FASTag को लेकर इस तरह हो रहा है फ्रॉड, NHAI ने भी जारी किया अलर्ट


बाजार में कई फर्जी फास्टैग भी बेचे जा रहे हैं, ऐसे में आपको इनका ध्यान रखना होगा. फर्जी फास्टैग के बढ़ते केस को लेकर NHAI यानी भारतीय राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण ने भी अलर्ट जारी किया है

FASTag को लेकर इस तरह हो रहा है फ्रॉड, NHAI ने भी जारी किया अलर्ट
एनएचएआई ने जानकारी दी है कि NHAI या IHMCL के नाम पर फेक फास्टैग बेचे जा रहे हैं.

भारत सरकार की ओर से टोल टैक्स के लिए फास्टैग को अनिवार्य कर दिया गया है. अगर आप नेशनल हाइवे पर यात्रा कर रहे हैं तो आपकी कार पर फास्टैग लगा होना आवश्यक है, नहीं तो आपको टोल देने में मुश्किल का सामना करना पड़ सकता है. अगर आपकी गाड़ी में भी फास्टैग नहीं है तो आप भी जल्द से जल्द ये लगवा लें. फास्टैग के अनिवार्य होने की वजह से इसकी बिक्री में भी काफी इजाफा हो गया है और इसकी वजह से फ्रॉड भी हो रहे हैं. ऐसे में आपको फास्टैग लेने के साथ ही अलर्ट रहना आवश्यक है.

बताया जा रहा है कि बाजार में कई फर्जी फास्टैग भी बेचे जा रहे हैं, ऐसे में आपको इनका ध्यान रखना होगा. फर्जी फास्टैग के बढ़ते केस को लेकर NHAI यानी भारतीय राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण ने भी अलर्ट जारी किया है. एनएचएआई ने फेक फास्टैग को लेकर अपनी आधिकारिक वेबसाइट पर एक पब्लिक नोटिस शेयर किया है, जिसमें बताया है कि किस तरह से फास्टैग बेचे जा रहे हैं और फास्टैग खरीदते समय किन बातों का ध्यान रखना चाहिए. ऐसे में जानते हैं कि फास्टैग से किस तरह से फ्रॉड हो रहा है और एनएचएआई ने क्या कहा है…

एनएचएआई ने क्या जानकारी दी है?

एनएचएआई ने जानकारी दी है कि NHAI या IHMCL के नाम पर फेक फास्टैग बेचे जा रहे हैं. नोटिस में लिखा गया है, ‘फ्रॉडस्टर्स NHAI/IHMCLके मिलते जुलते नाम से फास्टैग बेच रहे हैं. वैध ऑनलाइन फास्टैग सिर्फ www.ihmcl.co.in या MyFASTag App की वेबसाइट के जरिए खरीदे जा सकते हैं. इसके अलावा ग्राहक फास्टैग बैंक और आधिकृत पीओएस, बैंक वेबसाइट से खरीद सकते हैं. कई वेबसाइट की जानकारी IHMCL की वेबसाइट पर दी गई है.

क्या है NHAI की सलाह?

NHAI ने अपनी वेबसाइट पर जानकारी दी है कि कोई भी अनजान जगह से ऑनलाइन ऑर्डर ना करें. ऐसी ही कोई भी घटना सामने आने पर NHAI की हेल्पलाइन 1033 पर ऑनलाइन पर संपर्क करें या etc.nodal@ihmcl.com पर मेल करके जानकारी दें.

किन गाड़ियों के लिए आवश्यक है फास्टैग?

सरकार की ओर से अभी फास्टैग को M और N कैटेगरी वाहनों के लिए आवश्यक किया है. जिसमें चार से अधिक पहिए वाले पर्सनल वाहन या सामान ले जाने वाले लोडिंग वाहन शामिल है. बता दें कि यह नई व्यवस्था टू-व्हीलर्स के लिए नहीं है.

अगर किसी के पास फास्टैग नहीं होगा तो क्या होगा?

वैसे तो सरकार लंबे समय से फास्टैग लगवाने पर जोर दे रही है, लेकिन फिर भी अगर कोई फास्टैग नहीं लगवाता है तो उन्हें जुर्माना भी भरना पड़ेगा. अगर आप बिना फास्टैग वाली गाड़ी के साथ टोल पार करने की कोशिश करते हैं तो आपके लिए मुश्किल हो सकती है. ऐसे में आपको जुर्माने के रूप में दोगुना टोल देना होगा.

फास्टैग काम न करे तो क्या करें

टोल से गुजरते ही आपके फास्टैग अकाउंट से पैसा कटता है जिसकी सूचना एसएमएस के जरिये आपके मोबाइल पर मिल जाती है. मैसेज में टोल का नाम, ट्रांजेक्शन की तारीख, ट्रांजेक्शन अमाउंट और फास्टैग के बैलेंस के बारे में जानकारी होती है. ऐसा भी हो सकता है कि टोल प्लाजा पर आपका फास्टैग काम नहीं करे. ऐसी स्थिति में 1033 टोल फ्री नंबर पर फोन कर अपनी शिकायत दर्ज करानी चाहिए. 1033 कॉल सेंटर को एनएचएआई (भारत सरकार) ने हाइवे यूजर्ज के लिए स्थापित किया है.

Comments

Popular posts from this blog

India-China Face Off: भारत-चीन के बीच हुआ युद्ध, तो जानें किसकी मिसाइल है ज्यादा कारगर?

मकर संक्रांति 2021 तिथि, शुभ मुहूर्त | मकर संक्रांति क्यों मनाई जाती है?

बड़ी ख़बर। महाराजपुरा पुलिस को मिली बड़ी सफलता