Skip to main content

पुलवामा CRPF हमला: बुखार में भी कमांडर नसीर अहमद जाने से नहीं माने थे


इमेज कॉपीी

जम्मू में राजौरी के थान्नामंदी तहसील के दोदासन बाला गाँव के रहने वाले नसीर अहमद अपना जन्मदिन मनाने के एक दिन बाद पुलवामा में हुए चरमपंथी हमले में मारे गए.


13 फ़रवरी को नसीर ने अपना 46वां जन्मदिन मनाया था.

नसीर अहमद सीआरपीएफ़ की 76वीं वाहिनी में थे. चरमपंथियों ने जम्मू-श्रीनगर राष्ट्रीय राजमार्ग पर सीआरपीएफ़ के काफ़िले की जिस बस को निशाना बनाया था, नसीर अहमद उसके कमांडर के तौर पर तैनात किए गए थे.

उस दिन नसीर की तबीयत ठीक नहीं थी, उन्हें बुखार था.

इमेज कॉपीरइट

उनके बड़े भाई ने फ़ोन पर उनसे लीव पर चले जाने के लिए भी कहा था ताकि वो थोड़ा आराम कर सकें. लेकिन नसीर ने अपने फ़र्ज़ को निभाना ठीक समझा और कश्मीर घाटी जाने के लिए हामी भर दी.


उन्हें क्या पता था यह सफ़र उनकी जिंदगी का आखिरी सफ़र साबित होने वाला था.

बच्चों को नहीं पता कि पिता नहीं रहे

नसीर अहमद के मारे जाने की ख़बर सुनकर उनके घर गाँववालों का आना लगातार जारी है.

राजौरी के इस छोटे गाँव ने चरमपंथियों के ख़िलाफ़ एक लंबी लड़ाई लड़ी है. गाँव के एक युवा ज़ाहिर अब्बास ने बताया चरमपंथ के ख़िलाफ़ लड़ाई लड़ते-लड़ते इस गाँव ने कम से कम 50 लोगों ने अभी तक क़ुर्बानी दी है.

इमेज कॉपीरइट नसीर अहमद के भाई 

22 साल से सीआरपीएफ़ में नौकरी कर रहे नसीर अपने परिवार के साथ जम्मू में ही रह रहे थे. उनके बच्चे जम्मू में ही स्कूल में पढ़ाई करते हैं.

नसीर की मौत के बाद शुक्रवार को उनकी पत्नी शाज़िया कौसर और बच्चे देर शाम तक गाँव नहीं पहुंचे थे. नसीर की बड़ी बेटी फलक और बेटे काशिफ़ इस बात से बेख़बर थे कि उनके पिता अब हमेशा के लिए चले गए.


नसीर अहमद के माता-पिता का देहांत बचपन में ही हो गया था. उनके बड़े भाई सिराजुद्दीन ने उनको पाल-पोस कर बड़ा किया था. वो ख़ुद एक पुलिसकर्मी हैं.

अपने भाई को याद करते हुए सिराजुद्दीन ने बीबीसी हिंदी से कहा, "वो अपनी नौकरी करते-करते देश के नाम शहीद हो गया. अपना फ़र्ज़ पूरा कर गया."

वो कहते हैं, "मैं नहीं चाहता था कि नसीर भी वर्दी वाली नौकरी करे. लेकिन शुरू से ही उसके अन्दर देशभक्ति की भावना थी और वो सेना में भर्ती हो गया. उसने मेरी एक नहीं सुनी."

सिराजुद्दीन ने कहा कि इतनी छोटी उम्र में भाई के चले जाने से उन सब पर बहुत ज़ुल्म हुआ है.

वो कहते हैं, "मैं अब अकेला हो गया हूं. उसके छोटे-छोटे दो बच्चे हैं. उन्हें अभी पढ़ाना है, पालना है. कैसे तय होगा इतना लंबा सफ़र.''

वो कहते है, "सरकार को हिम्मत दिखानी चाहिए ताकि फिर ऐसा हादसा न हो. लोगों के घरों में आग न लगे. जवानों को बचाना चाहिए."

उनका कहना है कि सेना का काफ़िला अपने रास्ते जा रहा था. उससे किसी को कोई लेना-देना नहीं था फिर भी अचानक हमला कर के कई लोगों को मार दिया गया.

इमेज कॉपीरइटAVINASH/BBC

'सरकार कोई ठोस क़दम उठाए'

सिराजुद्दीन कहते हैं, "मेरा भाई देश के लिए क़ुर्बान हो गया है. मेरी सरकार से बस इतनी अपील है की उनके बच्चों की मदद की जाए क्योंकि वो अभी बहुत छोटे हैं."

वहीं गाँव के एक बुज़़ुर्ग निसार राही ने बीबीसी हिंदी से कहा, "आए दिन हमारे देश के नौजवान शहीद हो रहे हैं इसलिए सरकार को चाहिए कि वो इस मसले का कोई ठोस हल निकाले."

उन्होंने कहा अगर अमन होगा तो ही बातचीत के हवाले से मसले का हल निकालने के लिए पहल होगी. वो कहते हैं कि शांति के लिए दोनों देशों की हुकूमतें एक साथ कदम उठाएं और अमन के रस्ते आगे बढें ताकि दोनों देशों के लोग अमन की ज़िन्दगी जिएं.

नसीर अहमद के घर जमा हुए रिश्तेदारों का कहना है कि देश की सरकार को पाकिस्तान के ख़िलाफ़ सख्त कार्रवाई करनी चाहिए ताकि हर रोज़ देश के नौजवान शहीद न हों और इस मसले का कुछ हल निकले.

Comments

Popular posts from this blog

मकर संक्रांति 2021 तिथि, शुभ मुहूर्त | मकर संक्रांति क्यों मनाई जाती है?

मकर संक्रांति मकर संक्रांति  का भारतीय धार्मिक परम्परा में विशेष महत्व है, क्योंकि इस दिन सूर्य धनु राशि को छोड़ कर मकर राशि में प्रवेश कर उत्तरायण में आता है। शास्त्रों के अनुसार यह सकारात्मक ऊर्जा का प्रतीक है और इसीलिए इस दिन जप, तप, दान, स्नान का विशेष महत्व है।  मकर संक्रांति  परंपरागत रूप से 14 जनवरी या 15 जनवरी को मनाई जाती आ रही है।  मकर संक्रांति  में ‘मकर’ शब्द मकर राशि को इंगित करता है जबकि ‘संक्रांति’ का अर्थ संक्रमण अर्थात प्रवेश करना है।  मकर संक्रांति  के दिन सूर्य धनु राशि से मकर राशि में प्रवेश करता है। एक राशि को छोड़कर दूसरे में प्रवेश करने की इस विस्थापन क्रिया को संक्रांति कहते हैं। शास्त्रों के नियम के अनुसार रात में संक्रांति होने पर अगले दिन भी संक्रांति मनाई जाती है। मकर संक्रांति  के दिन सूर्य दक्षिणायन से अपनी दिशा बदलकर उत्तरायण हो जाता है अर्थात सूर्य उत्तर दिशा की ओर बढ़ने लगता है, जिससे दिन की लंबाई बढ़नी और रात की लंबाई छोटी होनी शुरू हो जाती है। भारत में इस दिन से बसंत ऋतु की शुरुआत मानी जाती है। अत:  मकर संक्रांति  को उत्तरायण के नाम से भी जाना जाता है। तम

रफत वारसी भाजपा अल्पसंख्यक मोर्चा प्रदेश अध्यक्ष बनाये गए

मध्य प्रदेश भाजपा अल्पसंख्यक मोर्चे की जवाबदारी प्रदेश के  युवा व वरिष्ठ नेता श्री रफत वारसी के हाथों में  मध्य प्रदेश भाजपा प्रदेश अध्यक्ष श्री विष्णु दत्त शर्मा ने मध्य प्रदेश के भाजपा संगठन का विस्तार किया है जिसमें मोर्चे के नए प्रदेश अध्यक्षों की भी नियुक्ति की गई है जिसमें मध्य प्रदेश के वरिष्ठ व युवा नेता श्री रफत वारसी को भाजपा अल्पसंख्यक मोर्चा का प्रदेश अध्यक्ष बनाकर भाजपा अल्पसंख्यक मोर्चा की जवाबदारी सौंपी गई है श्री रफत वारसी मध्यप्रदेश में एक उभरते हुए अल्पसंख्यक चेहरे है और भाजपा आलाकमान ने नए चेहरे के रूप में श्री वारसी साहब को यह नई जवाबदारी सौंपी है जिससे मध्य प्रदेश में भाजपा अल्पसंख्यक मोर्चा और मजबूत होने की संभावना बढ़ गई है वर्तमान में भाजपा अल्पसंख्यक मोर्चा में नई और युवा पीढ़ी के लोग अधिकतर काम कर रहे हैं और वारसी साहब के प्रदेश अध्यक्ष बनाए जाने से इसमें और अधिक वृद्धि होगी क्योंकि नए प्रदेश अध्यक्ष श्री वारसी साहब मध्यप्रदेश में अल्पसंख्यक समाज में अपनी गहरी पैठ रखते हैं उनके प्रदेश अध्यक्ष बनाए जाने से भारतीय जनता पार्टी अल्पसंख्यक मोर्चा बेहतर

शहीद हसमत वारसी जी के सुपुत्र रफत वारसी को मिला प्रदेश में महत्वपूर्ण पद

    शहीद हसमत वारसी जी  के सुपुत्र रफत वारसी को मिला प्रदेश में महत्वपूर्ण  पद          वी डी शर्मा जी ने गले लगा कर दी बधाई      मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान जी से आशीर्वाद लेते हुए       वी डी  शर्मा जी भाजपा प्रदेश अध्यक्ष  ने दिया आशीर्वाद          अपनी माँ परवीन वारसी जी से दुआयें  लेते हुए रफत वारसी ने किया पदभार ग्रहण 17 जनवरी 2021 को भाजपा अल्पसंख्यक मोर्चा के नव नियुक्त प्रदेश अध्यक्ष रफत वारसी ने किया पदभार ग्रहण रफत वारसी ने कहा मुस्लिम समाज में कई तरह के भ्रम हैँ जिन्हे दूर करने के लिए एक दल के साथ पुरे प्रदेश का भ्रमण करेंगे ! साथ ही उन्होंने पदभार ग्रहण में आये हुए  सभी  साथियों का तहे दिल से शुक्रिया  अदा किआ 

SHOP WITH US Apparel & Accessories