Skip to main content

गुलजार रहेगा सोने का बाजार! Gold ETF में मिल सकता है बंपर रिटर्न, छोटे खरीदारों की भी रहेगी चांदी


एएमएफआई के आंकड़ों के मुताबिक स्वर्ण ईटीएफ में निवेश दिसंबर के अंत में 14,174 करोड़ रुपये के मुकाबले जनवरी के अंत में 22 फीसदी की बढ़ोतरी के साथ 14,481 करोड़ रुपये हो गया

गुलजार रहेगा सोने का बाजार! Gold ETF में मिल सकता है बंपर रिटर्न, छोटे खरीदारों की भी रहेगी चांदी
सोने की कीमतों में गिरावट जारी

महंगे मेटल की कीमतों में गिरावट के अनुरूप राष्ट्रीय राजधानी के सर्राफा बाजार में शुक्रवार को सोना 661 रुपये की गिरावट के साथ 46,847 रुपये प्रति 10 ग्राम रह गया. एचडीएफसी सिक्योरिटीज के अनुसार पिछले दिन सोना 47,508 रुपये प्रति 10 ग्राम पर बंद हुआ था. चांदी भी 347 रुपये की गिरावट के साथ 67,894 रुपये प्रति किलो ग्राम पर बंद हुआ जिसका पिछला बंद भाव 68,241 रुपये प्रति किलो था.

अंतरराष्ट्रीय बाजार में सोना गिरावट के साथ 1,815 अमेरिकी डॉलर प्रति औंस रह गया जबकि चांदी 26.96 डॉलर प्रति औंस पर लगभग अपरिवर्तित रही. एचडीएफसी सिक्योरिटीज के वरिष्ठ विश्लेषक (जिंस) तपन पटेल ने ‘PTI’ से कहा, ‘डॉलर सूचकांक में सुधार के कारण सोने में कमजोरी रही.’ डॉलर की कीमतों का असर सोने के बाजार पर देखा जाता है. अमेरिकी डॉलर में घट-बढ़ का प्रभाव देश में सोने के भाव उसकी खरीदारी पर साफ देखा जा सकता है.

गोल्ड ईटीएफ में निवेश में तेजी

दूसरी ओर, सोने में निवेश लगातार जारी है क्योंकि लोगों को इसमें पैसा लगाना एक सुरक्षित विकल्प जान पड़ रहा है. पिछले महीने जनवरी की बात करें तो गोल्ड ईटीएफ यानी कि एक्सचेंज ट्रेडेड फंड्स पर भारी निवेश हुआ है. जनवरी में गोल्ड एक्सचेंज ट्रेडेड फंड्स (ईटीएफ) में 625 करोड़ रुपये का निवेश हुआ जो इससे पिछले महीने के मुकाबले 45 प्रतिशत ज्यादा था. निवेशकों को उम्मीद है कि आगे जाकर सोने का बाजार अच्छा रहेगा.

एएमएफआई के आंकड़ों के मुताबिक स्वर्ण ईटीएफ में निवेश दिसंबर के अंत में 14,174 करोड़ रुपये के मुकाबले जनवरी के अंत में 22 फीसदी की बढ़ोतरी के साथ 14,481 करोड़ रुपये हो गया. नवंबर 2020 में इस तरह की योजनाओं से 141 करोड़ रुपये की शुद्ध निकासी हुई थी. दिसंबर में इसे 431 करोड़ रुपये का शुद्ध निवेश देखने को मिला. ‘मॉर्निंगस्टार इंडिया’ के हिमांशु श्रीवास्तव ने कहा कि सोने की कीमतें पिछले साल अगस्त में हुए गए सर्वकालिक उच्च स्तर से नीचे आ गई हैं. जनवरी के महीने में भी इसकी कीमतों में काफी गिरावट आई है.

हिमांशु श्रीवास्तव ने कहा, ‘इस उम्मीद के साथ कि आगे जाकर सोना अच्छा कर सकता है, इस स्थिति ने निवेशकों को खरीदारी का अच्छा अवसर दिया, जिसके परिणामस्वरूप जनवरी में इस श्रेणी में शुद्ध निवेश हुआ.’ गोल्ड ईटीएफ ने पिछले साल 6,657 करोड़ रुपये आकर्षित किए थे. वर्ष 2019 के महज 16 करोड़ रुपये का निवेश हुआ था. इस तरह देखें तो हर साल गोल्ड ईटीएफ में निवेश लगातार बढ़ता जा रहा है जो दिखाता है कि रिटर्न की आस में लोग सोने को अपना भरोसेमंद जरिया मान रहे हैं और तेजी से इसमें निवेश कर रहे हैं. आगे भी यह ट्रेंड जारी रहने की संभावना है.

भविष्य में मिलेगा बंपर रिटर्न

गोल्ड ईटीएफ में निवेश बढ़ने का मतलब है कि निवेशकों को उम्मीद है कि आगे चलकर उन्हें अच्छा रिटर्न मिलेगा. गोल्ड ईटीएफ में निवेश को अच्छा जरिया माना जाता है. जैसा सोने पर रिटर्न मिलता है, वैसा ही ईटीएफ पर भी रिटर्न मिलता है. जिस तरह शेयर खरीदे जाते हैं, उसी तरह आसान तरीके से गोल्ड ईटीएफ भी खरीदे जा सकते हैं. ईटीएफ की कीमतें सोने की कीमतों पर निर्भर करती हैं. हालांकि अभी सोने के भाव तो गिर रहे हैं लेकिन भविष्य में भी ऐसा ही रहेगा, यह नहीं कहा जा सकता. गोल्ड ईटीएफ का इतिहास देखें तो पिछले साल तीन प्रमुख गोल्ड ईटीएफ ने 35 परसेंट से ज्यादा मुनाफा दिया है.

गोल्ड ईटीएफ से तगड़ी कमाई

इन तीन गोल्ड ईटीएफ में एचडीएफसी गोल्ड फंड, कोटक गोल्ड फंड और एसबीआई एक्सचेंज ट्रेडेड फंड गोल्ड का नाम है. जो लोग बड़े स्तर पर खरीदारी करते हैं वे ईटीएफ में निवेश करते हैं क्योंकि इसे बेचना आसान होता है. सोना खरीदकर बेचने और उससे मुनाफा कमाने से अच्छा जरिया ईटीएफ को माना जाता है, तभी आजकल इसमें निवेश तेजी से बढ़ रहा है. पिछले साल दिसंबर की तुलना में इस साल जनवरी में ईटीएफ में निवेश में 45 फीसदी तक तेजी देखी गई है. जानकार बताते हैं कि आने वाले महीने में यह तेजी बरकरार रहेगी और इसमें बढ़ोतरी संभव है. निवेशकों को उम्मीद है कि आगे चल कर सोना अच्छा रिटर्न दे सकता है, इसलिए धड़ाधड़ निवेश किया जा रहा है.

Comments

Popular posts from this blog

मकर संक्रांति 2021 तिथि, शुभ मुहूर्त | मकर संक्रांति क्यों मनाई जाती है?

मकर संक्रांति मकर संक्रांति  का भारतीय धार्मिक परम्परा में विशेष महत्व है, क्योंकि इस दिन सूर्य धनु राशि को छोड़ कर मकर राशि में प्रवेश कर उत्तरायण में आता है। शास्त्रों के अनुसार यह सकारात्मक ऊर्जा का प्रतीक है और इसीलिए इस दिन जप, तप, दान, स्नान का विशेष महत्व है।  मकर संक्रांति  परंपरागत रूप से 14 जनवरी या 15 जनवरी को मनाई जाती आ रही है।  मकर संक्रांति  में ‘मकर’ शब्द मकर राशि को इंगित करता है जबकि ‘संक्रांति’ का अर्थ संक्रमण अर्थात प्रवेश करना है।  मकर संक्रांति  के दिन सूर्य धनु राशि से मकर राशि में प्रवेश करता है। एक राशि को छोड़कर दूसरे में प्रवेश करने की इस विस्थापन क्रिया को संक्रांति कहते हैं। शास्त्रों के नियम के अनुसार रात में संक्रांति होने पर अगले दिन भी संक्रांति मनाई जाती है। मकर संक्रांति  के दिन सूर्य दक्षिणायन से अपनी दिशा बदलकर उत्तरायण हो जाता है अर्थात सूर्य उत्तर दिशा की ओर बढ़ने लगता है, जिससे दिन की लंबाई बढ़नी और रात की लंबाई छोटी होनी शुरू हो जाती है। भारत में इस दिन से बसंत ऋतु की शुरुआत मानी जाती है। अत:  मकर संक्रांति  को उत्तरायण के नाम से भी जाना जाता है। तम

रफत वारसी भाजपा अल्पसंख्यक मोर्चा प्रदेश अध्यक्ष बनाये गए

मध्य प्रदेश भाजपा अल्पसंख्यक मोर्चे की जवाबदारी प्रदेश के  युवा व वरिष्ठ नेता श्री रफत वारसी के हाथों में  मध्य प्रदेश भाजपा प्रदेश अध्यक्ष श्री विष्णु दत्त शर्मा ने मध्य प्रदेश के भाजपा संगठन का विस्तार किया है जिसमें मोर्चे के नए प्रदेश अध्यक्षों की भी नियुक्ति की गई है जिसमें मध्य प्रदेश के वरिष्ठ व युवा नेता श्री रफत वारसी को भाजपा अल्पसंख्यक मोर्चा का प्रदेश अध्यक्ष बनाकर भाजपा अल्पसंख्यक मोर्चा की जवाबदारी सौंपी गई है श्री रफत वारसी मध्यप्रदेश में एक उभरते हुए अल्पसंख्यक चेहरे है और भाजपा आलाकमान ने नए चेहरे के रूप में श्री वारसी साहब को यह नई जवाबदारी सौंपी है जिससे मध्य प्रदेश में भाजपा अल्पसंख्यक मोर्चा और मजबूत होने की संभावना बढ़ गई है वर्तमान में भाजपा अल्पसंख्यक मोर्चा में नई और युवा पीढ़ी के लोग अधिकतर काम कर रहे हैं और वारसी साहब के प्रदेश अध्यक्ष बनाए जाने से इसमें और अधिक वृद्धि होगी क्योंकि नए प्रदेश अध्यक्ष श्री वारसी साहब मध्यप्रदेश में अल्पसंख्यक समाज में अपनी गहरी पैठ रखते हैं उनके प्रदेश अध्यक्ष बनाए जाने से भारतीय जनता पार्टी अल्पसंख्यक मोर्चा बेहतर

शहीद हसमत वारसी जी के सुपुत्र रफत वारसी को मिला प्रदेश में महत्वपूर्ण पद

    शहीद हसमत वारसी जी  के सुपुत्र रफत वारसी को मिला प्रदेश में महत्वपूर्ण  पद          वी डी शर्मा जी ने गले लगा कर दी बधाई      मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान जी से आशीर्वाद लेते हुए       वी डी  शर्मा जी भाजपा प्रदेश अध्यक्ष  ने दिया आशीर्वाद          अपनी माँ परवीन वारसी जी से दुआयें  लेते हुए रफत वारसी ने किया पदभार ग्रहण 17 जनवरी 2021 को भाजपा अल्पसंख्यक मोर्चा के नव नियुक्त प्रदेश अध्यक्ष रफत वारसी ने किया पदभार ग्रहण रफत वारसी ने कहा मुस्लिम समाज में कई तरह के भ्रम हैँ जिन्हे दूर करने के लिए एक दल के साथ पुरे प्रदेश का भ्रमण करेंगे ! साथ ही उन्होंने पदभार ग्रहण में आये हुए  सभी  साथियों का तहे दिल से शुक्रिया  अदा किआ 

SHOP WITH US Apparel & Accessories