Skip to main content

हिमाचल के गुलशन अहमद बोले, ‘‘मुझे मानव बम बनाकर भेज दो पाकिस्तान, 100 को मारूंगा….’’



“जमाने में मिलते हैं लाखो आशिक़,  मगर वतन से खूबसूरत कोई सनम नहीं होता

नोटों में लिपट कर, सोने में सिमट मर गए कई…मगर तिरंगे से खूबसूरत कोई कफन नहीं होता”

पुलवामा आतंकी हमले से पूरे देश का खून खौल रहा है। पाकिस्तान को अंदर घुस कर सबक सिखाने की सलाह टीवी के अलावा सोशल मीडिया पर जमकर दी जा रही है। इस बीच शहर के एक नौजवान गुलशन अहमद ने सरकार को ऐसी कोई सलाह नहीं दी है, बल्कि खुद मानव बम बनकर पाकिस्तान में घुसने की पेशकश की है। साथ ही कहा है कि यह सरकार तय करे कि उन्हें ट्रेनिंग देने के बाद इसे कहां अंजाम देना है। बेहद गुस्साए मुस्लिम युवक गुलशन अहमद ने मानव बम की पेशकश को लेकर फेसबुक पर अपना स्टेटस अपडेट किया। 
इसके बाद एमबीएम न्यूज नेटवर्क ने देशभक्ति के जज्बे में ओत-प्रोत नौजवान से बात करने का फैसला लिया। बातचीत में वो अपनी बात पर अडिग रहे। पूछा गया, बच्चों का क्या होगा तो सीधे जवाब में बोले-जब शहीदों के बच्चे जिंदगी को जीना सीख रहे हैं तो उनके बच्चे भी सीख ही लेंगे। उन्होंने कहा कि लोहा ही लोहे को काटता है। अगर आतंकी यह समझते हैं कि मानव बम से हिन्दुस्तान को चोट पहुंचाई जा सकती है तो हम भी यही करने को तैयार हैं।
उल्लेखनीय है कि नौजवान गुलशन अहमद के पिता महरूम गफूर अहमद भी शहर की एक अलग ही शख्सियत थे। 26 जनवरी को कारमल कान्वेंट स्कूल के परिसर में गुलशन अहमद ने छात्रों की मानव श्रृंखला बनवाकर जयहिन्द का नारा व भारत का मानचित्र इतनी खूबसूरती से उकेरा था कि सोशल मीडिया में इसे देखने वाले दंग रह गए। समाज में अलग तरीके के कार्य करने को लेकर गुलशन अहमद विशेष पहचान रखते हैं।

पेशे से शारीरिक शिक्षक गुलशन अहमद ने अपने बूते ही शहर की धरोहर शांति संगम को भी सहेजने का बीड़ा उठाया हुआ है। मुस्लिम-हिन्दू-सिख-ईसाई की आस्था का प्रतीक लखदाता पीर की इस परिवार पर मेहर है, यही परिवार इस स्थान की देखभाल की जिम्मेदारी पीढ़ी दर पीढ़ी उठाता आ रहा है। अपने कॉलेज समय में गुलशन अहमद एनसीसी के पलाटून कमांडर भी रह चुके हैं। यहीं से उन्होंने देशभक्ति का ककहरा सीखा।

Comments

Popular posts from this blog

मकर संक्रांति 2021 तिथि, शुभ मुहूर्त | मकर संक्रांति क्यों मनाई जाती है?

मकर संक्रांति मकर संक्रांति  का भारतीय धार्मिक परम्परा में विशेष महत्व है, क्योंकि इस दिन सूर्य धनु राशि को छोड़ कर मकर राशि में प्रवेश कर उत्तरायण में आता है। शास्त्रों के अनुसार यह सकारात्मक ऊर्जा का प्रतीक है और इसीलिए इस दिन जप, तप, दान, स्नान का विशेष महत्व है।  मकर संक्रांति  परंपरागत रूप से 14 जनवरी या 15 जनवरी को मनाई जाती आ रही है।  मकर संक्रांति  में ‘मकर’ शब्द मकर राशि को इंगित करता है जबकि ‘संक्रांति’ का अर्थ संक्रमण अर्थात प्रवेश करना है।  मकर संक्रांति  के दिन सूर्य धनु राशि से मकर राशि में प्रवेश करता है। एक राशि को छोड़कर दूसरे में प्रवेश करने की इस विस्थापन क्रिया को संक्रांति कहते हैं। शास्त्रों के नियम के अनुसार रात में संक्रांति होने पर अगले दिन भी संक्रांति मनाई जाती है। मकर संक्रांति  के दिन सूर्य दक्षिणायन से अपनी दिशा बदलकर उत्तरायण हो जाता है अर्थात सूर्य उत्तर दिशा की ओर बढ़ने लगता है, जिससे दिन की लंबाई बढ़नी और रात की लंबाई छोटी होनी शुरू हो जाती है। भारत में इस दिन से बसंत ऋतु की शुरुआत मानी जाती है। अत:  मकर संक्रांति  को उत्तरायण के नाम से भी जाना जाता है। तम

रफत वारसी भाजपा अल्पसंख्यक मोर्चा प्रदेश अध्यक्ष बनाये गए

मध्य प्रदेश भाजपा अल्पसंख्यक मोर्चे की जवाबदारी प्रदेश के  युवा व वरिष्ठ नेता श्री रफत वारसी के हाथों में  मध्य प्रदेश भाजपा प्रदेश अध्यक्ष श्री विष्णु दत्त शर्मा ने मध्य प्रदेश के भाजपा संगठन का विस्तार किया है जिसमें मोर्चे के नए प्रदेश अध्यक्षों की भी नियुक्ति की गई है जिसमें मध्य प्रदेश के वरिष्ठ व युवा नेता श्री रफत वारसी को भाजपा अल्पसंख्यक मोर्चा का प्रदेश अध्यक्ष बनाकर भाजपा अल्पसंख्यक मोर्चा की जवाबदारी सौंपी गई है श्री रफत वारसी मध्यप्रदेश में एक उभरते हुए अल्पसंख्यक चेहरे है और भाजपा आलाकमान ने नए चेहरे के रूप में श्री वारसी साहब को यह नई जवाबदारी सौंपी है जिससे मध्य प्रदेश में भाजपा अल्पसंख्यक मोर्चा और मजबूत होने की संभावना बढ़ गई है वर्तमान में भाजपा अल्पसंख्यक मोर्चा में नई और युवा पीढ़ी के लोग अधिकतर काम कर रहे हैं और वारसी साहब के प्रदेश अध्यक्ष बनाए जाने से इसमें और अधिक वृद्धि होगी क्योंकि नए प्रदेश अध्यक्ष श्री वारसी साहब मध्यप्रदेश में अल्पसंख्यक समाज में अपनी गहरी पैठ रखते हैं उनके प्रदेश अध्यक्ष बनाए जाने से भारतीय जनता पार्टी अल्पसंख्यक मोर्चा बेहतर

शहीद हसमत वारसी जी के सुपुत्र रफत वारसी को मिला प्रदेश में महत्वपूर्ण पद

    शहीद हसमत वारसी जी  के सुपुत्र रफत वारसी को मिला प्रदेश में महत्वपूर्ण  पद          वी डी शर्मा जी ने गले लगा कर दी बधाई      मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान जी से आशीर्वाद लेते हुए       वी डी  शर्मा जी भाजपा प्रदेश अध्यक्ष  ने दिया आशीर्वाद          अपनी माँ परवीन वारसी जी से दुआयें  लेते हुए रफत वारसी ने किया पदभार ग्रहण 17 जनवरी 2021 को भाजपा अल्पसंख्यक मोर्चा के नव नियुक्त प्रदेश अध्यक्ष रफत वारसी ने किया पदभार ग्रहण रफत वारसी ने कहा मुस्लिम समाज में कई तरह के भ्रम हैँ जिन्हे दूर करने के लिए एक दल के साथ पुरे प्रदेश का भ्रमण करेंगे ! साथ ही उन्होंने पदभार ग्रहण में आये हुए  सभी  साथियों का तहे दिल से शुक्रिया  अदा किआ 

SHOP WITH US Apparel & Accessories