हजार रुपये का खर्च बैठा. इस बाइक से प्रदूषण भी नहीं हो रहा और पेट्रोल का खर्च भी बच रहा है. पहले पेट्रोल वाली बाइक में उन्हें जहां हर रोज 80 से 100 रुपये का खर्च आता था, लेकिन अब हर महीने ढाई हजार रुपये तक की बचत हो रही है.

Comments

Popular posts from this blog

मकर संक्रांति 2021 तिथि, शुभ मुहूर्त | मकर संक्रांति क्यों मनाई जाती है?

मकर संक्रांति मकर संक्रांति  का भारतीय धार्मिक परम्परा में विशेष महत्व है, क्योंकि इस दिन सूर्य धनु राशि को छोड़ कर मकर राशि में प्रवेश कर उत्तरायण में आता है। शास्त्रों के अनुसार यह सकारात्मक ऊर्जा का प्रतीक है और इसीलिए इस दिन जप, तप, दान, स्नान का विशेष महत्व है।  मकर संक्रांति  परंपरागत रूप से 14 जनवरी या 15 जनवरी को मनाई जाती आ रही है।  मकर संक्रांति  में ‘मकर’ शब्द मकर राशि को इंगित करता है जबकि ‘संक्रांति’ का अर्थ संक्रमण अर्थात प्रवेश करना है।  मकर संक्रांति  के दिन सूर्य धनु राशि से मकर राशि में प्रवेश करता है। एक राशि को छोड़कर दूसरे में प्रवेश करने की इस विस्थापन क्रिया को संक्रांति कहते हैं। शास्त्रों के नियम के अनुसार रात में संक्रांति होने पर अगले दिन भी संक्रांति मनाई जाती है। मकर संक्रांति  के दिन सूर्य दक्षिणायन से अपनी दिशा बदलकर उत्तरायण हो जाता है अर्थात सूर्य उत्तर दिशा की ओर बढ़ने लगता है, जिससे दिन की लंबाई बढ़नी और रात की लंबाई छोटी होनी शुरू हो जाती है। भारत में इस दिन से बसंत ऋतु की शुरुआत मानी जाती है। अत:  मकर संक्रांति  को उत्तरायण के नाम से भी जाना जाता है। तम

रफत वारसी भाजपा अल्पसंख्यक मोर्चा प्रदेश अध्यक्ष बनाये गए

मध्य प्रदेश भाजपा अल्पसंख्यक मोर्चे की जवाबदारी प्रदेश के  युवा व वरिष्ठ नेता श्री रफत वारसी के हाथों में  मध्य प्रदेश भाजपा प्रदेश अध्यक्ष श्री विष्णु दत्त शर्मा ने मध्य प्रदेश के भाजपा संगठन का विस्तार किया है जिसमें मोर्चे के नए प्रदेश अध्यक्षों की भी नियुक्ति की गई है जिसमें मध्य प्रदेश के वरिष्ठ व युवा नेता श्री रफत वारसी को भाजपा अल्पसंख्यक मोर्चा का प्रदेश अध्यक्ष बनाकर भाजपा अल्पसंख्यक मोर्चा की जवाबदारी सौंपी गई है श्री रफत वारसी मध्यप्रदेश में एक उभरते हुए अल्पसंख्यक चेहरे है और भाजपा आलाकमान ने नए चेहरे के रूप में श्री वारसी साहब को यह नई जवाबदारी सौंपी है जिससे मध्य प्रदेश में भाजपा अल्पसंख्यक मोर्चा और मजबूत होने की संभावना बढ़ गई है वर्तमान में भाजपा अल्पसंख्यक मोर्चा में नई और युवा पीढ़ी के लोग अधिकतर काम कर रहे हैं और वारसी साहब के प्रदेश अध्यक्ष बनाए जाने से इसमें और अधिक वृद्धि होगी क्योंकि नए प्रदेश अध्यक्ष श्री वारसी साहब मध्यप्रदेश में अल्पसंख्यक समाज में अपनी गहरी पैठ रखते हैं उनके प्रदेश अध्यक्ष बनाए जाने से भारतीय जनता पार्टी अल्पसंख्यक मोर्चा बेहतर

शहीद हसमत वारसी जी के सुपुत्र रफत वारसी को मिला प्रदेश में महत्वपूर्ण पद

    शहीद हसमत वारसी जी  के सुपुत्र रफत वारसी को मिला प्रदेश में महत्वपूर्ण  पद          वी डी शर्मा जी ने गले लगा कर दी बधाई      मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान जी से आशीर्वाद लेते हुए       वी डी  शर्मा जी भाजपा प्रदेश अध्यक्ष  ने दिया आशीर्वाद          अपनी माँ परवीन वारसी जी से दुआयें  लेते हुए रफत वारसी ने किया पदभार ग्रहण 17 जनवरी 2021 को भाजपा अल्पसंख्यक मोर्चा के नव नियुक्त प्रदेश अध्यक्ष रफत वारसी ने किया पदभार ग्रहण रफत वारसी ने कहा मुस्लिम समाज में कई तरह के भ्रम हैँ जिन्हे दूर करने के लिए एक दल के साथ पुरे प्रदेश का भ्रमण करेंगे ! साथ ही उन्होंने पदभार ग्रहण में आये हुए  सभी  साथियों का तहे दिल से शुक्रिया  अदा किआ 

SHOP WITH US Apparel & Accessories