Skip to main content

घटेगा भाजपा में दिग्गजों का कद कांग्रेस को करना होगा रिफॉर्म 4 अंचल में सबसे ज्यादा उलटफेर



पूर्व केंद्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया के कांग्रेस छोड़कर भाजपा में जाने से प्रदेश के सियासी समीकरण उलट-पुलट हो गए हैं सिंधिया के सामने भाजपा में दिग्गजों के कद विशाल बौने साबित होंगे तो दूसरी ओर कांग्रेश अनेक जिलों में लगभग खाली हो जाएगी अब कांग्रेस को इन खेलों में संगठन पूरी तरह भी रीफॉर्म करना होगा
  •  



शिवराज सिंह चौहान पूर्व सीएम शिवराज सिंह चौहान प्रदेश में सबसे बड़ा चेहरा है सिंधिया के चेहरे के आने से प्रदेश में दूसरा बड़ा चेहरा खड़ा हो गया है दरअसल शिवराज की तरह सिंधिया भी जनता में लोकप्रिय हैं पिछले चुनाव में भी भाजपा ने नारा दिया था कि माफ करो महाराज हमारा नेता शिवराज लेकिन अब इस नारे के मायने ही बदल गए
नरेंद्र सिंह तोमर ग्वालियर संभाग के दिग्गज नेता व केंद्रीय मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर के सामने सिंधिया बड़ी चुनौती बनकर रहेंगे तो हमारा भी अंचल के सबसे बड़े नेता है भाजपा की ओर से मुख्यमंत्री पद की दावेदारी से लेकर अन्य सभी मामलों में तोमर का नाम आगे रहता है लेकिन सिंधिया के आने के बाद समीकरण बदलेंगे तोमर का कद कम हो सकता है


प्रभात झा भाजपा उपाध्यक्ष प्रभात झा ने हमेशा सिंधिया को घेरने के लिए प्रयास किए इसके लिए फिर बाद में सिंधिया पर भ्रष्टाचार के आरोप लगाने से लेकर सियासी हमले तक की है लेकिन सिंधिया ने कभी भी कृपा जा को अपने कद का नेता नहीं माना और जवाब तक नहीं दिए सिंधिया में सपरिवार को अपने पूर्वजों का क्रम अधिकार मानते आए हैं अब झा  का कद छोटा हो जाएगा

यशोधरा राजे सिंधिया भाजपा नेता व पूर्व मंत्री यशोधरा राजे सिंधिया के पद पर भी सिंधिया की एंट्री का असर पड़ेगा यशोधरा उनकी दुआएं यशोधरा ने जोती रादित्य फैसले का स्वागत भी किया है लेकिन आगे चलकर ग्वालियर चंबल में सिंधिया घराने में पहला नाम ज्योतिरादित्य हो जाएंगे इसका यशोधरा की राजनीतिक रसूख से लेकर पार्टी का महत्व तक पर असर पड़ेगा शिवराज के कार्यकाल में भी यशोधरा लूप लाइन में रही है

नरोत्तम मिश्रा पूर्व मंत्री और मौजूदा विधायक नरोत्तम मिश्रा का कद पिछले कुछ सालों में बेहद तेजी से बढ़ाएं इसके चलते नरेंद्र सिंह तोमर के बाद नरोत्तम दूसरे नंबर की ग्वालियर चंबल के नेता के तौर पर एक घड़ी में माने जाने लगे थे लेकिन सिंधिया की भाजपा में एंट्री नरोत्तम के बढ़ते कद बाकी में पर अंकुश लगा सकता है सिंधिया ग्वालियर चंबल और प्रदेश की सियासत के सबसे बड़ी चेहरे हो जाएंगे

जवान सिंह पवैया पूर्व मंत्री जयभान सिंह पवैया की राजनीति ज्योतिरादित्य के विरोध पर ही टिकी रही है पहले माधवराव का विरोध किया फिर उनकी मृत्यु के बाद ज्योतिरादित्य का खुलेआम विरोध किया सियासत में सिंधिया को लेकर सबसे कड़वे बोल और विरोध जयभान ने ही किया जबकि ज्योतिरादित्य ने रिस्पांस नहीं दिया अब ज्योतिरादित्य भाजपा में आने की स्थिति में चयन के लिए अस्तित्व का संकट हो जाएगा

Comments

Popular posts from this blog

मकर संक्रांति 2021 तिथि, शुभ मुहूर्त | मकर संक्रांति क्यों मनाई जाती है?

मकर संक्रांति मकर संक्रांति  का भारतीय धार्मिक परम्परा में विशेष महत्व है, क्योंकि इस दिन सूर्य धनु राशि को छोड़ कर मकर राशि में प्रवेश कर उत्तरायण में आता है। शास्त्रों के अनुसार यह सकारात्मक ऊर्जा का प्रतीक है और इसीलिए इस दिन जप, तप, दान, स्नान का विशेष महत्व है।  मकर संक्रांति  परंपरागत रूप से 14 जनवरी या 15 जनवरी को मनाई जाती आ रही है।  मकर संक्रांति  में ‘मकर’ शब्द मकर राशि को इंगित करता है जबकि ‘संक्रांति’ का अर्थ संक्रमण अर्थात प्रवेश करना है।  मकर संक्रांति  के दिन सूर्य धनु राशि से मकर राशि में प्रवेश करता है। एक राशि को छोड़कर दूसरे में प्रवेश करने की इस विस्थापन क्रिया को संक्रांति कहते हैं। शास्त्रों के नियम के अनुसार रात में संक्रांति होने पर अगले दिन भी संक्रांति मनाई जाती है। मकर संक्रांति  के दिन सूर्य दक्षिणायन से अपनी दिशा बदलकर उत्तरायण हो जाता है अर्थात सूर्य उत्तर दिशा की ओर बढ़ने लगता है, जिससे दिन की लंबाई बढ़नी और रात की लंबाई छोटी होनी शुरू हो जाती है। भारत में इस दिन से बसंत ऋतु की शुरुआत मानी जाती है। अत:  मकर संक्रांति  को उत्तरायण के नाम से भी जाना जाता है। तम

रफत वारसी भाजपा अल्पसंख्यक मोर्चा प्रदेश अध्यक्ष बनाये गए

मध्य प्रदेश भाजपा अल्पसंख्यक मोर्चे की जवाबदारी प्रदेश के  युवा व वरिष्ठ नेता श्री रफत वारसी के हाथों में  मध्य प्रदेश भाजपा प्रदेश अध्यक्ष श्री विष्णु दत्त शर्मा ने मध्य प्रदेश के भाजपा संगठन का विस्तार किया है जिसमें मोर्चे के नए प्रदेश अध्यक्षों की भी नियुक्ति की गई है जिसमें मध्य प्रदेश के वरिष्ठ व युवा नेता श्री रफत वारसी को भाजपा अल्पसंख्यक मोर्चा का प्रदेश अध्यक्ष बनाकर भाजपा अल्पसंख्यक मोर्चा की जवाबदारी सौंपी गई है श्री रफत वारसी मध्यप्रदेश में एक उभरते हुए अल्पसंख्यक चेहरे है और भाजपा आलाकमान ने नए चेहरे के रूप में श्री वारसी साहब को यह नई जवाबदारी सौंपी है जिससे मध्य प्रदेश में भाजपा अल्पसंख्यक मोर्चा और मजबूत होने की संभावना बढ़ गई है वर्तमान में भाजपा अल्पसंख्यक मोर्चा में नई और युवा पीढ़ी के लोग अधिकतर काम कर रहे हैं और वारसी साहब के प्रदेश अध्यक्ष बनाए जाने से इसमें और अधिक वृद्धि होगी क्योंकि नए प्रदेश अध्यक्ष श्री वारसी साहब मध्यप्रदेश में अल्पसंख्यक समाज में अपनी गहरी पैठ रखते हैं उनके प्रदेश अध्यक्ष बनाए जाने से भारतीय जनता पार्टी अल्पसंख्यक मोर्चा बेहतर

शहीद हसमत वारसी जी के सुपुत्र रफत वारसी को मिला प्रदेश में महत्वपूर्ण पद

    शहीद हसमत वारसी जी  के सुपुत्र रफत वारसी को मिला प्रदेश में महत्वपूर्ण  पद          वी डी शर्मा जी ने गले लगा कर दी बधाई      मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान जी से आशीर्वाद लेते हुए       वी डी  शर्मा जी भाजपा प्रदेश अध्यक्ष  ने दिया आशीर्वाद          अपनी माँ परवीन वारसी जी से दुआयें  लेते हुए रफत वारसी ने किया पदभार ग्रहण 17 जनवरी 2021 को भाजपा अल्पसंख्यक मोर्चा के नव नियुक्त प्रदेश अध्यक्ष रफत वारसी ने किया पदभार ग्रहण रफत वारसी ने कहा मुस्लिम समाज में कई तरह के भ्रम हैँ जिन्हे दूर करने के लिए एक दल के साथ पुरे प्रदेश का भ्रमण करेंगे ! साथ ही उन्होंने पदभार ग्रहण में आये हुए  सभी  साथियों का तहे दिल से शुक्रिया  अदा किआ 

SHOP WITH US Apparel & Accessories