Skip to main content

पहाड़ी पर छह आतंकी हाथों में मशीन गन लेकर तेजी से बढ़ रहे थे, तभी एक किलोमीटर दूर बैठे फौजी ने उन्हें देख लिया और खतरे को भांप लिया

फौजी ने एक गोली से मार दिए 6 आतंकी, दुनियाभर में वायरल हो रही है ये कहानी

अफगानिस्तान. दुनियाभर में आर्मी के ऐसे जाबांज हैं जिनके किस्से सुनकर आपके होश उड़ जाएंगे। ऐसी ही हैरतंगेज कहानी है अमरीकी सेना के एक जवान की, जिसने एक ही गोली से एकसाथ छह आतंकियों को ढेर कर दिया था। उसने एक किलोमीटर की दूरी से आतंकियों को अपना निशाना बनाया था। 2013 मेें अफगानिस्तान में हुई इस घटना के बारे में अमरीकी सेना ने हैरान करने वाली कहानी बताई है।

- 2013 में अमरीकी सेना अफगानिस्तान में डिप्लॉय की गई थी। वहां सेना कई आतंकियों से निपटने में लगी थी। दक्षिण अफगानिस्तान के ककारन की एक पहाड़ी पर अमरीकी सेना का स्नाइपर बैठा हुआ था और करीब एक किलोमीटर की दूरी पर छह दहशतगर्द उसकी ओर बढ़ रहे थे।

फौजी की नजर में आए दहशतगर्द

- पहाड़ पर लेटे हुए स्नाइपर ने देखा कि एक आतंकी एक सुसाइड जैकेट पहना हुआ था। जवान समझ गया कि अगर उसने आतंकी को वहीं नहीं रोका तो उसके साथियों की जान खतरे में पड़ जाएगी। 20 साल के इस जवान ने देखा कि सबके हाथ में मशीन गन भी थी।

फिर एक गोली से कर दिया काम तमाम

एक्सपर्ट्स ने बताया कि इतनी दूरी से निशाना लगाना बहुत कठिन काम होता है। ये और भी ज्यादा कठिन तब हो जाता है जब टारगेट हिल रहा हो। स्नाइपर ने पूरा ध्यान केंद्रित किया और उसे एक आतंकी की जैकेट पर एक बटन नजर आ गया। स्नाइपर समझ गया कि वो बटन जैकेट में लगे बम से जुड़ा हुआ था, जिसे दबाते ही आतंक आत्मघाती हमला करता। स्नाइपर ने बिना देर किए ऐसा सटीक निशाना लगाया कि बंदूक से निकली गोली सीधे उसके बदन को चीरती हुई निकल गई। जैसे ही बटन से गोली टकराई जैकेट में धमाका हो गया और उसके साथ पांच आतंकियों के भी चीथड़े उड़ गए।

इस गन का किया था इस्तेमाल

आर्मी ने बताया कि 20 साल के फौजी ने दुनिया की सबसे ताकतवर L115A3 गन का इस्तेमाल किया था। उसने 900 मीटर यानी करीब 1 किलोमीटर की दूरी से टारगेट को मारा था। वहीं आतंकी 20 किलो का विस्फोटक अपनी जैकेट में पहना हुआ था। आर्मी ने बताया कि इस नौजवान स्नाइपर ने इससे पहले तालिबान में करीब डेढ़ किलोमीटर की दूरी से एक आतंकी को मार गिराया था।

Comments

Popular posts from this blog

मकर संक्रांति 2021 तिथि, शुभ मुहूर्त | मकर संक्रांति क्यों मनाई जाती है?

मकर संक्रांति मकर संक्रांति  का भारतीय धार्मिक परम्परा में विशेष महत्व है, क्योंकि इस दिन सूर्य धनु राशि को छोड़ कर मकर राशि में प्रवेश कर उत्तरायण में आता है। शास्त्रों के अनुसार यह सकारात्मक ऊर्जा का प्रतीक है और इसीलिए इस दिन जप, तप, दान, स्नान का विशेष महत्व है।  मकर संक्रांति  परंपरागत रूप से 14 जनवरी या 15 जनवरी को मनाई जाती आ रही है।  मकर संक्रांति  में ‘मकर’ शब्द मकर राशि को इंगित करता है जबकि ‘संक्रांति’ का अर्थ संक्रमण अर्थात प्रवेश करना है।  मकर संक्रांति  के दिन सूर्य धनु राशि से मकर राशि में प्रवेश करता है। एक राशि को छोड़कर दूसरे में प्रवेश करने की इस विस्थापन क्रिया को संक्रांति कहते हैं। शास्त्रों के नियम के अनुसार रात में संक्रांति होने पर अगले दिन भी संक्रांति मनाई जाती है। मकर संक्रांति  के दिन सूर्य दक्षिणायन से अपनी दिशा बदलकर उत्तरायण हो जाता है अर्थात सूर्य उत्तर दिशा की ओर बढ़ने लगता है, जिससे दिन की लंबाई बढ़नी और रात की लंबाई छोटी होनी शुरू हो जाती है। भारत में इस दिन से बसंत ऋतु की शुरुआत मानी जाती है। अत:  मकर संक्रांति  को उत्तरायण के नाम से भी जाना जाता है। तम

रफत वारसी भाजपा अल्पसंख्यक मोर्चा प्रदेश अध्यक्ष बनाये गए

मध्य प्रदेश भाजपा अल्पसंख्यक मोर्चे की जवाबदारी प्रदेश के  युवा व वरिष्ठ नेता श्री रफत वारसी के हाथों में  मध्य प्रदेश भाजपा प्रदेश अध्यक्ष श्री विष्णु दत्त शर्मा ने मध्य प्रदेश के भाजपा संगठन का विस्तार किया है जिसमें मोर्चे के नए प्रदेश अध्यक्षों की भी नियुक्ति की गई है जिसमें मध्य प्रदेश के वरिष्ठ व युवा नेता श्री रफत वारसी को भाजपा अल्पसंख्यक मोर्चा का प्रदेश अध्यक्ष बनाकर भाजपा अल्पसंख्यक मोर्चा की जवाबदारी सौंपी गई है श्री रफत वारसी मध्यप्रदेश में एक उभरते हुए अल्पसंख्यक चेहरे है और भाजपा आलाकमान ने नए चेहरे के रूप में श्री वारसी साहब को यह नई जवाबदारी सौंपी है जिससे मध्य प्रदेश में भाजपा अल्पसंख्यक मोर्चा और मजबूत होने की संभावना बढ़ गई है वर्तमान में भाजपा अल्पसंख्यक मोर्चा में नई और युवा पीढ़ी के लोग अधिकतर काम कर रहे हैं और वारसी साहब के प्रदेश अध्यक्ष बनाए जाने से इसमें और अधिक वृद्धि होगी क्योंकि नए प्रदेश अध्यक्ष श्री वारसी साहब मध्यप्रदेश में अल्पसंख्यक समाज में अपनी गहरी पैठ रखते हैं उनके प्रदेश अध्यक्ष बनाए जाने से भारतीय जनता पार्टी अल्पसंख्यक मोर्चा बेहतर

शहीद हसमत वारसी जी के सुपुत्र रफत वारसी को मिला प्रदेश में महत्वपूर्ण पद

    शहीद हसमत वारसी जी  के सुपुत्र रफत वारसी को मिला प्रदेश में महत्वपूर्ण  पद          वी डी शर्मा जी ने गले लगा कर दी बधाई      मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान जी से आशीर्वाद लेते हुए       वी डी  शर्मा जी भाजपा प्रदेश अध्यक्ष  ने दिया आशीर्वाद          अपनी माँ परवीन वारसी जी से दुआयें  लेते हुए रफत वारसी ने किया पदभार ग्रहण 17 जनवरी 2021 को भाजपा अल्पसंख्यक मोर्चा के नव नियुक्त प्रदेश अध्यक्ष रफत वारसी ने किया पदभार ग्रहण रफत वारसी ने कहा मुस्लिम समाज में कई तरह के भ्रम हैँ जिन्हे दूर करने के लिए एक दल के साथ पुरे प्रदेश का भ्रमण करेंगे ! साथ ही उन्होंने पदभार ग्रहण में आये हुए  सभी  साथियों का तहे दिल से शुक्रिया  अदा किआ 

SHOP WITH US Apparel & Accessories