मप्र में मंत्रिमंडल विस्तार / भाजपा संगठन का नए चेहरों पर जोर, आज स्थिति साफ होगी; मंत्रिमंडल विस्तार शाम को या बुधवार को संभव


  • दिल्ली में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मुलाकात करने के लिए मुख्यमंत्री शिवराज सिंह उनके आवास पहुंचे। - फाइल फोटोदिल्ली में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मुलाकात करने के लिए मुख्यमंत्री शिवराज सिंह उनके आवास पहुंचे। - फाइल फोटो

  • दिल्ली में देर रात तक मंथन: मोदी, शाह, नड्डा से मिले मुख्यमंत्री शिवराज, कुछ मसलों पर सहमति
  • आधे घंटे चली मुलाकात में सीएम ने पीएम मोदी को ‘उम्मीद’ और ‘मध्यप्रदेश विकास के लिए प्रतिबद्ध प्रयास’ भेंट कीं

सूत्रों का कहना है कि पार्टी संगठन ने नए चेहरों को शामिल करने पर जोर दिया है। मंत्रिमंडल विस्तार पर मंगलवार सुबह स्थिति साफ हो जाएगी। इसके बाद शाम को या बुधवार को विस्तार हो सकता है। सूत्रों की मानें तो इस संभावना पर भी विचार हुआ है कि फिर 10 से 12 लोगों का छोटा मंत्रिमंडल विस्तार किया जाए। बाकी पद दूसरे मंत्रिमंडल विस्तार से भरे जाएं।

इससे पहले शिवराज ने ज्योतिरादित्य सिंधिया और नरेंद्र सिंह तोमर से भी मुलाकात की। देर शाम नरोत्तम मिश्रा भी दिल्ली पहुंचे और बैठकों में शामिल हुए। मुख्यमंत्री शिवराज समेत मप्र के नेताओं के मंगलवार की सुबह भोपाल आने के संकेत हैं। मप्र की प्रभारी राज्यपाल आनंदी बेन पटेल के आने का कार्यक्रम सोमवार देर रात तक जारी नहीं किया गया।

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने दिल्ली में ज्योतिरादित्य सिंधिया से मुलाकात की। यहां सिंधिया ने सीएम रिलीफ फंड में 30 लाख का चेक सौंपा।

शिवराज खेमे के वरिष्ठ नेताओं को इस बार भी ड्रॉप करने और नए चेहरों को मौका देने की उलझन

  • सूत्रों की मानें तो प्रदेश संगठन शिवराज के पिछले कार्यकालों में मंत्री रहे सीनियर नेताओं को ड्रॉप कर नए चेहरों को मौका देना चाहता है, लेकिन मुख्यमंत्री चाहते हैं कि यह निर्णय बाद में लिया जाए।  सिंधिया समर्थकों में से सभी बड़े नेताओं को मंत्री बनाया जाता है तो भाजपा के पास पद कम बचेंगे। संगठन चाहता है कि एक-दो लोगों को रोककर उन्हें उपचुनाव के बाद मंत्री बनाया जाए। 
  • ये उन 6 लोगों के अलावा हैं जो कमलनाथ सरकार में मंत्री रहे। मसलन कांग्रेस से भाजपा में सिंधिया समर्थक ओपीएस भदौरिया, राज्यवर्धन सिंह दत्तीगांव और रणवीर जाटव भी दावेदार हैं। इन्हीं में से एक-दो लोगों को कम करने पर बात हो रही है, क्योंकि एंदल सिंह कंसाना, बिसाहूलाल सिंह और हरदीप डंग को मंत्री बनाना पहले ही तय हो चुका है। बताया जा रहा है कि कुछ विभागों पर देर रात नड्‌डा ने सहमति दे दी।

मोदी से उनके आवास पर मिलने गए थे शिवराज
शिवराज ने दिन में प्रधानमंत्री मोदी से उनके आवास 7 लोक कल्याण मार्ग में मुलाकात की। मार्च 2020 में मुख्यमंत्री बनने के बाद यह उनकी प्रधानमंत्री से पहली मुलाकात थी। इस दौरान मुख्यमंत्री ने प्रधानमंत्री को कोविड-19 के दौरान प्रदेश में वैश्विक महामारी से निपटने के लिए किए गए प्रयासों और उससे जुड़ी समस्याओं के बारे में बताया। साथ ही दो पुस्तकें ‘उम्मीद’ और ‘मध्यप्रदेश विकास के लिए प्रतिबद्ध प्रयास’ भेंट की।

Comments

Popular posts from this blog

India-China Face Off: भारत-चीन के बीच हुआ युद्ध, तो जानें किसकी मिसाइल है ज्यादा कारगर?

मकर संक्रांति 2021 तिथि, शुभ मुहूर्त | मकर संक्रांति क्यों मनाई जाती है?

बड़ी ख़बर। महाराजपुरा पुलिस को मिली बड़ी सफलता