Skip to main content

एसआर मोहंती बने एमपी के नए मुख्य सचिव, बीपी सिंह राज्य निर्वाचन आयोग के आयुक्त नियुक्त


Published On: 
Dec, 31 2018 HOPAL, BHOPAL, MADHYA PRADESH, INDIA


एसआर मोहंती बने एमपी के नए मुख्य सचिव, बीपी सिंह राज्य निर्वाचन आयोग के आयुक्त नियुक्त


भोपाल. मध्यप्रदेश के मुख्य सचिव बसंत प्रताप सिंह के रिटायर होने के बाद एसआर मोहंती को मध्यप्रदेश का नया मुख्य सचिव निर्वाचित किया गया है। एसआर मोहंती अभी माध्यमिक शिक्षा मंडल के अध्यक्ष थे। 1982 बैच के आईएएस अधिकारी एसआर मोहंती बसंत प्रताप सिंह से सीनियर थे। वहीं, बीपी सिंह को मध्यप्रदेश राज्य निर्वाचन आयोग का आयुक्त नियुक्त किया गया है। बीपी सिंह एक जनवरी से अपना कार्यकाल संभालेंगे। इसके साथ ही भारतीय प्रशासनिक सेवा के 1988 बैच के अधिकारी आईसीपी केशरी अपर मुख्य सचिव ऊर्जा विभाग तथा आवासीय आयुक्त मध्यप्रदेश भवन ,नई दिल्ली (अतिरिक्त प्रभार) बनाए गए हैं।

 

कौन हैं एसआर मोहंती
भाजपा सरकार में लंबे समय से प्रशासनिक वनवास झेल रहे मोहंती को कांग्रेस सरकार आने का फायदा मिला। मुख्यमंत्री कमलनाथ ने शुक्रवार को ही उनकी नियुक्ति की फाइल पर हस्ताक्षर कर दिए थे। भाजपा सरकार में उन्हें एक पुरानी ईओडब्ल्यू जांच के चलते नुकसान उठाना पड़ा था। हाल ही में क्लीनचिट मिलने के बाद वे वापस मुख्य सचिव पद की दौड़ में शामिल हो गए थे। उन्हें पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह और मुख्यमंत्री कमलनाथ का करीबी माना जाता है। इसलिए कांग्रेस सरकार आने के बाद दोनों ने मोहंती को उनका छीना हुआ अधिकार देना तय किया।

आखिर मोहंती क्यों?
मोहंती को प्रशासनिक कामकाज के लिए बेहतर अफसर माना जाता है। उनके विजन और कार्यप्रणाली को अफसरशाही में अक्सर सराहा जाता रहा है। जिन विभागों में वे रहे, वहां बेहतर काम हुए। प्रशासनिक पकड़ के कारण उनका चयन हुआ।

ये थे अटकने के कारण
दिग्विजय सरकार में उद्योगों को कर्ज देने के आइएसडीसी घोटाला प्रकरण में उन पर ईओडब्ल्यू जांच चल रही थी। भाजपा सरकार ने उन्हें कांग्रेस का करीबी मानते हुए मुख्य सचिव पद के लिए सही नहीं माना था। तब उनकी जांच में भी तेजी आई। उनके खिलाफ चालान भी पेश किए गए। बाद में जब बीपी सिंह मुख्य सचिव बने तो उन्हें मंत्रालय से बाहर भेज दिया गया।

ऐसा रहा प्रोफाइल
तीन जिलों में कलेक्टर रहे। बालाघाट, सतना व इंदौर। जनसम्पर्क आयुक्त, एमडी मार्कफेड, महिला बाल विकास, चिकित्सा शिक्षा, वित्त निगम, स्वास्थ्य, योजना आयोग, स्कूल शिक्षा आदि विभागों में विभिन्न पदों पर रहे।

Comments

Popular posts from this blog

मकर संक्रांति 2021 तिथि, शुभ मुहूर्त | मकर संक्रांति क्यों मनाई जाती है?

मकर संक्रांति मकर संक्रांति  का भारतीय धार्मिक परम्परा में विशेष महत्व है, क्योंकि इस दिन सूर्य धनु राशि को छोड़ कर मकर राशि में प्रवेश कर उत्तरायण में आता है। शास्त्रों के अनुसार यह सकारात्मक ऊर्जा का प्रतीक है और इसीलिए इस दिन जप, तप, दान, स्नान का विशेष महत्व है।  मकर संक्रांति  परंपरागत रूप से 14 जनवरी या 15 जनवरी को मनाई जाती आ रही है।  मकर संक्रांति  में ‘मकर’ शब्द मकर राशि को इंगित करता है जबकि ‘संक्रांति’ का अर्थ संक्रमण अर्थात प्रवेश करना है।  मकर संक्रांति  के दिन सूर्य धनु राशि से मकर राशि में प्रवेश करता है। एक राशि को छोड़कर दूसरे में प्रवेश करने की इस विस्थापन क्रिया को संक्रांति कहते हैं। शास्त्रों के नियम के अनुसार रात में संक्रांति होने पर अगले दिन भी संक्रांति मनाई जाती है। मकर संक्रांति  के दिन सूर्य दक्षिणायन से अपनी दिशा बदलकर उत्तरायण हो जाता है अर्थात सूर्य उत्तर दिशा की ओर बढ़ने लगता है, जिससे दिन की लंबाई बढ़नी और रात की लंबाई छोटी होनी शुरू हो जाती है। भारत में इस दिन से बसंत ऋतु की शुरुआत मानी जाती है। अत:  मकर संक्रांति  को उत्तरायण के नाम से भी जाना जाता है। तम

रफत वारसी भाजपा अल्पसंख्यक मोर्चा प्रदेश अध्यक्ष बनाये गए

मध्य प्रदेश भाजपा अल्पसंख्यक मोर्चे की जवाबदारी प्रदेश के  युवा व वरिष्ठ नेता श्री रफत वारसी के हाथों में  मध्य प्रदेश भाजपा प्रदेश अध्यक्ष श्री विष्णु दत्त शर्मा ने मध्य प्रदेश के भाजपा संगठन का विस्तार किया है जिसमें मोर्चे के नए प्रदेश अध्यक्षों की भी नियुक्ति की गई है जिसमें मध्य प्रदेश के वरिष्ठ व युवा नेता श्री रफत वारसी को भाजपा अल्पसंख्यक मोर्चा का प्रदेश अध्यक्ष बनाकर भाजपा अल्पसंख्यक मोर्चा की जवाबदारी सौंपी गई है श्री रफत वारसी मध्यप्रदेश में एक उभरते हुए अल्पसंख्यक चेहरे है और भाजपा आलाकमान ने नए चेहरे के रूप में श्री वारसी साहब को यह नई जवाबदारी सौंपी है जिससे मध्य प्रदेश में भाजपा अल्पसंख्यक मोर्चा और मजबूत होने की संभावना बढ़ गई है वर्तमान में भाजपा अल्पसंख्यक मोर्चा में नई और युवा पीढ़ी के लोग अधिकतर काम कर रहे हैं और वारसी साहब के प्रदेश अध्यक्ष बनाए जाने से इसमें और अधिक वृद्धि होगी क्योंकि नए प्रदेश अध्यक्ष श्री वारसी साहब मध्यप्रदेश में अल्पसंख्यक समाज में अपनी गहरी पैठ रखते हैं उनके प्रदेश अध्यक्ष बनाए जाने से भारतीय जनता पार्टी अल्पसंख्यक मोर्चा बेहतर

शहीद हसमत वारसी जी के सुपुत्र रफत वारसी को मिला प्रदेश में महत्वपूर्ण पद

    शहीद हसमत वारसी जी  के सुपुत्र रफत वारसी को मिला प्रदेश में महत्वपूर्ण  पद          वी डी शर्मा जी ने गले लगा कर दी बधाई      मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान जी से आशीर्वाद लेते हुए       वी डी  शर्मा जी भाजपा प्रदेश अध्यक्ष  ने दिया आशीर्वाद          अपनी माँ परवीन वारसी जी से दुआयें  लेते हुए रफत वारसी ने किया पदभार ग्रहण 17 जनवरी 2021 को भाजपा अल्पसंख्यक मोर्चा के नव नियुक्त प्रदेश अध्यक्ष रफत वारसी ने किया पदभार ग्रहण रफत वारसी ने कहा मुस्लिम समाज में कई तरह के भ्रम हैँ जिन्हे दूर करने के लिए एक दल के साथ पुरे प्रदेश का भ्रमण करेंगे ! साथ ही उन्होंने पदभार ग्रहण में आये हुए  सभी  साथियों का तहे दिल से शुक्रिया  अदा किआ 

SHOP WITH US Apparel & Accessories