Skip to main content

Mp election results 2018 : मुरैना में कांग्रेस ने सभी सीटें जीती,मोदी और भाजपा में हडक़ंप,ऐसे चला सिंधिया फैक्टर



Published On: 
Dec, 12 2018

MORENA, MORENA, MADHYA PRADESH, INDIA

Mp election results 2018 : मुरैना में कांग्रेस ने सभी सीटें जीती,मोदी और भाजपा में हडक़ंप,ऐसे चला सिंधिया फैक्टर


मुरैना। ग्वालियर चंबल संभाग में सिंधिया का जादू लोगों के सिर चढकऱ बोला और जनता ने चंबल अचल में कांग्रेस को 34 सीटों में 26 सीटों पर जीत दिला दी। यहां कांग्रेस ने इतिहास रचते हुए जिले की सभी छह विधानसभा सीटों पर परचम लहरा दिया। जिले में कांग्रेस की सबसे बड़ी जीत मुरैना विधानसभा क्षेत्र में हुई है। कांग्रेस ने मप्र शासन में लोक स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्री रुस्तम सिंह को 21450 मतों से पराजित किया है। इससे यह माना जा रहा है कि भाजपा को जितना बड़ा नेता उसकी उतनी ही बड़ी हार हुई है।

 

मुरैना की सीट पर अंचल के अलावा पूरे प्रदेश की नजर थी। लेकिन मतगणना शुरू होने के साथ ही कांग्रेस ने बढ़त बनाना शुरू किया और यह सिलसिला अंत तक जारी रहा। मुरैना से कांग्रेस प्रत्याशी रघुराज सिंह कंषाना को रिकॉर्ड 64 हजार 157 वोट मिले में हैं।

 

वहीं दिमनी में भी कांग्रेस के गिर्राज डंडोतिया को 64870 हैं जिले में किसी भी प्रत्याशी को मिले मतों की तुलना में सर्वाधिक हैं। डंडोतिया ने भाजपा के शिवमंगल सिंज तोमर (45784) को 19094 मतों के अंतर से पराजित कर जिले की दूसरी सबसे बड़ी जीत दर्ज की है। सुमावली विधानसभा क्षेत्र में भी कांग्रेस उम्मीदवार ऐंदल सिंह कंषाना ने 61 हजार 431 मत प्राप्त कर भाजपा के अजब सिंह कुशवाह को 13842 मतों के अंतर से हराया है। भाजपा को यहां 47589 वोट मिले हैं। अंबाह के परिणाम सर्वाधिक चौंकाने वाले रहे।

 

यहां से कांग्रेस के कमलेश जाटव 37343 मत प्राप्त कर 7547 मतों से विजेता तो रहे लेकिन भाजपा को तीसरे और बसपा को चौथे नंबर पर धकेलकर नेहा किन्नर 29796 मतों के साथ दूसरे, भाजपा के गब्बर सखवार 28 हजार 372 मतों के साथ तीसरे और निवर्तमान विधायक सत्यप्रकाश सखवार 21 हजार 728 मतों के साथ चौथे स्थान पर रहे। सबलगढ़ में कांग्रेस के बैजनाथ कुशवाह 54 हजार 606 मत प्राप्त करके 8737 मतों के अंतर से चुनाव जीते वहीं बसपा लाल सिंह केवट 45 हजार 869 मत प्राप्त करके दूसरे और तीसरे पर भाजपा से सरला रावत को 45 हजार 106 मत मिले। वहीं जौरा में कांग्रेस के बनवारीलाल शर्मा ने 54 हजार 230 मत प्राप्त करके 17 हजार 721 मतों से जीत हासिल की। दूसरे स्थान पर बसपा के मनीराम धाकड़ 39 हजार 417 मतों के साथ और तीसरे पर भाजपा के निवर्तमान विधायक सूबेदार ङ्क्षसह 36 हजार 511 मतों के साथ रहे।

ग्वालियर चंबल संभाग में सिंधिया का जाूद 
ग्वालियर की छह में पांच पर कांग्रेस की जीत
मुरैना की छह में से छह पर कांग्रेस की जीत
भिण्ड की पांच में तीन पर कांग्रेस की जीत
शिवपुरी की पांच से तीन पर कांग्रेस की जीत
श्योपुर की दो में से एक पर कांग्रेस की जीत
गुना की चार में से तीन पर कांग्रेस की जीत
अशोकनगर की तीन में तीन पर कांग्रेस की जीत
दतिया की तीन में से दो पर कांग्रेस की जीत

 

भाजपा से चार, और बसपा से छीनी दो सीटें
कांग्रेस ने चार सीटें भाजपा से और दो बसपा से छीनी हैं। जौरा में भाजपा के निवर्तमान विधायक सूबेदार सिंह रजौधा और सबलगढ़ में निवर्तमान विधायक मेहरबान सिंह रावत की बहू सरला रावत तीसरे स्थान पर खिसक गए। अंबाह में भी दूसरे से इस चुनाव में भाजपा तीसरे स्थान पर चली गई। जिले में भाजपा शर्मनाक हार के बाद सोशल मीडिया पर संगठन और पार्टी के बड़े नेताओं की नेतृत्व क्षमता पर सवाल उठने लगे हैं।

 

इसमें केंद्रीय मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर और जिलाध्यक्ष सहित कथित तौर से वोटों की ठेकेदारी करने नेताओं पर इशारा किया गया है। भाजपा के नेता इस हार के बाद यह कहने लगे हैं कि इसमें एट्रोसिटी एक्ट एक बड़ा मुद्दा रहा है। वहीं टिकट चयन में भी गड़बडिय़ां इसका कारण मानी जा रही हैं।

 

बढ़त मिलते ही कांग्रेसी हुए जमा, भाजपाई खिसकी
जिले में भाजपा की हार का अनुमान सभी को था, लेकिन ऐसी हार की उम्मीद बहुत कम लोगों को थी। इसलिए सबलगढ़ में जब भाजपा आगे चली तो लगा कि यहां सीट आ सकती है। सुमावली में भी कुछ समय तक ज्यादा अंतर नहीं था, लेकिन बाद में पिछडऩा शुरू हुआ तो कही आगे नहीं आ पाई। उधर दिमनी से कांग्रेस के गिर्राज डंडोतिया और मुरैना से रघुराज सिंह कंषाना के समर्थक मतगणना स्थल के बाहर नारेबाजी के साथ हंगामा करने लगे तो पुलिस को लाठियां चमकानी पड़ीं। इससे भगदड़ मचती रही।

Comments

Popular posts from this blog

मकर संक्रांति 2021 तिथि, शुभ मुहूर्त | मकर संक्रांति क्यों मनाई जाती है?

मकर संक्रांति मकर संक्रांति  का भारतीय धार्मिक परम्परा में विशेष महत्व है, क्योंकि इस दिन सूर्य धनु राशि को छोड़ कर मकर राशि में प्रवेश कर उत्तरायण में आता है। शास्त्रों के अनुसार यह सकारात्मक ऊर्जा का प्रतीक है और इसीलिए इस दिन जप, तप, दान, स्नान का विशेष महत्व है।  मकर संक्रांति  परंपरागत रूप से 14 जनवरी या 15 जनवरी को मनाई जाती आ रही है।  मकर संक्रांति  में ‘मकर’ शब्द मकर राशि को इंगित करता है जबकि ‘संक्रांति’ का अर्थ संक्रमण अर्थात प्रवेश करना है।  मकर संक्रांति  के दिन सूर्य धनु राशि से मकर राशि में प्रवेश करता है। एक राशि को छोड़कर दूसरे में प्रवेश करने की इस विस्थापन क्रिया को संक्रांति कहते हैं। शास्त्रों के नियम के अनुसार रात में संक्रांति होने पर अगले दिन भी संक्रांति मनाई जाती है। मकर संक्रांति  के दिन सूर्य दक्षिणायन से अपनी दिशा बदलकर उत्तरायण हो जाता है अर्थात सूर्य उत्तर दिशा की ओर बढ़ने लगता है, जिससे दिन की लंबाई बढ़नी और रात की लंबाई छोटी होनी शुरू हो जाती है। भारत में इस दिन से बसंत ऋतु की शुरुआत मानी जाती है। अत:  मकर संक्रांति  को उत्तरायण के नाम से भी जाना जाता है। तम

रफत वारसी भाजपा अल्पसंख्यक मोर्चा प्रदेश अध्यक्ष बनाये गए

मध्य प्रदेश भाजपा अल्पसंख्यक मोर्चे की जवाबदारी प्रदेश के  युवा व वरिष्ठ नेता श्री रफत वारसी के हाथों में  मध्य प्रदेश भाजपा प्रदेश अध्यक्ष श्री विष्णु दत्त शर्मा ने मध्य प्रदेश के भाजपा संगठन का विस्तार किया है जिसमें मोर्चे के नए प्रदेश अध्यक्षों की भी नियुक्ति की गई है जिसमें मध्य प्रदेश के वरिष्ठ व युवा नेता श्री रफत वारसी को भाजपा अल्पसंख्यक मोर्चा का प्रदेश अध्यक्ष बनाकर भाजपा अल्पसंख्यक मोर्चा की जवाबदारी सौंपी गई है श्री रफत वारसी मध्यप्रदेश में एक उभरते हुए अल्पसंख्यक चेहरे है और भाजपा आलाकमान ने नए चेहरे के रूप में श्री वारसी साहब को यह नई जवाबदारी सौंपी है जिससे मध्य प्रदेश में भाजपा अल्पसंख्यक मोर्चा और मजबूत होने की संभावना बढ़ गई है वर्तमान में भाजपा अल्पसंख्यक मोर्चा में नई और युवा पीढ़ी के लोग अधिकतर काम कर रहे हैं और वारसी साहब के प्रदेश अध्यक्ष बनाए जाने से इसमें और अधिक वृद्धि होगी क्योंकि नए प्रदेश अध्यक्ष श्री वारसी साहब मध्यप्रदेश में अल्पसंख्यक समाज में अपनी गहरी पैठ रखते हैं उनके प्रदेश अध्यक्ष बनाए जाने से भारतीय जनता पार्टी अल्पसंख्यक मोर्चा बेहतर

शहीद हसमत वारसी जी के सुपुत्र रफत वारसी को मिला प्रदेश में महत्वपूर्ण पद

    शहीद हसमत वारसी जी  के सुपुत्र रफत वारसी को मिला प्रदेश में महत्वपूर्ण  पद          वी डी शर्मा जी ने गले लगा कर दी बधाई      मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान जी से आशीर्वाद लेते हुए       वी डी  शर्मा जी भाजपा प्रदेश अध्यक्ष  ने दिया आशीर्वाद          अपनी माँ परवीन वारसी जी से दुआयें  लेते हुए रफत वारसी ने किया पदभार ग्रहण 17 जनवरी 2021 को भाजपा अल्पसंख्यक मोर्चा के नव नियुक्त प्रदेश अध्यक्ष रफत वारसी ने किया पदभार ग्रहण रफत वारसी ने कहा मुस्लिम समाज में कई तरह के भ्रम हैँ जिन्हे दूर करने के लिए एक दल के साथ पुरे प्रदेश का भ्रमण करेंगे ! साथ ही उन्होंने पदभार ग्रहण में आये हुए  सभी  साथियों का तहे दिल से शुक्रिया  अदा किआ 

SHOP WITH US Apparel & Accessories