Skip to main content

मुजफ्फरपुर शेल्टर होम केस: CM नीतीश कुमार के खिलाफ होगी CBI जांच, पॉक्सो कोर्ट का आदेश


बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार एक बड़ी मुश्किल में फंस गए हैं। कोर्ट ने उनके खिलाफ सीबीआई जांच के आदेश दे दिए हैं।


नई दिल्ली। मुजफ्फरपुर गर्ल्स शेल्टर होम केस की आंच अब सूबे के मुखिया नीतीश कुमार तक पहुंच चुकी है। विशेष पॉक्सो कोर्ट ने बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के खिलाफ सीबीआई जांच के आदेश दिए हैं। कोर्ट ने सीबीआई एसपी पटना को सीएम के साथ ही समाज कल्याण प्रधान सचिव अतुल प्रसाद और तत्कालीन जिलाधिकारी धर्मेंद्र सिंह की भूमिका की जांच करने के आदेश दिए हैं। इसी मामले में गिरफ्तार एक डॉक्टर ने वकील के जरिए कोर्ट में अर्जी देकर सीएम, समाज कल्याण प्रधान सचिव और तत्कालीन डीएम के खिलाफ जांच की मांग की थी। इसमें कहा गया था कि बैगर मिलीभगत और प्रशासनिक शह के ये अपराध संभव नहीं था। अर्जी में यह भी कहा गया कि रूटीन जांच में शेल्टर होम के संचालन के मामले को अधिकारी क्लीन चिट देते रहे हैं।

नागेश्वर राव को कोर्ट ने दी थी सजा

सुप्रीम कोर्ट ने शेल्टर होम केस में 12 फरवरी को सीबीआई के पूर्व अंतरिम निदेशक एम. नागेश्वर राव को अदालत की अवमानना का दोषी करार दिया। राव ने सीबीआई का अंतरिम निदेशक रहने के दौरान कोर्ट के प्रतिबंध के बावजूद मामले की जांच कर रहे एजेंसी के अधिकारी तत्कालीन अतिरिक्त निदेशक ए.के.शर्मा का तबादलता कर दिया। कोर्ट ने इसे अदालत की अवमानना करार देते हुए नागेश्वर राव को पूरी कार्यवाही तक अदालत में ही बैठने का निर्देश दिया, इसके साथ ही एक लाख रुपए का जुर्माना लगाया।

चीफ जस्टिस ने कहा-कोई भी दोषी नहीं बचेगा

पिछले दिनों सर्वोच्च न्यायालय ने मुजफ्फरपुर केस को दिल्ली ट्रांसफर कर दिया और निचली अदालत के न्यायाधीश को रोजाना सुनवाई कर मामले को छह महीने में समाप्त करने का निर्देश दिया। मामले को ट्रांसफर करते हुए चीफ जस्टिस रंजन गोगोई ने कहा कि कोई भी दोषी नहीं बचेगा लेकिन यही मामले का अंत नहीं है। जस्टिस गोगोई की बेंच ने केस को दिल्ली ट्रांसफर किया हालांकि सीबीआई वकील ने कोर्ट से कहा कि मामले को पहले ही मुजफ्फरपुर से पटना ट्रांसफर किया जा चुका है। कोर्ट को बताया गया कि मामले में आरोपपत्र दिसंबर 2018 में दाखिल किया गया और इस मामले में 21 गवाह हैं।

क्या है पूरा मामला

बता दें कि मुंबई की टाटा इंस्टीट्यूट ऑफ सोशल साइंसेज ने बिहार की नीतीश सरकार को मुजफ्फरपुर शेल्टर होम में रह रहे लड़कियों से जुड़ी रिपोर्ट एक सौंपी थी। इसमें कहा गया था कि सरकार द्वारा संचालित मुजफ्फरपुर गर्ल्स शेल्टर होम केस में लड़कियों के साथ यौन शोषण होता था। जब शिकायत के आधार पर लड़कियों को मेडिकल हुआ तो लगभग 34 लड़कियों के साथ बलात्कर की पुष्टि हुई थी। जिसके बाद मामले की जांच सीबीआई के हाथ में सौंप दी गई। एजेंसी ने मुख्य आरोपी ब्रजेश ठाकुर को गिरफ्तार किया और केस में संलिप्त रहने की आरोपी में सामाजिक कल्याण मंत्री रही मंजू वर्मा को नीतीश सरकरा ने पद से हटा दिया।

Comments

Popular posts from this blog

मकर संक्रांति 2021 तिथि, शुभ मुहूर्त | मकर संक्रांति क्यों मनाई जाती है?

मकर संक्रांति मकर संक्रांति  का भारतीय धार्मिक परम्परा में विशेष महत्व है, क्योंकि इस दिन सूर्य धनु राशि को छोड़ कर मकर राशि में प्रवेश कर उत्तरायण में आता है। शास्त्रों के अनुसार यह सकारात्मक ऊर्जा का प्रतीक है और इसीलिए इस दिन जप, तप, दान, स्नान का विशेष महत्व है।  मकर संक्रांति  परंपरागत रूप से 14 जनवरी या 15 जनवरी को मनाई जाती आ रही है।  मकर संक्रांति  में ‘मकर’ शब्द मकर राशि को इंगित करता है जबकि ‘संक्रांति’ का अर्थ संक्रमण अर्थात प्रवेश करना है।  मकर संक्रांति  के दिन सूर्य धनु राशि से मकर राशि में प्रवेश करता है। एक राशि को छोड़कर दूसरे में प्रवेश करने की इस विस्थापन क्रिया को संक्रांति कहते हैं। शास्त्रों के नियम के अनुसार रात में संक्रांति होने पर अगले दिन भी संक्रांति मनाई जाती है। मकर संक्रांति  के दिन सूर्य दक्षिणायन से अपनी दिशा बदलकर उत्तरायण हो जाता है अर्थात सूर्य उत्तर दिशा की ओर बढ़ने लगता है, जिससे दिन की लंबाई बढ़नी और रात की लंबाई छोटी होनी शुरू हो जाती है। भारत में इस दिन से बसंत ऋतु की शुरुआत मानी जाती है। अत:  मकर संक्रांति  को उत्तरायण के नाम से भी जाना जाता है। तम

रफत वारसी भाजपा अल्पसंख्यक मोर्चा प्रदेश अध्यक्ष बनाये गए

मध्य प्रदेश भाजपा अल्पसंख्यक मोर्चे की जवाबदारी प्रदेश के  युवा व वरिष्ठ नेता श्री रफत वारसी के हाथों में  मध्य प्रदेश भाजपा प्रदेश अध्यक्ष श्री विष्णु दत्त शर्मा ने मध्य प्रदेश के भाजपा संगठन का विस्तार किया है जिसमें मोर्चे के नए प्रदेश अध्यक्षों की भी नियुक्ति की गई है जिसमें मध्य प्रदेश के वरिष्ठ व युवा नेता श्री रफत वारसी को भाजपा अल्पसंख्यक मोर्चा का प्रदेश अध्यक्ष बनाकर भाजपा अल्पसंख्यक मोर्चा की जवाबदारी सौंपी गई है श्री रफत वारसी मध्यप्रदेश में एक उभरते हुए अल्पसंख्यक चेहरे है और भाजपा आलाकमान ने नए चेहरे के रूप में श्री वारसी साहब को यह नई जवाबदारी सौंपी है जिससे मध्य प्रदेश में भाजपा अल्पसंख्यक मोर्चा और मजबूत होने की संभावना बढ़ गई है वर्तमान में भाजपा अल्पसंख्यक मोर्चा में नई और युवा पीढ़ी के लोग अधिकतर काम कर रहे हैं और वारसी साहब के प्रदेश अध्यक्ष बनाए जाने से इसमें और अधिक वृद्धि होगी क्योंकि नए प्रदेश अध्यक्ष श्री वारसी साहब मध्यप्रदेश में अल्पसंख्यक समाज में अपनी गहरी पैठ रखते हैं उनके प्रदेश अध्यक्ष बनाए जाने से भारतीय जनता पार्टी अल्पसंख्यक मोर्चा बेहतर

शहीद हसमत वारसी जी के सुपुत्र रफत वारसी को मिला प्रदेश में महत्वपूर्ण पद

    शहीद हसमत वारसी जी  के सुपुत्र रफत वारसी को मिला प्रदेश में महत्वपूर्ण  पद          वी डी शर्मा जी ने गले लगा कर दी बधाई      मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान जी से आशीर्वाद लेते हुए       वी डी  शर्मा जी भाजपा प्रदेश अध्यक्ष  ने दिया आशीर्वाद          अपनी माँ परवीन वारसी जी से दुआयें  लेते हुए रफत वारसी ने किया पदभार ग्रहण 17 जनवरी 2021 को भाजपा अल्पसंख्यक मोर्चा के नव नियुक्त प्रदेश अध्यक्ष रफत वारसी ने किया पदभार ग्रहण रफत वारसी ने कहा मुस्लिम समाज में कई तरह के भ्रम हैँ जिन्हे दूर करने के लिए एक दल के साथ पुरे प्रदेश का भ्रमण करेंगे ! साथ ही उन्होंने पदभार ग्रहण में आये हुए  सभी  साथियों का तहे दिल से शुक्रिया  अदा किआ 

SHOP WITH US Apparel & Accessories