Skip to main content

गाय के गोबर से पेंट बनाने की फैक्ट्री कैसे खोलें, कहां मिलेगा प्रशिक्षण, कितना आएगा खर्च और कैसे होगी कमाई?


Cow Dung Paint Factory: गोबर से पेंट बनाने की फैक्ट्री खुलवाने की तैयारी में सूक्ष्म, लघु एवं मध्यम मंत्रालय खास प्लान तैयार कर रहा है. इसके लिए प्रशिक्षण की जरूरत भी पड़ेगी.

गाय के गोबर से पेंट बनाने की फैक्ट्री कैसे खोलें, कहां मिलेगा प्रशिक्षण, कितना आएगा खर्च और कैसे होगी कमाई?
सांकेतिक तस्‍वीर

भारतीय परंपरा में किसी भी शुभ कार्य में, पर्व-त्यौहार में या अन्य विशेष मौकों पर मिट्टी के घर को गोबर (Cow Dung) से लीपने की परंपरा रही है. हालांकि पक्के मकानों में यह परंपरा फर्श धुलने और पेंट कराने के तौर पर बदल गई. लेकिन गोबर से तैयार होने वाले पेंट (Paint from cow dung) में दोनों समाहित हैं. यानी पक्के मकान को गोबर से लीप नहीं सकते, लेकिन गोबर से तैयार पेंट (Cow Dung Paint) से रंगाई-पुताई तो करवा ही सकते हैं. इसे लोग पुरानी परंपरा और बदलाव का मिश्रण भी कह रहे हैं.

केंद्रीय सूक्ष्म, लघु एवं मध्यम उद्योग मंत्री नितिन गडकरी (Nitin Gadkari) ने 12 जनवरी को खादी एवं ग्रामोद्योग आयोग की ओर से गोबर से तैयार होने वाले पेंट को लॉन्च किया था. केंद्रीय मंत्री के मुताबिक, कुछ ही दिनों में इसकी मांग बाजार में तेजी से बढ़ रही है. इसी मांग को देखते हुए नितिन गडकरी ने हर गांव में इससे रोजगार के अवसर बढ़ाने का सपना देखा है. उनका यह सपना साकार हुआ तो देश के लाखों गांवों में गोबर से पेंट बनाने की फैक्ट्री खोली जा सकेगी.

गोबर से मोटी कमाई का जरिया बनेगी फैक्ट्री

ग्रामोद्योग आयोग के मुताबिक, सिर्फ एक मवेशी के गोबर से किसान हर साल 30 हजार रुपए की कमाई कर सकता है. गांव के किसानों और गौ पालकों के लिए इससे अच्छी खबर क्या हो सकती है! पहले गोबर का प्रयोग वे केवल खाद तैयार करने के लिए करते थे. खेती—किसानी या बागवानी के लिए इस्तेमाल होने लायक गोबर के बाद बचे गोबर से महिलाएं गोइठा और उपले तैयार करती थीं. लेकिन इससे अच्छी कमाई नहीं हो पाती थी. कुछ किसान या गांव के लोग मिलकर गोबर से पेंट बनाने की फैक्ट्री लगा लेंगे तो इससे मोटी कमाई होगी.

कैसे खोलें फैक्ट्री, कितना आएगा खर्च?

केंद्रीय एमएसएमई मंत्री नितिन गडकरी गोबर से पेंट बनाने की फैक्ट्री खुलवाने की तैयारी में जुटे हुए हैं. इसके लिए सूक्ष्म, लघु एवं मध्यम मंत्रालय खास प्लान तैयार कर रहा है. इसके लिए प्रशिक्षण की जरूरत भी पड़ेगी. गोबर से पेंट बनाने के लिए एक फैक्ट्री (cow dung Paint making factory) खोलने में करीब 15 लाख रुपये का खर्च आ सकता है. मंत्रालय का मानना है कि केंद्रीय मंत्री का यह सपना साकार हुआ तो गांव में ही रोजगार के अवसर पैदा होंगे और गांवों से शहरों की ओर पलायन रुकेगा.

कहां और कैसे मिलेगा प्रशिक्षण?

केंद्रीय मंत्री गडकरी के मुताबिक, गोबर से बना यह अनोखा प्राकृतिक पेंट लॉन्च होने के बाद से मार्केट डिमांड में है. आईएएनएस की रिपोर्ट के मुताबिक, केंद्रीय मंत्री गडकरी ने पिछले साल मार्च में ही गोबर से पेंट बनाने के लिए खादी एवं ग्रामोद्योग आयोग को प्रेरित किया था. आखिरकार, राजस्थान की राजधानी जयपुर स्थित खादी एवं ग्रामोद्योग आयोग (केवीआईसी) की यूनिट कुमारप्पा नेशनल हैंडमेड पेपर इंस्टीट्यूट ने इस तरह के अनोखे पेंट को तैयार करने में सफलता हासिल की. जयपुर स्थित इस यूनिट ने इसके लिए एक फैक्ट्री सह प्रशिक्षण केंद्र भी बनाया. यहां लोगों को प्रशिक्षण दिया जाता है.

कितने दिनों की होती है ट्रेनिंग?

गोबर से पेंट बनाने की ट्रेनिंग की डिमांड भी खूब है. फिलहाल खादी एवं ग्रामोद्योग आयोग की जयपुर यूनिट में अभी ट्रेनिंग की व्यवस्था है. यह ट्रेनिंग पांच से सात दिनों की ट्रेनिंग होती है. केंद्रीय मंत्री के मुताबिक, ट्रेनिंग के लिए इतने ज्यादा आवेदन आए कि सबकी ट्रेनिंग नहीं हो पा रही है. फिलहाल 350 से ज्यादा लोग वेटिंग लिस्ट में हैं. ऐसे में मंत्रालय ट्रेनिंग सुविधा बढ़ाने पर ध्यान दे रहे हैं. ताकि ज्यादा से ज्यादा लोग ट्रेनिंग प्राप्त कर गोबर से पेंट बनाने की फैक्ट्री खोल पाएं.

ईकोफ्रेंडली और गंधहीन है पेंट, फफूंद भी नहीं लगती

खादी एवं ग्रामोद्योग आयोग द्वारा गोबर से बना प्राकृतिक पेंट ईकोफ्रेंडली है. यह पहला ऐसा पेंट है, जो विष-रहित होने के साथ जीवाणु-रोधी और फफूंद-रोधी गुणों से भरपूर है. गाय के गोबर से तैयार यह पेंट गंधहीन है. इसे भारतीय मानक ब्यूरो ने प्रमाणित किया है. यह पेंट फिलहाल दो रूपों- डिस्टेंपर और प्लास्टिक इम्यूलेशन पेंट में उपलब्ध है. इस पेंट में सीसा, पारा, क्रोमियम, आर्सेनिक, कैडमियम जैसे भारी धातुओं का असर नहीं है

Comments

  1. बिहार के लोग कैसे आवेदन करें।

    ReplyDelete
  2. Please guide to me training in paint manufacturer

    ReplyDelete
  3. Hum cow dung paint ki training lena chhahte hai.

    ReplyDelete

Post a Comment

Popular posts from this blog

मकर संक्रांति 2021 तिथि, शुभ मुहूर्त | मकर संक्रांति क्यों मनाई जाती है?

मकर संक्रांति मकर संक्रांति  का भारतीय धार्मिक परम्परा में विशेष महत्व है, क्योंकि इस दिन सूर्य धनु राशि को छोड़ कर मकर राशि में प्रवेश कर उत्तरायण में आता है। शास्त्रों के अनुसार यह सकारात्मक ऊर्जा का प्रतीक है और इसीलिए इस दिन जप, तप, दान, स्नान का विशेष महत्व है।  मकर संक्रांति  परंपरागत रूप से 14 जनवरी या 15 जनवरी को मनाई जाती आ रही है।  मकर संक्रांति  में ‘मकर’ शब्द मकर राशि को इंगित करता है जबकि ‘संक्रांति’ का अर्थ संक्रमण अर्थात प्रवेश करना है।  मकर संक्रांति  के दिन सूर्य धनु राशि से मकर राशि में प्रवेश करता है। एक राशि को छोड़कर दूसरे में प्रवेश करने की इस विस्थापन क्रिया को संक्रांति कहते हैं। शास्त्रों के नियम के अनुसार रात में संक्रांति होने पर अगले दिन भी संक्रांति मनाई जाती है। मकर संक्रांति  के दिन सूर्य दक्षिणायन से अपनी दिशा बदलकर उत्तरायण हो जाता है अर्थात सूर्य उत्तर दिशा की ओर बढ़ने लगता है, जिससे दिन की लंबाई बढ़नी और रात की लंबाई छोटी होनी शुरू हो जाती है। भारत में इस दिन से बसंत ऋतु की शुरुआत मानी जाती है। अत:  मकर संक्रांति  को उत्तरायण के नाम से भी जाना जाता है। तम

रफत वारसी भाजपा अल्पसंख्यक मोर्चा प्रदेश अध्यक्ष बनाये गए

मध्य प्रदेश भाजपा अल्पसंख्यक मोर्चे की जवाबदारी प्रदेश के  युवा व वरिष्ठ नेता श्री रफत वारसी के हाथों में  मध्य प्रदेश भाजपा प्रदेश अध्यक्ष श्री विष्णु दत्त शर्मा ने मध्य प्रदेश के भाजपा संगठन का विस्तार किया है जिसमें मोर्चे के नए प्रदेश अध्यक्षों की भी नियुक्ति की गई है जिसमें मध्य प्रदेश के वरिष्ठ व युवा नेता श्री रफत वारसी को भाजपा अल्पसंख्यक मोर्चा का प्रदेश अध्यक्ष बनाकर भाजपा अल्पसंख्यक मोर्चा की जवाबदारी सौंपी गई है श्री रफत वारसी मध्यप्रदेश में एक उभरते हुए अल्पसंख्यक चेहरे है और भाजपा आलाकमान ने नए चेहरे के रूप में श्री वारसी साहब को यह नई जवाबदारी सौंपी है जिससे मध्य प्रदेश में भाजपा अल्पसंख्यक मोर्चा और मजबूत होने की संभावना बढ़ गई है वर्तमान में भाजपा अल्पसंख्यक मोर्चा में नई और युवा पीढ़ी के लोग अधिकतर काम कर रहे हैं और वारसी साहब के प्रदेश अध्यक्ष बनाए जाने से इसमें और अधिक वृद्धि होगी क्योंकि नए प्रदेश अध्यक्ष श्री वारसी साहब मध्यप्रदेश में अल्पसंख्यक समाज में अपनी गहरी पैठ रखते हैं उनके प्रदेश अध्यक्ष बनाए जाने से भारतीय जनता पार्टी अल्पसंख्यक मोर्चा बेहतर

शहीद हसमत वारसी जी के सुपुत्र रफत वारसी को मिला प्रदेश में महत्वपूर्ण पद

    शहीद हसमत वारसी जी  के सुपुत्र रफत वारसी को मिला प्रदेश में महत्वपूर्ण  पद          वी डी शर्मा जी ने गले लगा कर दी बधाई      मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान जी से आशीर्वाद लेते हुए       वी डी  शर्मा जी भाजपा प्रदेश अध्यक्ष  ने दिया आशीर्वाद          अपनी माँ परवीन वारसी जी से दुआयें  लेते हुए रफत वारसी ने किया पदभार ग्रहण 17 जनवरी 2021 को भाजपा अल्पसंख्यक मोर्चा के नव नियुक्त प्रदेश अध्यक्ष रफत वारसी ने किया पदभार ग्रहण रफत वारसी ने कहा मुस्लिम समाज में कई तरह के भ्रम हैँ जिन्हे दूर करने के लिए एक दल के साथ पुरे प्रदेश का भ्रमण करेंगे ! साथ ही उन्होंने पदभार ग्रहण में आये हुए  सभी  साथियों का तहे दिल से शुक्रिया  अदा किआ 

SHOP WITH US Apparel & Accessories