Skip to main content

Nirbhaya Case: फिर टल सकती है दोषियों की फांसी! दोषी अक्षय ने फिर दायर की दया याचिका


|
Feb, 29 2020 04:47:34 (IST)
  • निर्भया मामले ( Nirbhaya Gang Rape Case ) में दोषी अक्षय ठाकुर की याचिका पहले भी खारिज हो चुकी है
  • तीन मार्च को चारों दोषियों के लिए फांसी की तारीख मुकरर्र की गई है
नई दिल्ली। देश को हिला कर रख देने वाले निर्भया गैंगरेप ( Nirbhaya Gang Rape Case ) और हत्या मामले के दोषियों में से एक अक्षय ठाकुर ( Convict Akshya Thakur ) ने तीन मार्च को होने वाली फांस को टालने के लिए एक बार फिर से नया पैंतरा अपनाया है।
हालांकि अक्षक ठाकुर के सभी कानूनी विक्लप खत्म हो चुके हैं, इसके बावजूद भी उसने एक दया याचिका ( Mercy Petition ) दायर की है। अक्षय ने दया याचिका में सुधार कर राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ( President Ramnath Kovind ) के पास भेजा है, जिसमें कहा गया है कि पहले जिस याचिका को खारिज किया गया था उसमें सभी तथ्य नहीं थे।
पहले खारिज हो चुकी है याचिका
आपको बता दें कि इससे पहले अक्षय ने एक बार राष्ट्रपति के पास दया याचिका दायर की थी, जिसे राष्ट्रपति ने खारिज कर दिया था। अक्षय के वकील का दावा है कि पिछली बार जो याचिका अक्षय के माता-पिता ने दायर की थी उसमें सभी तथ्य शामिल नहीं किए गए थे, यानी कि पूरे पेपर नहीं थे।
इसलिए अधूरी याचिका होने की वजह से राष्ट्रपति इस केस के सभी पहलुओं से वाकिफ नहीं पाए थे। ऐसे में अब एक बार फिर से पूरे तथ्य और सभी पेपर के साथ दया याचिका लगाई गई है। आपको बता दें कि अक्षय के वकील एपी सिंह ने ये बातें कही थी। फिलहाल अब ये देखना जरूरी है कि इस दया याचिका पर राष्ट्रपति क्या फैसला लेते हैं।
दो बार टल चुकी है फांसी
आपको बता दें कि 3 मार्च को फांसी होने वाली है। उससे पहले एक बार फिर से दोषियों ने बचने के लिए एक-एक करके सभी विकल्पों को आजमाना शुरू कर दिया है। यही कारण है कि इससे पहले सभी तरह के कानूनी प्रावधानों का इस्तेमाल करते हुए दोषियों के वकील अब तक दो बार फांसी टलवा चुके हैं।
पहली बार दोषियों को फांसी 22 जनवरी को होनी थी, लेकिन इसे टाल दिया गया और 1 फरवरी नई तारीख मुकर्रर की गई। लेकिन इसके बाद फिर से इसे टाला गया और तीसरी बार 3 मार्च की तारीख तय की गई। हालांकि अब एक बार फिर से फांसी से ऐन पहले दया याचिका दायर कर तारीख को टालने की कोशिश की गई है। हालांकि यह राष्ट्रपति के फैसले पर निर्भर करेगा।
पवन की याचिका पर सोमवार को होगी सुनवाई
आपको बता दें कि इससे पहले शुक्रवार को निर्भया के दोषी पवन कुमार ने फांसी से बचने के लिए सुप्रीम कोर्ट में क्यूरेटिव पिटीशन दायर की। पवन ने क्यूरेटिव पिटीशन में मौत की सजा को आजीवन कारावास में बदलने की मांग की।
दोषी पवन कुमार के वकील ए.पी. सिंह ने दलील दी कि अपराध के समय पवन कुमार नाबालिग था, इसलिए उसे मौत की सजा नहीं दी जानी चाहिए। अब इस मामले पर सुप्री कोर्ट सोमवार को सुनवाई करेगा।
मालूम हो कि निर्भया के दोषियों को तीन मार्च सुबह 6 बजे फांसी होनी है, इसके लिए कोर्ट डेथ वारंट जारी कर चुका है। पटियाला हाउस कोर्ट के अतिरिक्त सत्र न्यायाधीश धर्मेंद्र राणा ने नया डेथ वारंट जारी किया था।

Comments

Popular posts from this blog

मकर संक्रांति 2021 तिथि, शुभ मुहूर्त | मकर संक्रांति क्यों मनाई जाती है?

मकर संक्रांति मकर संक्रांति  का भारतीय धार्मिक परम्परा में विशेष महत्व है, क्योंकि इस दिन सूर्य धनु राशि को छोड़ कर मकर राशि में प्रवेश कर उत्तरायण में आता है। शास्त्रों के अनुसार यह सकारात्मक ऊर्जा का प्रतीक है और इसीलिए इस दिन जप, तप, दान, स्नान का विशेष महत्व है।  मकर संक्रांति  परंपरागत रूप से 14 जनवरी या 15 जनवरी को मनाई जाती आ रही है।  मकर संक्रांति  में ‘मकर’ शब्द मकर राशि को इंगित करता है जबकि ‘संक्रांति’ का अर्थ संक्रमण अर्थात प्रवेश करना है।  मकर संक्रांति  के दिन सूर्य धनु राशि से मकर राशि में प्रवेश करता है। एक राशि को छोड़कर दूसरे में प्रवेश करने की इस विस्थापन क्रिया को संक्रांति कहते हैं। शास्त्रों के नियम के अनुसार रात में संक्रांति होने पर अगले दिन भी संक्रांति मनाई जाती है। मकर संक्रांति  के दिन सूर्य दक्षिणायन से अपनी दिशा बदलकर उत्तरायण हो जाता है अर्थात सूर्य उत्तर दिशा की ओर बढ़ने लगता है, जिससे दिन की लंबाई बढ़नी और रात की लंबाई छोटी होनी शुरू हो जाती है। भारत में इस दिन से बसंत ऋतु की शुरुआत मानी जाती है। अत:  मकर संक्रांति  को उत्तरायण के नाम से भी जाना जाता है। तम

रफत वारसी भाजपा अल्पसंख्यक मोर्चा प्रदेश अध्यक्ष बनाये गए

मध्य प्रदेश भाजपा अल्पसंख्यक मोर्चे की जवाबदारी प्रदेश के  युवा व वरिष्ठ नेता श्री रफत वारसी के हाथों में  मध्य प्रदेश भाजपा प्रदेश अध्यक्ष श्री विष्णु दत्त शर्मा ने मध्य प्रदेश के भाजपा संगठन का विस्तार किया है जिसमें मोर्चे के नए प्रदेश अध्यक्षों की भी नियुक्ति की गई है जिसमें मध्य प्रदेश के वरिष्ठ व युवा नेता श्री रफत वारसी को भाजपा अल्पसंख्यक मोर्चा का प्रदेश अध्यक्ष बनाकर भाजपा अल्पसंख्यक मोर्चा की जवाबदारी सौंपी गई है श्री रफत वारसी मध्यप्रदेश में एक उभरते हुए अल्पसंख्यक चेहरे है और भाजपा आलाकमान ने नए चेहरे के रूप में श्री वारसी साहब को यह नई जवाबदारी सौंपी है जिससे मध्य प्रदेश में भाजपा अल्पसंख्यक मोर्चा और मजबूत होने की संभावना बढ़ गई है वर्तमान में भाजपा अल्पसंख्यक मोर्चा में नई और युवा पीढ़ी के लोग अधिकतर काम कर रहे हैं और वारसी साहब के प्रदेश अध्यक्ष बनाए जाने से इसमें और अधिक वृद्धि होगी क्योंकि नए प्रदेश अध्यक्ष श्री वारसी साहब मध्यप्रदेश में अल्पसंख्यक समाज में अपनी गहरी पैठ रखते हैं उनके प्रदेश अध्यक्ष बनाए जाने से भारतीय जनता पार्टी अल्पसंख्यक मोर्चा बेहतर

शहीद हसमत वारसी जी के सुपुत्र रफत वारसी को मिला प्रदेश में महत्वपूर्ण पद

    शहीद हसमत वारसी जी  के सुपुत्र रफत वारसी को मिला प्रदेश में महत्वपूर्ण  पद          वी डी शर्मा जी ने गले लगा कर दी बधाई      मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान जी से आशीर्वाद लेते हुए       वी डी  शर्मा जी भाजपा प्रदेश अध्यक्ष  ने दिया आशीर्वाद          अपनी माँ परवीन वारसी जी से दुआयें  लेते हुए रफत वारसी ने किया पदभार ग्रहण 17 जनवरी 2021 को भाजपा अल्पसंख्यक मोर्चा के नव नियुक्त प्रदेश अध्यक्ष रफत वारसी ने किया पदभार ग्रहण रफत वारसी ने कहा मुस्लिम समाज में कई तरह के भ्रम हैँ जिन्हे दूर करने के लिए एक दल के साथ पुरे प्रदेश का भ्रमण करेंगे ! साथ ही उन्होंने पदभार ग्रहण में आये हुए  सभी  साथियों का तहे दिल से शुक्रिया  अदा किआ 

SHOP WITH US Apparel & Accessories